Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Apr 2024 · 2 min read

पुस्तक विमर्श (समीक्षा )- ” साये में धूप “

पुस्तक – ” साये में धूप ”

रचनाकार – दुष्यंत कुमार जी

प्रकाशक – राधाकृष्ण प्रकाशन, नई दिल्ली

” साये में धूप “, हिंदी ग़ज़ल परंपरा के शीर्षस्थ ध्वजवाहक ( अलंबरदार ) दुष्यंत कुमार की क्रान्तिकारी ग़ज़लों का मजमुआ ( संग्रह ) है जिसकी हर ग़ज़ल में रचनाकार के अंतर्मन की पीड़ा, हताशा एवं राजनीति के प्रति रोष की भावना स्पष्ट परिलक्षित होती है… पाठक ही नहीं स्वयं एक शाइर होने के नाते मैं यह कह सकता हूँ कि जब अवसाद और तकलीफ़ अपने चरम पर पहुँच जाते हैं तो विद्रोह के स्वर, शब्दों का रूप ले लेते हैं…. दुष्यंत कुमार जी ने जो ग़ज़लें कही हैं उसमें उन्होंने सर्वहारा वर्ग के हित के लिए आवाज़ उठाई है… साये में धूप संग्रह की हर ग़ज़ल अत्यंत प्रभावशाली है जो तत्कालीन लोकतान्त्रिक कुव्यवस्था पर कुठाराघात है….
उनकी ग़ज़ल का मतला ” कहाँ तो तय था चिराग़ाँ हर एक घर के लिए , कहाँ चिराग़ मयस्सर नहीं शहर के लिए ” -अपने आप में सरकार के झूठे और आधारहीन वादों की पोल खोल देता है.. दुष्यंत का अंदाज़ ए बयाँ अल्हदा है उन्होंने अपनी बेबाक सोच को उम्दा अल्फ़ाज़ का पैरहन दिया है… संग्रह में उनकी एक और ग़ज़ल का शे’र -” एक क़ब्रिस्तान में घर मिल रहा है ,जिसमें तहख़ानों में तहख़ाने लगे हैं ” -भी गहरा मफ़हूम छोड़ता है शाइर के अनुसार यहाँ मृत्यु उपरांत भी धर्मगत राजनीति, खोखले रीति रिवाज़ चैन लेने नहीं देते… हर तरफ़ उहापोह का वातावरण है जिसमें कहीं कोई आशा की किरण निकले और सामाजिक व्यवस्था को नयी दिशा प्रदान करे…
दुष्यंत कुमार ने हिंदी में न केवल ख़ूबसूरत ग़ज़लें कहने का हुनर दिखाया है बल्कि उन्होंने यह भी बताया कि एक ऐसा शख्स जो सच कहने की हिम्मत रखता है वो हज़ारों ख़ामोश लोगों से ज़्यादा मुस्तनद ( बेहतर / बढ़कर ) है……संग्रह से उनकी ग़ज़ल का एक और मतला –
“इस नदी की धार से ठंडी हवा आती तो है
नाव जर्जर ही सही, लहरों से टकराती तो है ” भी प्रगतिवादी साहसिक विचारधारा को दर्शाता है…. मन की तड़प और बेचैनी को रचनाकार ने लफ्ज़यत में बखूबी ढाला है… मेरे ख़्याल से ‘ साये में धूप ‘ सम्भावनाओं के द्वार पर दस्तक देने वाला शानदार ग़ज़ल संग्रह है जिसके अब तक 60 से ज़्यादा संस्करण प्रकाशित ( शाया ) हो चुके हैं और मंज़र ए आम ( विमोचन ) पर आने के तवील अरसे ( लम्बे समय ) भी यह दीवान आज तलक प्रासंगिक है…. निःसंदेह दुष्यंत कुमार की यह अमर कृति है जो उनके इंक़लाबी तेवर को और वसुधैव कुटुंबकम के व्यापक नज़रिये ( नज़बुल ऐन ) को ज़माने से रूबरू कराती है…..

© डॉ. वासिफ़ काज़ी , इंदौर [ शायर एवं शिक्षाविद ]
©काज़ी की क़लम

1 Like · 42 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
🙏आप सभी को सपरिवार
🙏आप सभी को सपरिवार
Neelam Sharma
अपना कोई वजूद हो, तो बताना मेरे दोस्त।
अपना कोई वजूद हो, तो बताना मेरे दोस्त।
Sanjay ' शून्य'
पर्यावरण
पर्यावरण
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
दोहा
दोहा
गुमनाम 'बाबा'
दर्पण जब भी देखती खो जाती हूँ मैं।
दर्पण जब भी देखती खो जाती हूँ मैं।
लक्ष्मी सिंह
#यदा_कदा_संवाद_मधुर, #छल_का_परिचायक।
#यदा_कदा_संवाद_मधुर, #छल_का_परिचायक।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
मैं क्या जानूं क्या होता है किसी एक  के प्यार में
मैं क्या जानूं क्या होता है किसी एक के प्यार में
Manoj Mahato
अगहन कृष्ण पक्ष में पड़ने वाली एकादशी को उत्पन्ना एकादशी के
अगहन कृष्ण पक्ष में पड़ने वाली एकादशी को उत्पन्ना एकादशी के
Shashi kala vyas
"सपनों में"
Dr. Kishan tandon kranti
प्रार्थना
प्रार्थना
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
"" *समय धारा* ""
सुनीलानंद महंत
*** अरमान....!!! ***
*** अरमान....!!! ***
VEDANTA PATEL
महकती रात सी है जिंदगी आंखों में निकली जाय।
महकती रात सी है जिंदगी आंखों में निकली जाय।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
*बेचारे वरिष्ठ नागरिक (हास्य व्यंग्य)*
*बेचारे वरिष्ठ नागरिक (हास्य व्यंग्य)*
Ravi Prakash
फ़ितरत
फ़ितरत
Priti chaudhary
हमेशा सच बोलने का इक तरीका यह भी है कि
हमेशा सच बोलने का इक तरीका यह भी है कि
Aarti sirsat
"साहित्यकार और पत्रकार दोनों समाज का आइना होते है हर परिस्थि
डॉ.एल. सी. जैदिया 'जैदि'
3210.*पूर्णिका*
3210.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मैं हमेशा के लिए भूल जाना चाहता हूँ कि
मैं हमेशा के लिए भूल जाना चाहता हूँ कि "कल क्या था।"
*Author प्रणय प्रभात*
एक ज्योति प्रेम की...
एक ज्योति प्रेम की...
Sushmita Singh
"इंसान की फितरत"
Yogendra Chaturwedi
विधवा
विधवा
Acharya Rama Nand Mandal
बुद्ध पूर्णिमा
बुद्ध पूर्णिमा
Dr.Pratibha Prakash
हिन्दी पर विचार
हिन्दी पर विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
निदा फाज़ली का एक शेर है
निदा फाज़ली का एक शेर है
Sonu sugandh
मनमीत मेरे तुम हो
मनमीत मेरे तुम हो
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
सपनों का सफर
सपनों का सफर
पूर्वार्थ
Colours of Life!
Colours of Life!
R. H. SRIDEVI
डिग्रीया तो बस तालीम के खर्चे की रसीदें है,
डिग्रीया तो बस तालीम के खर्चे की रसीदें है,
Vishal babu (vishu)
जिंदगी को बोझ मान
जिंदगी को बोझ मान
भरत कुमार सोलंकी
Loading...