Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Jun 2022 · 1 min read

प्यार में तुम्हें ईश्वर बना लूँ, वह मैं नहीं हूँ

माना की प्यार करते हैं
हम तुम्हे दिलो जान से।

पर प्यार में खुद को मिटा दूँ ,
वो मैं नहीं हूँ,वो मैं नही हूँ।

मैंने तो कभी प्यार में ,
कोई शर्त न रखी।

प्यार तेरे शर्तो पर कँरू
वो मैं नहीं हूँ! वो मैं नही हूँ!

रिशतों में कई बार हमारे
गिले-शिकवे आते रहे।

पर हर बात – बात पर यह जताती रहूँ ,
वो मैं नही हूँ! वो मैं नही हूँ!

माना कि प्यार को लेकर कभी
तुमसे शिकायत नहीं करती हूँ।

पर तुम्हारें नफरत को स्वीकार कर लूं
वो मैं नही हूँ ! वो मैं नही हूँ!

प्यार भले थोड़ा कम मिले
इस बात का गिला नही है मुझे।

पर प्यार मे हमें दगा मिले और वह सह लूँ।
वो मैं नहीं हूँ! वो मैं नही हूँ!

माना कि तेरे प्यार में किसी बात को
इनकार नहीं कर पाती हूँ।

पर तेरी हर बात मान लूँ,
वो मैं नही हूँ ,वो मैं नही हूँ।

माना कि तुम बहुत कुछ
हो मेरे जीवन में।

पर प्यार में ईश्वर तुम्हे बना लू,
वो मैं नहीं हूँ ,वो मै नही हूँ।

माना कि तेरा सपना
मेरा भी सपना हैं।

पर अपने सपनों को भूला दूँ ,
वो मैं नही हूँ ! वो मैं नही हूँ!

~अनामिका

7 Likes · 10 Comments · 288 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
इश्क़ के समंदर में
इश्क़ के समंदर में
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
होता अगर मैं एक शातिर
होता अगर मैं एक शातिर
gurudeenverma198
ऐसा तूफान उत्पन्न हुआ कि लो मैं फँस गई,
ऐसा तूफान उत्पन्न हुआ कि लो मैं फँस गई,
नव लेखिका
*वहीं पर स्वर्ग है समझो, जहाँ सम्मान नारी का 【मुक्तक】*
*वहीं पर स्वर्ग है समझो, जहाँ सम्मान नारी का 【मुक्तक】*
Ravi Prakash
कुछ बीते हुए पल -बीते हुए लोग जब कुछ बीती बातें
कुछ बीते हुए पल -बीते हुए लोग जब कुछ बीती बातें
Atul "Krishn"
जय श्री राम
जय श्री राम
Neha
💐अज्ञात के प्रति-5💐
💐अज्ञात के प्रति-5💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
तू क्यों रोता है
तू क्यों रोता है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
विष्णु प्रभाकर जी रहे,
विष्णु प्रभाकर जी रहे,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
धड़कनो की रफ़्तार यूँ तेज न होती, अगर तेरी आँखों में इतनी दी
धड़कनो की रफ़्तार यूँ तेज न होती, अगर तेरी आँखों में इतनी दी
Vivek Pandey
शून्य से अनन्त
शून्य से अनन्त
The_dk_poetry
मोह मोह के चाव में
मोह मोह के चाव में
Harminder Kaur
जब आपके आस पास सच बोलने वाले न बचे हों, तो समझिए आस पास जो भ
जब आपके आस पास सच बोलने वाले न बचे हों, तो समझिए आस पास जो भ
Sanjay ' शून्य'
"बाजरे का जायका"
Dr Meenu Poonia
13-छन्न पकैया छन्न पकैया
13-छन्न पकैया छन्न पकैया
Ajay Kumar Vimal
अब ना जीना किश्तों में।
अब ना जीना किश्तों में।
Taj Mohammad
चंदा मामा सुनो ना मेरी बात 🙏
चंदा मामा सुनो ना मेरी बात 🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
माँ
माँ
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
रमेशराज के विरोधरस के दोहे
रमेशराज के विरोधरस के दोहे
कवि रमेशराज
विश्वकप-2023 टॉप स्टोरी
विश्वकप-2023 टॉप स्टोरी
World Cup-2023 Top story (विश्वकप-2023, भारत)
ये भावनाओं का भंवर है डुबो देंगी
ये भावनाओं का भंवर है डुबो देंगी
ruby kumari
■ कविता / अंतरिक्ष
■ कविता / अंतरिक्ष
*Author प्रणय प्रभात*
बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ
बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ
साहित्य गौरव
"मैं" के रंगों में रंगे होते हैं, आत्मा के ये परिधान।
Manisha Manjari
जनम-जनम के साथ
जनम-जनम के साथ
Shekhar Chandra Mitra
"कहानी अउ जवानी"
Dr. Kishan tandon kranti
जितना तुझे लिखा गया , पढ़ा गया
जितना तुझे लिखा गया , पढ़ा गया
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
जिसकी याद में हम दीवाने हो गए,
जिसकी याद में हम दीवाने हो गए,
Slok maurya "umang"
जीवन का हर वो पहलु सरल है
जीवन का हर वो पहलु सरल है
'अशांत' शेखर
रहस्य-दर्शन
रहस्य-दर्शन
Mahender Singh Manu
Loading...