Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Mar 2023 · 1 min read

पुरुष अधूरा नारी बिन है, बिना पुरुष के नारी जग में,

पुरुष अधूरा नारी बिन है, बिना पुरुष के नारी जग में,
निज पुरुषत्व प्रभावों में तुम, नारी का अपमान न करना |

✍️ अरविन्द त्रिवेदी
उन्नाव उ० प्र०

महिला दिवस की हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं

671 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Arvind trivedi
View all
You may also like:
सांता क्लॉज आया गिफ्ट लेकर
सांता क्लॉज आया गिफ्ट लेकर
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
यह प्यार झूठा है
यह प्यार झूठा है
gurudeenverma198
पहचान तो सबसे है हमारी,
पहचान तो सबसे है हमारी,
पूर्वार्थ
జయ శ్రీ రామ...
జయ శ్రీ రామ...
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
हँसते गाते हुए
हँसते गाते हुए
Shweta Soni
भाई बहन का प्रेम
भाई बहन का प्रेम
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
माॅ
माॅ
Santosh Shrivastava
रै तमसा, तू कब बदलेगी…
रै तमसा, तू कब बदलेगी…
Anand Kumar
कुछ अनुभव एक उम्र दे जाते हैं ,
कुछ अनुभव एक उम्र दे जाते हैं ,
Pramila sultan
आसमान में छाए बादल, हुई दिवस में रात।
आसमान में छाए बादल, हुई दिवस में रात।
डॉ.सीमा अग्रवाल
"एकान्त"
Dr. Kishan tandon kranti
*अग्रसेन ने ध्वजा मनुज, आदर्शों की फहराई (मुक्तक)*
*अग्रसेन ने ध्वजा मनुज, आदर्शों की फहराई (मुक्तक)*
Ravi Prakash
जब कभी प्यार  की वकालत होगी
जब कभी प्यार की वकालत होगी
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
कितनी सहमी सी
कितनी सहमी सी
Dr fauzia Naseem shad
#गौरवमयी_प्रसंग
#गौरवमयी_प्रसंग
*प्रणय प्रभात*
2628.पूर्णिका
2628.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
"" *हाय रे....* *गर्मी* ""
सुनीलानंद महंत
बात तनिक ह हउवा जादा
बात तनिक ह हउवा जादा
Sarfaraz Ahmed Aasee
* ज्योति जगानी है *
* ज्योति जगानी है *
surenderpal vaidya
हर वर्ष जलाते हो हर वर्ष वो बचता है।
हर वर्ष जलाते हो हर वर्ष वो बचता है।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
क्या मुझसे दोस्ती करोगे?
क्या मुझसे दोस्ती करोगे?
Naushaba Suriya
रात के सितारे
रात के सितारे
Neeraj Agarwal
बींसवीं गाँठ
बींसवीं गाँठ
Shashi Dhar Kumar
गुरु
गुरु
Kavita Chouhan
आज भी अधूरा है
आज भी अधूरा है
Pratibha Pandey
“कवि की कविता”
“कवि की कविता”
DrLakshman Jha Parimal
मैं गीत हूं ग़ज़ल हो तुम न कोई भूल पाएगा।
मैं गीत हूं ग़ज़ल हो तुम न कोई भूल पाएगा।
सत्य कुमार प्रेमी
मातु शारदे वंदना
मातु शारदे वंदना
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
चांद बिना
चांद बिना
Surinder blackpen
जिंदगी देने वाली माँ
जिंदगी देने वाली माँ
shabina. Naaz
Loading...