Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Apr 2020 · 2 min read

पुष्प हूँ मैं

पुष्प हूँ मैं।
पुहुप कुसुम सुमन फूल
इत्यादि मेरे ही नाम हैं।
मैं पर्याय हूँ
सुंदरता व कोमलता का ।
केंद्र हूँ रंगों व आकर्षण का।
प्रफुल्लित कर देता हूँ मैं
अपने समीप आने बालों को
अपनी मनमोहक सुगंध से
अपने दिव्य स्वरूप से
यही तो संस्कृति है मेरी।
कंटकों का साथ पाकर भी
मैं मुस्कराना नहीं छोड़ता
यही प्रकृति है मेरी।

मैं सरस हूँ, सुकोमल हूँ
मेरे ह्रदय की पीड़ा
साथ के शूल नहीं।
पीड़ा है मेरी
स्त्री से तुलना मेरी।
मुझमें नैसर्गिकता है
उसमें सांसारिकता।
कहाँ मेरी सुकोमल पंखुड़ियाँ,
कहाँ मेरा संवेदनशील शरीर,
कहाँ स्त्री का सुदृढ़ असंवेदनशील हृदय।
वास्तव में अवक्रमन करना है स्त्री का
उसे मेरे जैसा कोमल बताना।
और मुझे स्त्री के जैसा कहना
मुझे कठोर बताना है।

पीड़ा होती है मुझे
जब होती है
मेरी तुलना स्त्री के साथ।
जब होती है पवित्रता की तुलना
बेवफाई और चारित्रिक पतन से।
जब होती है तुलना
मेरे असत्य से अनभिज्ञ
अबोध ह्रदय की,
स्त्री के छल, प्रपंच व असत्य
युक्त मस्तिष्क से।

मैंने सदा ही खिलकर
सुगन्ध विखेरना सीखा है।
मैं कब कहता हूँ
कि सिर्फ मैं ही सही हूँ?
सच कहूँ तो
अलग हूँ मैं स्त्री से
बिल्कुल अलग।
मैं नहीं जानता
घुमा फिरा कर बात को कहना।
मैं नहीं जानता
इधर की उधर करना।
मैं नहीं जानता
किसी को झूंठी प्रसंशा के द्वारा
गहरे घाव देना।
मेरा हृदय नहीं है
छिछला व खोखला
कि भरा जा सके उसमें
अनावश्यक कचरा।
मैं नहीं फँसाता किसी को
प्रेम के ढकोसले में।
मैं प्रेम किसी से
और विवाह किसी और से करने का
निकृष्ट कार्य भी नहीं करता।

पीड़ा होती है मुझे
जब होती है मेरी तुलना
स्त्री के साथ।
सोंच कर बताओ जरा
क्या मैं नज़रें चुराता हूँ?
क्या मैं ईर्ष्या करता हूँ
साथी फूलों से?
जैसे कि स्त्री करती है
दूसरी स्त्री से।
क्या मुझमें लेश मात्र भी
धन, सोना, आभूषण इत्यादि की लालसा है?
क्या मुझे आता है
दिखावा करना?
उत्तर दो मुझे इन प्रश्नों के
और चिंतन करो
क्या स्त्री की तुलना
पुष्प अर्थात मुझसे करना उचित है?
क्या मैंने कभी पहने
भद्दे, अश्लील वस्त्र?
क्या मेरे स्वभाव में
अथवा चरित्र में दृष्टिगोचर है
कोई निम्नता या न्यूनता?
क्या मेरी स्वार्थहीन सुगंध
चोट पहुंचाती है कभी किसी हृदय को?
यदि नहीं तो क्यों
मेरी तुलना वज्रहिय वाली स्त्री से करते हो
क्यों पहुँचाते हो
मेरे कोमल हिय को पीड़ा?

