Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings
Jul 26, 2016 · 1 min read

पोशीदा बातों को

पोशीदा बातों को सुर्खियां बनाते हैं
लोग कैसी कैसी ये कहानियां बनाते हैं

जिनमें मेरे ख़्वाबों का नूर जगमगाता है
वो मेरे आँसू इक कहकशां बनाते हैं

फ़ासला नहीं रक्खा जब बनाने वाले ने
क्यों ये दूरियां फिर हम दरमियां बनाते हैं

फूल उनकी बातों से किस तरह झरें बोलो
जो सहन में काँटों से गुलसितां बनाते है

जब नदीश जलाती है धूप इस ज़माने की
हम तुम्हारी यादों से सायबां बनाते हैं

© लोकेश नदीश

2 Comments · 175 Views
You may also like:
मेरा गांव
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
"वो पिता मेरे, मै बेटी उनकी"
रीतू सिंह
" मां" बच्चों की भाग्य विधाता
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
टूटा हुआ दिल
Anamika Singh
हे पिता,करूँ मैं तेरा वंदन
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
जो दिल ओ ज़ेहन में
Dr fauzia Naseem shad
माँ की याद
Meenakshi Nagar
बुद्ध या बुद्धू
Priya Maithil
पितृ स्वरूपा,हे विधाता..!
मनोज कर्ण
✍️आज के युवा ✍️
Vaishnavi Gupta
आपसा हम जो दिल
Dr fauzia Naseem shad
उफ ! ये गर्मी, हाय ! गर्मी / (गर्मी का...
ईश्वर दयाल गोस्वामी
"भोर"
Ajit Kumar "Karn"
# पिता ...
Chinta netam " मन "
बेटी को जन्मदिन की बधाई
लक्ष्मी सिंह
पिता
Saraswati Bajpai
चलो एक पत्थर हम भी उछालें..!
मनोज कर्ण
हम और तुम जैसे…..
Rekha Drolia
रावण - विभीषण संवाद (मेरी कल्पना)
Anamika Singh
The Buddha And His Path
Buddha Prakash
धरती की अंगड़ाई
श्री रमण 'श्रीपद्'
इन्सानियत ज़िंदा है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
सोलह शृंगार
श्री रमण 'श्रीपद्'
पापा क्यूँ कर दिया पराया??
Sweety Singhal
नदी की पपड़ी उखड़ी / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
श्रम पिता का समाया
शेख़ जाफ़र खान
जय जय भारत देश महान......
Buddha Prakash
आदमी कितना नादान है
Ram Krishan Rastogi
दिल में बस जाओ तुम
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
पिता
Dr.Priya Soni Khare
Loading...