Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Aug 2021 · 2 min read

*** पेड़ : अब किसे लिखूँ अपनी अरज….!! ***

* घने आबादी के घेरे ,
तेरे कुल्हाड़ी के ज़ोर प्रहार ;
मेरे तन-मन और अंग-अंग को ,
कर गए कमजोर ।
तू है शायद…!
विकास के कुछ नशे में ,
तू है शायद…!
औद्योगिक प्रगति के कुछ कश्मकश में ।
तभी तो मेरा साथ छोड़ गए हो ,
मुझसे मेरा ही परिवार , तोड़ गए हो ।
कभी मेरे घर में (जंगल में ) ,
आग लगा देते हो ;
कभी मेरे हिस्से की जमीन भी (भू-माफियाओं का दोहन) , काट खा जाते हो ।
कभी मेरे अंग के हिस्से ,
फूल और फल तोड़ जाते हो ।
देख तेरे खुशी की मुस्कान ,
मैं सब दुःख-दर्द भूल जाता हूँ ।
तेरे खुशियों की चमक को ही ,
मैं हर ग़म की मरहम समझ जाता हूँ ।
पर…..
आज हूँ मैं तेरा ही शिकार ,
क्यों है..? तेरे कृत्य का मुझ पर प्रहार ।
जब कभी आती है तुम पर संकट कोई ,
मंदिर में घंटा बजा जाते हो ।
मस्जिद में नमाज़ ,
गुरुद्वारा में गुरू ग्रंथ पढ़ कर आ जाते हो ।
अपनी-अपनों की रक्षा में ,
चर्च जा ‘save me God , save me God ‘
कह जाते हो ।
और तुम खुद शिकारी बनकर….
अब कहते हो कि..
हवाओं में ज़हर घुल गया है ,
अब कहते हो कि….
देखो प्रकृति में भी मौसम बदल गया है ।
पर… सच कहूँ मैं …!!!
मैं या हम कभी बदले नहीं ,
तुम्ही ने हमें बिखेरा है ।
मैं या मेरा परिवार तो…!
विश्व स्वरूप का एक सेहरा है ।
आज तुम्हीं ने कुल्हाड़ी से ,
मेरे एक एक अंग को कुरेदा है ।
कहीं-कहीं जन्मों-जन्म तक साथ साथ रहेंगे ,
की बातें कह , अपने साजन-सजनी से ;
मेरे ही हृदय तल पर ,
” अपने दिल की तस्वीर ” को उकेरा है।
शायद तुम भूल गए हो….!!!
जब तुम थे निर्वस्त्र से ,
तब मेरी आंचल ही एक सहारा था ।
जब नहीं था कोई आवास तुम्हारा ,
तब भी मेरी छाया ही , तूझे सबसे प्यारा था ।
अब किसे लिखूँ मैं अपनी अर्ज़…!
अब कौन निभाएगा यहां अपना फ़र्ज़…!
अब कौन सुने मेरा फरियाद ….!!
अब कौन कहे ” तुम हो ” तो…,
ये जीवन है आबाद….!!
अब कौन कहे ” तुम हो ” तो…,
ये जीवन है आबाद….!!!

***************∆∆∆***************

* बी पी पटेल *
बिलासपुर ( छ . ग . )
२९ / ०८ / २०२१

Language: Hindi
510 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from VEDANTA PATEL
View all
You may also like:
अटल सत्य मौत ही है (सत्य की खोज)
अटल सत्य मौत ही है (सत्य की खोज)
VINOD CHAUHAN
“हिचकी
“हिचकी " शब्द यादगार बनकर रह गए हैं ,
Manju sagar
बाल कविता: चूहे की शादी
बाल कविता: चूहे की शादी
Rajesh Kumar Arjun
"अजीज"
Dr. Kishan tandon kranti
"अल्फाज दिल के "
Yogendra Chaturwedi
हिन्दू मुस्लिम करता फिर रहा,अब तू क्यों गलियारे में।
हिन्दू मुस्लिम करता फिर रहा,अब तू क्यों गलियारे में।
शायर देव मेहरानियां
इश्क चाँद पर जाया करता है
इश्क चाँद पर जाया करता है
सिद्धार्थ गोरखपुरी
GOOD EVENING....…
GOOD EVENING....…
Neeraj Agarwal
प्रश्न - दीपक नीलपदम्
प्रश्न - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
चुनिंदा अशआर
चुनिंदा अशआर
Dr fauzia Naseem shad
देश हमारा
देश हमारा
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
कभी न खत्म होने वाला यह समय
कभी न खत्म होने वाला यह समय
प्रेमदास वसु सुरेखा
मुझे तुम मिल जाओगी इतना विश्वास था
मुझे तुम मिल जाओगी इतना विश्वास था
Keshav kishor Kumar
‼️परिवार संस्था पर ध्यान ज़रूरी हैं‼️
‼️परिवार संस्था पर ध्यान ज़रूरी हैं‼️
Aryan Raj
Echoes By The Harbour
Echoes By The Harbour
Vedha Singh
* सुनो मास्क पहनो दूल्हे जी (बाल कविता)*
* सुनो मास्क पहनो दूल्हे जी (बाल कविता)*
Ravi Prakash
जो मुस्किल में छोड़ जाए वो यार कैसा
जो मुस्किल में छोड़ जाए वो यार कैसा
Kumar lalit
शांति युद्ध
शांति युद्ध
Dr.Priya Soni Khare
योग तराना एक गीत (विश्व योग दिवस)
योग तराना एक गीत (विश्व योग दिवस)
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
आदि शक्ति माँ
आदि शक्ति माँ
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
चुनना किसी एक को
चुनना किसी एक को
Mangilal 713
मन मंदिर के कोने से
मन मंदिर के कोने से
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
■ 100% यक़ीन मानिए।
■ 100% यक़ीन मानिए।
*प्रणय प्रभात*
ख़ता हुई थी
ख़ता हुई थी
हिमांशु Kulshrestha
तुझे आगे कदम बढ़ाना होगा ।
तुझे आगे कदम बढ़ाना होगा ।
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
धुन
धुन
Sangeeta Beniwal
विरोध-रस की काव्य-कृति ‘वक्त के तेवर’ +रमेशराज
विरोध-रस की काव्य-कृति ‘वक्त के तेवर’ +रमेशराज
कवि रमेशराज
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
स्त्री एक देवी है, शक्ति का प्रतीक,
स्त्री एक देवी है, शक्ति का प्रतीक,
कार्तिक नितिन शर्मा
2621.पूर्णिका
2621.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
Loading...