Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Mar 2024 · 1 min read

पुष्पों का पाषाण पर,

पुष्पों का पाषाण पर,
अनुपम है विन्यास ।
पतझड़ में क्रीड़ा करे ,
पत्थर पर मधुमास ।।

सुशील सरना / 12-3-24

48 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
रमेशराज के 7 मुक्तक
रमेशराज के 7 मुक्तक
कवि रमेशराज
vah kaun hai?
vah kaun hai?
ASHISH KUMAR SINGH
"आसानी से"
Dr. Kishan tandon kranti
अन्ना जी के प्रोडक्ट्स की चर्चा,अब हो रही है गली-गली
अन्ना जी के प्रोडक्ट्स की चर्चा,अब हो रही है गली-गली
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
जंजीर
जंजीर
AJAY AMITABH SUMAN
नग मंजुल मन भावे
नग मंजुल मन भावे
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
रुक्मिणी संदेश
रुक्मिणी संदेश
Rekha Drolia
शिक्षक और शिक्षा के साथ,
शिक्षक और शिक्षा के साथ,
Neeraj Agarwal
!! यह तो सर गद्दारी है !!
!! यह तो सर गद्दारी है !!
Chunnu Lal Gupta
//...महापुरुष...//
//...महापुरुष...//
Chinta netam " मन "
जब दिल से दिल ही मिला नहीं,
जब दिल से दिल ही मिला नहीं,
manjula chauhan
हमारी राष्ट्रभाषा हिन्दी
हमारी राष्ट्रभाषा हिन्दी
Mukesh Kumar Sonkar
मां
मां
Dr. Pradeep Kumar Sharma
पुष्प की व्यथा
पुष्प की व्यथा
Shyam Sundar Subramanian
बनी दुलहन अवध नगरी, सियावर राम आए हैं।
बनी दुलहन अवध नगरी, सियावर राम आए हैं।
डॉ.सीमा अग्रवाल
मंगल मय हो यह वसुंधरा
मंगल मय हो यह वसुंधरा
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
*देहातों में हैं सजग, मतदाता भरपूर (कुंडलिया)*
*देहातों में हैं सजग, मतदाता भरपूर (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
3458🌷 *पूर्णिका* 🌷
3458🌷 *पूर्णिका* 🌷
Dr.Khedu Bharti
भर गया होगा
भर गया होगा
Dr fauzia Naseem shad
एक बछड़े को देखकर
एक बछड़े को देखकर
Punam Pande
यह जो पापा की परियां होती हैं, ना..'
यह जो पापा की परियां होती हैं, ना..'
SPK Sachin Lodhi
उठो द्रोपदी....!!!
उठो द्रोपदी....!!!
Neelam Sharma
कभी भ्रम में मत जाना।
कभी भ्रम में मत जाना।
surenderpal vaidya
जिंदगी का हिसाब
जिंदगी का हिसाब
Surinder blackpen
■ अनफिट हो के भी आउट नहीं मिस्टर पनौती लाल।
■ अनफिट हो के भी आउट नहीं मिस्टर पनौती लाल।
*Author प्रणय प्रभात*
मैंने खुद को जाना, सुना, समझा बहुत है
मैंने खुद को जाना, सुना, समझा बहुत है
सिद्धार्थ गोरखपुरी
सफलता की ओर
सफलता की ओर
Vandna Thakur
बाल कविता: भालू की सगाई
बाल कविता: भालू की सगाई
Rajesh Kumar Arjun
कहते हैं,
कहते हैं,
Dhriti Mishra
'लक्ष्य-1'
'लक्ष्य-1'
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
Loading...