संजय नारायण

Language: Hindi
3 Likes · 2 Comments · 339 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
डॉ अरूण कुमार शास्त्री
डॉ अरूण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
"साहस"
Dr. Kishan tandon kranti
शहीद रामफल मंडल गाथा।
शहीद रामफल मंडल गाथा।
Acharya Rama Nand Mandal
कान्हा तेरी मुरली है जादूभरी
कान्हा तेरी मुरली है जादूभरी
krishna waghmare , कवि,लेखक,पेंटर
ग़ज़ल/नज़्म: एक तेरे ख़्वाब में ही तो हमने हजारों ख़्वाब पाले हैं
ग़ज़ल/नज़्म: एक तेरे ख़्वाब में ही तो हमने हजारों ख़्वाब पाले हैं
अनिल कुमार
न जाने क्यों अक्सर चमकीले रैपर्स सी हुआ करती है ज़िन्दगी, मोइ
न जाने क्यों अक्सर चमकीले रैपर्स सी हुआ करती है ज़िन्दगी, मोइ
पूर्वार्थ
■ आप भी बनें सजग, उठाएं आवाज़
■ आप भी बनें सजग, उठाएं आवाज़
*प्रणय प्रभात*
एक बूढ़ा बरगद ही अकेला रहा गया है सफ़र में,
एक बूढ़ा बरगद ही अकेला रहा गया है सफ़र में,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
71
71
Aruna Dogra Sharma
है आँखों में कुछ नमी सी
है आँखों में कुछ नमी सी
हिमांशु Kulshrestha
आज एक अरसे बाद मेने किया हौसला है,
आज एक अरसे बाद मेने किया हौसला है,
Raazzz Kumar (Reyansh)
"परखना सीख जाओगे "
Slok maurya "umang"
मुझे इस दुनिया ने सिखाया अदाबत करना।
मुझे इस दुनिया ने सिखाया अदाबत करना।
Phool gufran
डोरी बाँधे  प्रीति की, मन में भर विश्वास ।
डोरी बाँधे प्रीति की, मन में भर विश्वास ।
Mahendra Narayan
" अंधेरी रातें "
Yogendra Chaturwedi
कुछ कहूं ना कहूं तुम भी सोचा करो,
कुछ कहूं ना कहूं तुम भी सोचा करो,
Sanjay ' शून्य'
खाक मुझको भी होना है
खाक मुझको भी होना है
VINOD CHAUHAN
आधी बीती जून, मिले गर्मी से राहत( कुंडलिया)
आधी बीती जून, मिले गर्मी से राहत( कुंडलिया)
Ravi Prakash
*पीड़ा*
*पीड़ा*
Dr. Priya Gupta
कश्मीरी पण्डितों की रक्षा में कुर्बान हुए गुरु तेगबहादुर
कश्मीरी पण्डितों की रक्षा में कुर्बान हुए गुरु तेगबहादुर
कवि रमेशराज
*मन  में  पर्वत  सी पीर है*
*मन में पर्वत सी पीर है*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
फुलवा बन आंगन में महको,
फुलवा बन आंगन में महको,
Vindhya Prakash Mishra
आप हर पल हर किसी के लिए अच्छा सोचे , उनके अच्छे के लिए सोचे
आप हर पल हर किसी के लिए अच्छा सोचे , उनके अच्छे के लिए सोचे
Raju Gajbhiye
कैसे निभाऍं उसको, कैसे करें गुज़ारा।
कैसे निभाऍं उसको, कैसे करें गुज़ारा।
सत्य कुमार प्रेमी
नारी शक्ति का हो 🌹🙏सम्मान🙏
नारी शक्ति का हो 🌹🙏सम्मान🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
माँ की आँखों में पिता / मुसाफ़िर बैठा
माँ की आँखों में पिता / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
मौत
मौत
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
बेऔलाद ही ठीक है यारों, हॉं ऐसी औलाद से
बेऔलाद ही ठीक है यारों, हॉं ऐसी औलाद से
gurudeenverma198
जीवन साथी
जीवन साथी
Aman Sinha
अभी कैसे हिम्मत हार जाऊं मैं ,
अभी कैसे हिम्मत हार जाऊं मैं ,
शेखर सिंह
Loading...