Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Jul 2023 · 2 min read

पेंशन

शर्म करो।
पेंशन पेंशन पेंशन, मैं यह बखूबी जानता हूं की तुमने बातें बनानी और करनी दोनों सीख ली हैं तभी तो इस जमाने में भी तुम्हारा रसूख कायम है। तुम इतने बड़े बेशर्म हो कि राष्ट्र धर्म को पेट और गरीब से जोड़कर कैसे अपना रसूख कायम रखना है, तुम जानते हो। तुम जानते हो की पेंशन उस राष्ट्र भक्ति की चेतना के लिए थी, जिसने कभी उस पेंशन से एक निवाला तक न लिया। नहीं तो भारत जैसे देश में तो पेंशन कभी नहीं होना चाहिए था। तमाम संस्कृतियों की गुलामी से त्रस्त देश में राष्ट्र वादी कहा थे, फिर भी हमारे वीर नेतृत्व को लगा की राष्ट्र बनाने के लिए ये जरूरी है सो किया। सत्तर सालों में इस पेंशन ने तुम्हे जाहिल बना दिया।

क्या तुम बताओगे कि भगत, खुदी, आजाद, विस्मिल को कौन सी पेंशन मिली और उनका परिवार क्या ले रहा, है भी की नहीं! हरामियों, तुमको आजादी ने नमक हराम बनाया है। घूस, गद्दारी, जनता को लूटने का आक्षेप लगाया है तुम्हारी अपनी आजाद जनता ने, इसका कोई उत्तर तो है नहीं तुम्हारे पास सालों, तुम्हे बस पेंशन चाहिए।

जिन परमवीर चक्रों के नाम पर तुम्हे शान शौकत की जिंदगी मिलती है क्या किया है उनके परिवारों के लिए तुमने।

जिस देश में सरकार को गरीबों के पेट भरने के लिए संसाधन जुटाने पड़े, जिस देश में बच्चे अपने मूलभूत अधिकारों से महरूम हो, जिस देश में अपने पोषण के लिए अस्मत का सौदा करना पड़े। जिस देश में मजदूरों को पलायन करना पड़े क्योंकि उसका मालिक समय से मजदूरी न दे पाता हो, उस देश में तुम्हे पेंशन चाहिए ।

तुम वो प्रजाति हो जो भारत को शहतराब्दियों तक गरीबी के मकड़ जाल में रखना चाहती है। तुम मुगलों और अंग्रेजो से भी अधिक घातक हो।

No work no pension. Contribute and take pension.

जै हिंद, राष्ट्र प्रथम

Language: Hindi
1 Like · 237 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
अधूरेपन की बात अब मुझसे न कीजिए,
अधूरेपन की बात अब मुझसे न कीजिए,
सिद्धार्थ गोरखपुरी
मुक्तक
मुक्तक
प्रीतम श्रावस्तवी
हे गर्भवती !
हे गर्भवती !
Akash Yadav
कुंवारों का तो ठीक है
कुंवारों का तो ठीक है
शेखर सिंह
बना है राम का मंदिर, करो जयकार - अभिनंदन
बना है राम का मंदिर, करो जयकार - अभिनंदन
Dr Archana Gupta
11. एक उम्र
11. एक उम्र
Rajeev Dutta
मां नही भूलती
मां नही भूलती
Anjana banda
बुंदेली दोहा प्रतियोगिता-158के चयनित दोहे
बुंदेली दोहा प्रतियोगिता-158के चयनित दोहे
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
आज अंधेरे से दोस्ती कर ली मेंने,
आज अंधेरे से दोस्ती कर ली मेंने,
Sunil Maheshwari
बीमारी सबसे बुरी , हर लेती है प्राण (कुंडलिया)
बीमारी सबसे बुरी , हर लेती है प्राण (कुंडलिया)
Ravi Prakash
बाल कविता: हाथी की दावत
बाल कविता: हाथी की दावत
Rajesh Kumar Arjun
#प्रसंगवश...
#प्रसंगवश...
*Author प्रणय प्रभात*
दूर अब न रहो पास आया करो,
दूर अब न रहो पास आया करो,
Vindhya Prakash Mishra
मज़दूर
मज़दूर
Neelam Sharma
कम कमाना कम ही खाना, कम बचाना दोस्तो!
कम कमाना कम ही खाना, कम बचाना दोस्तो!
सत्य कुमार प्रेमी
खजुराहो
खजुराहो
Paramita Sarangi
3132.*पूर्णिका*
3132.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
"कुछ भी असम्भव नहीं"
Dr. Kishan tandon kranti
जब सूरज एक महीने आकाश में ठहर गया, चलना भूल गया! / Pawan Prajapati
जब सूरज एक महीने आकाश में ठहर गया, चलना भूल गया! / Pawan Prajapati
Dr MusafiR BaithA
हम कहाँ जा रहे हैं...
हम कहाँ जा रहे हैं...
Radhakishan R. Mundhra
ताप
ताप
नन्दलाल सुथार "राही"
कामनाओं का चक्र व्यूह
कामनाओं का चक्र व्यूह
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
हवन - दीपक नीलपदम्
हवन - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
प्यार कर रहा हूँ मैं - ग़ज़ल
प्यार कर रहा हूँ मैं - ग़ज़ल
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
आदिपुरुष आ बिरोध
आदिपुरुष आ बिरोध
Acharya Rama Nand Mandal
जीवन की सुरुआत और जीवन का अंत
जीवन की सुरुआत और जीवन का अंत
Rituraj shivem verma
मुक्तक
मुक्तक
गुमनाम 'बाबा'
मजदूर दिवस पर विशेष
मजदूर दिवस पर विशेष
Harminder Kaur
शिक्षा बिना जीवन है अधूरा
शिक्षा बिना जीवन है अधूरा
gurudeenverma198
हिन्दीग़ज़ल में कितनी ग़ज़ल? -रमेशराज
हिन्दीग़ज़ल में कितनी ग़ज़ल? -रमेशराज
कवि रमेशराज
Loading...