Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Mar 2024 · 1 min read

पूछो हर किसी सेआजकल जिंदगी का सफर

पूछो हर किसी सेआजकल जिंदगी का सफर
तो कह देते है बस वही हर दिन एक जैसा कुछ नही है नया बस कट रही है,फिर कहा मैने एक बार जिंदगी का एहबर बन कर तो देख जो कट रही है हर दिन एक जैसी तेरी नज़र में
वो भी गुलशन लगने लगेगी हर लम्हे के साथ साथ।

जिंदगी जैसी भी वो काम जिम्मेदारी के साथ या बैगर
काटो मत, एहसान नही है जिंदगी उपर वाले का तुम पर
दुआ है जो हर किसी को नसीब बेहतर नही होती
कुछ तरस रहे है जीने के लिए, कुछ जी कर एहसान जता रहे है जिंदगी पर। बस कुछ है जिन्होंने वजूद और वजह को समझा जीने के लिए जिंदगी की।

1 Like · 118 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*दादी की बहादुरी(कहानी)*
*दादी की बहादुरी(कहानी)*
Dushyant Kumar
अपनी तो मोहब्बत की इतनी कहानी
अपनी तो मोहब्बत की इतनी कहानी
AVINASH (Avi...) MEHRA
बस फेर है नज़र का हर कली की एक अपनी ही बेकली है
बस फेर है नज़र का हर कली की एक अपनी ही बेकली है
Atul "Krishn"
भारतवर्ष स्वराष्ट्र पूर्ण भूमंडल का उजियारा है
भारतवर्ष स्वराष्ट्र पूर्ण भूमंडल का उजियारा है
Pt. Brajesh Kumar Nayak
भाई घर की शान है, बहनों का अभिमान।
भाई घर की शान है, बहनों का अभिमान।
डॉ.सीमा अग्रवाल
डॉ अरुण कुमार शास्त्री – एक अबोध बालक // अरुण अतृप्त
डॉ अरुण कुमार शास्त्री – एक अबोध बालक // अरुण अतृप्त
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मैं हू बेटा तेरा तूही माँ है मेरी
मैं हू बेटा तेरा तूही माँ है मेरी
Basant Bhagawan Roy
जागो बहन जगा दे देश 🙏
जागो बहन जगा दे देश 🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
मुस्कुरा दीजिए
मुस्कुरा दीजिए
Davina Amar Thakral
इस जग में है प्रीत की,
इस जग में है प्रीत की,
sushil sarna
मै जो कुछ हु वही कुछ हु।
मै जो कुछ हु वही कुछ हु।
पूर्वार्थ
अब  रह  ही  क्या गया है आजमाने के लिए
अब रह ही क्या गया है आजमाने के लिए
हरवंश हृदय
जीवन में मोह माया का अपना रंग है।
जीवन में मोह माया का अपना रंग है।
Neeraj Agarwal
ऐ वतन
ऐ वतन
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
साहित्य क्षेत्रे तेल मालिश का चलन / MUSAFIR BAITHA
साहित्य क्षेत्रे तेल मालिश का चलन / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
ईश्वर का प्रेम उपहार , वह है परिवार
ईश्वर का प्रेम उपहार , वह है परिवार
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
कब तक अंधेरा रहेगा
कब तक अंधेरा रहेगा
Vaishaligoel
ले चल मुझे उस पार
ले चल मुझे उस पार
Satish Srijan
तुम्हारे साथ,
तुम्हारे साथ,
हिमांशु Kulshrestha
न्याय तो वो होता
न्याय तो वो होता
Mahender Singh
जरा विचार कीजिए
जरा विचार कीजिए
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
3269.*पूर्णिका*
3269.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
నమో నమో నారసింహ
నమో నమో నారసింహ
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
ਰਿਸ਼ਤਿਆਂ ਦੀਆਂ ਤਿਜਾਰਤਾਂ
ਰਿਸ਼ਤਿਆਂ ਦੀਆਂ ਤਿਜਾਰਤਾਂ
Surinder blackpen
हिन्दी दोहा बिषय-ठसक
हिन्दी दोहा बिषय-ठसक
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
ऐ वतन....
ऐ वतन....
Anis Shah
नई बहू
नई बहू
Dr. Pradeep Kumar Sharma
भले वो चाँद के जैसा नही है।
भले वो चाँद के जैसा नही है।
Shah Alam Hindustani
खून-पसीने के ईंधन से, खुद का यान चलाऊंगा,
खून-पसीने के ईंधन से, खुद का यान चलाऊंगा,
डॉ. अनिल 'अज्ञात'
तस्वीर
तस्वीर
Dr. Mahesh Kumawat
Loading...