Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Feb 2024 · 2 min read

पुलवामा अटैक

आँखों से आँसू बहे, कलम रक्त की धार।
हुआ आज कश्मीर में, वीरों का संहार।।

काँप रहा धरती गगन, चहुँ दिश हाहाकार।
रँगा हिमालय रक्त से,गूंज उठा चित्कार।।

टोली वीर सपूत की, भारत माँ की शान।
चिथड़े-चिथड़े उड़ गये,दे दी अपनी जान।।

देख कलेजा फट गया, वीरों का यह हाल।
अंग-अंग बिखरे हुए, टूटे सब कंकाल।।

क्षत-विक्षत शव देखकर, गहन हृदय में पीर।
दुश्मन छाती फाड़ कर, पी लूँ रक्तिम नीर ।।

इंच – इंच ताबूत में, आया माँ का पूत।
भस्म करो आतंक को, बन जाओ यमदूत।।

शीश गिनोगे कब तलक,चेतो भरत कुमार।
घायल है माँ भारती, उतर रहा श्रृंगार।।

आतंकी गद्दार से,है हिमगिरि बेहाल।
भरत पुत्र अब ठान लो, टूट पड़ो बन काल।।

बिलख रही माँ भारती, धर लो रूप प्रचंड।
उठा रहा रिपु शीश फिर, देना होगा दंड।।

पुलवामा काला दिवस, हुआ हृदय आघात।
रिपु का सीना चीर कर, बतला दो औकात।।

मातृभूमि हित के लिए, बने रहे जो ढाल।
आज उसी जाबाज पर, आया कैसा काल।।

चोरी से हमला किया, कुटिल धूर्त मक्कार।
बैठे थे निश्चिंत जब, नहीं हाथ हथियार।।

वादी ए कश्मीर का, क्यों है ऐसा हाल।
आज स्वर्ग की यह धरा, हुई रक्त से लाल।।

केसर घाटी रो रही, कितना है बेहाल।
भारत भू ने खो दिया,अपना प्यारा लाल।।

बँधा हाथ हर वीर का, पाँव पड़ी जंजीर।
सीना छलनी हो गया, घायल है कश्मीर।।

चीख-चीख कर कह रही, घाटी ए कश्मीर।
बिना लड़े ही खो दिए, हमने अपने वीर।।

मोदी जी कुछ तो करो, क्यों बैठे चुपचाप।
कल का रोना छोड़ दो, अभी करो कुछ आप।।

शांति दूत कब तक बने, हृदय करोगे चाक।
घर में घुसकर पाक के कर दो उसको खाक।।

देख सियासत पी रही, नित वीरों का रक्त।
बिना लड़े ही मर रहें ,वीर सिपाही भक्त।।

निर्मम हत्या देख कर, असहनीय है पीर।
दिया वीर चालीस खो, कैसै धर लूँ धीर।।

पाँच साल तक सो लिया, कुम्भकरण अब जाग।
बनो कृष्ण अब देश हित, कुचलो काला नाग।।

खोल दिया खुद मार्ग को, कर दो पूर्ण विराम।
अंतिम पन्ना हम लिखें, हो भीषण संग्राम।।

मोदी जी अब दीजिए, सेना को आदेश।
धोना है रिपु रक्त से,पांचाली का केश।।

कभी व्यर्थ जाये नहीं, वीरों का बलिदान।
बदला लें हर बूंद का,है दिल में अरमान।।

बोले चौदह फरवरी,दर्द भरा इतिहास।
प्रेम दिवस कैसे कहूँ,जब रक्तिम आकाश।।
-लक्ष्मी सिंह

Language: Hindi
62 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from लक्ष्मी सिंह
View all
You may also like:
कई वर्षों से ठीक से होली अब तक खेला नहीं हूं मैं /लवकुश यादव
कई वर्षों से ठीक से होली अब तक खेला नहीं हूं मैं /लवकुश यादव "अज़ल"
लवकुश यादव "अज़ल"
#छंद के लक्षण एवं प्रकार
#छंद के लक्षण एवं प्रकार
आर.एस. 'प्रीतम'
दोहा
दोहा
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
🌹लाफ्टर थेरेपी!हे हे हे हे यू लाफ्टर थेरेपी🌹
🌹लाफ्टर थेरेपी!हे हे हे हे यू लाफ्टर थेरेपी🌹
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
आदत न डाल
आदत न डाल
Dr fauzia Naseem shad
😢नारकीय जीवन😢
😢नारकीय जीवन😢
*Author प्रणय प्रभात*
🍂तेरी याद आए🍂
🍂तेरी याद आए🍂
Dr Manju Saini
तेवरी का सौन्दर्य-बोध +रमेशराज
तेवरी का सौन्दर्य-बोध +रमेशराज
कवि रमेशराज
बिना पंख फैलाये पंछी को दाना नहीं मिलता
बिना पंख फैलाये पंछी को दाना नहीं मिलता
Anil Mishra Prahari
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Jitendra Kumar Noor
खाली सूई का कोई मोल नहीं 🙏
खाली सूई का कोई मोल नहीं 🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
जो रास्ते हमें चलना सीखाते हैं.....
जो रास्ते हमें चलना सीखाते हैं.....
कवि दीपक बवेजा
आप सभी को रामनवमी की हार्दिक शुभकामनाएं
आप सभी को रामनवमी की हार्दिक शुभकामनाएं
लोकेश शर्मा 'अवस्थी'
जोशीला
जोशीला
RAKESH RAKESH
"पुतला"
Dr. Kishan tandon kranti
2768. *पूर्णिका*
2768. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
जीवन एक यथार्थ
जीवन एक यथार्थ
Shyam Sundar Subramanian
रंग पंचमी
रंग पंचमी
जगदीश लववंशी
ढलता सूरज गहराती लालिमा देती यही संदेश
ढलता सूरज गहराती लालिमा देती यही संदेश
Neerja Sharma
माँ भारती के वरदपुत्र: नरेन्द्र मोदी
माँ भारती के वरदपुत्र: नरेन्द्र मोदी
Dr. Upasana Pandey
गुफ्तगू
गुफ्तगू
Naushaba Suriya
हवाएँ मस्तियाँ लाईं, ये फागुन का महीना है【 हिंदी गजल/गीतिका
हवाएँ मस्तियाँ लाईं, ये फागुन का महीना है【 हिंदी गजल/गीतिका
Ravi Prakash
यह कैसी खामोशी है
यह कैसी खामोशी है
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
शब्द ब्रह्म अर्पित करूं
शब्द ब्रह्म अर्पित करूं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
ये खुदा अगर तेरे कलम की स्याही खत्म हो गई है तो मेरा खून लेल
ये खुदा अगर तेरे कलम की स्याही खत्म हो गई है तो मेरा खून लेल
Ranjeet kumar patre
* जब लक्ष्य पर *
* जब लक्ष्य पर *
surenderpal vaidya
मूर्ख जनता-धूर्त सरकार
मूर्ख जनता-धूर्त सरकार
Shekhar Chandra Mitra
कविका मान
कविका मान
Dr. Sunita Singh
मुक्तक
मुक्तक
महेश चन्द्र त्रिपाठी
धड़कन धड़कन ( गीत )
धड़कन धड़कन ( गीत )
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
Loading...