Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Nov 2023 · 1 min read

प्यार का उपहार तुमको मिल गया है।

प्यार का उपहार तुमको मिल गया है।
जिन्दगी का सार तुमको मिल गया है।
बांटकर इसको सुपथ पर बढ़ चलो अब।
है यही सुविचार तुमको मिल गया है।
~~~~~~~~~~~~~
-सुरेन्द्रपाल वैद्य, २२/११/२०२३

1 Like · 1 Comment · 111 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from surenderpal vaidya
View all
You may also like:
कामयाबी का
कामयाबी का
Dr fauzia Naseem shad
*सपनों का बादल*
*सपनों का बादल*
Poonam Matia
प्रेम और घृणा दोनों ऐसे
प्रेम और घृणा दोनों ऐसे
Neelam Sharma
*सुख-दुख के दोहे*
*सुख-दुख के दोहे*
Ravi Prakash
■ आज की बात
■ आज की बात
*Author प्रणय प्रभात*
दिन सुहाने थे बचपन के पीछे छोड़ आए
दिन सुहाने थे बचपन के पीछे छोड़ आए
Er. Sanjay Shrivastava
फलसफ़ा
फलसफ़ा
Atul "Krishn"
माँ का प्यार है अनमोल
माँ का प्यार है अनमोल
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
উত্তর দাও পাহাড়
উত্তর দাও পাহাড়
Arghyadeep Chakraborty
💐Prodigy Love-34💐
💐Prodigy Love-34💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
अब तो रिहा कर दो अपने ख्यालों
अब तो रिहा कर दो अपने ख्यालों
शेखर सिंह
गोरे तन पर गर्व न करियो (भजन)
गोरे तन पर गर्व न करियो (भजन)
Khaimsingh Saini
अच्छे दामों बिक रहे,
अच्छे दामों बिक रहे,
sushil sarna
जब असहिष्णुता सर पे चोट करती है ,मंहगाईयाँ सर चढ़ के जब तांडव
जब असहिष्णुता सर पे चोट करती है ,मंहगाईयाँ सर चढ़ के जब तांडव
DrLakshman Jha Parimal
हूँ   इंसा  एक   मामूली,
हूँ इंसा एक मामूली,
Satish Srijan
अयोध्या धाम तुम्हारा तुमको पुकारे
अयोध्या धाम तुम्हारा तुमको पुकारे
Harminder Kaur
భరత మాతకు వందనం
భరత మాతకు వందనం
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
*
*"मुस्कराहट"*
Shashi kala vyas
परिवार के लिए
परिवार के लिए
Dr. Pradeep Kumar Sharma
जय बोलो मानवता की🙏
जय बोलो मानवता की🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
चाहे हमको करो नहीं प्यार, चाहे करो हमसे नफ़रत
चाहे हमको करो नहीं प्यार, चाहे करो हमसे नफ़रत
gurudeenverma198
दिल से
दिल से
DR ARUN KUMAR SHASTRI
जिंदगी भर किया इंतजार
जिंदगी भर किया इंतजार
पूर्वार्थ
न ख्वाबों में न ख्यालों में न सपनों में रहता हूॅ॑
न ख्वाबों में न ख्यालों में न सपनों में रहता हूॅ॑
VINOD CHAUHAN
नफ़रत कि आग में यहां, सब लोग जल रहे,
नफ़रत कि आग में यहां, सब लोग जल रहे,
कुंवर तुफान सिंह निकुम्भ
Few incomplete wishes💔
Few incomplete wishes💔
Vandana maurya
" वो क़ैद के ज़माने "
Chunnu Lal Gupta
जितना तुझे लिखा गया , पढ़ा गया
जितना तुझे लिखा गया , पढ़ा गया
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
"बरसाने की होली"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
कर क्षमा सब भूल मैं छूता चरण
कर क्षमा सब भूल मैं छूता चरण
Basant Bhagawan Roy
Loading...