Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Mar 2024 · 1 min read

पुरानी यादें ताज़ा कर रही है।

पुरानी यादें ताज़ा कर रही है।
जिंदगी क्या इरादा कर रही है।

1 Like · 48 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
दो पल देख लूं जी भर
दो पल देख लूं जी भर
आर एस आघात
जीवन को
जीवन को
Dr fauzia Naseem shad
रामजी कर देना उपकार
रामजी कर देना उपकार
Seema gupta,Alwar
हम उफ ना करेंगे।
हम उफ ना करेंगे।
Taj Mohammad
अफसोस
अफसोस
Dr. Kishan tandon kranti
जाते हो.....❤️
जाते हो.....❤️
Srishty Bansal
What is FAMILY?
What is FAMILY?
पूर्वार्थ
कभी मायूस मत होना दोस्तों,
कभी मायूस मत होना दोस्तों,
Ranjeet kumar patre
कभी हैं भगवा कभी तिरंगा देश का मान बढाया हैं
कभी हैं भगवा कभी तिरंगा देश का मान बढाया हैं
Shyamsingh Lodhi Rajput (Tejpuriya)
भारत की है शान तिरंगा
भारत की है शान तिरंगा
surenderpal vaidya
सच का सौदा
सच का सौदा
अरशद रसूल बदायूंनी
"प्यार के दीप" गजल-संग्रह और उसके रचयिता ओंकार सिंह ओंकार
Ravi Prakash
अपने घर में हूँ मैं बे मकां की तरह मेरी हालत है उर्दू ज़बां की की तरह
अपने घर में हूँ मैं बे मकां की तरह मेरी हालत है उर्दू ज़बां की की तरह
Sarfaraz Ahmed Aasee
विशाल अजगर बनकर
विशाल अजगर बनकर
Shravan singh
कोई पढे या ना पढे मैं तो लिखता जाऊँगा  !
कोई पढे या ना पढे मैं तो लिखता जाऊँगा !
DrLakshman Jha Parimal
लगी राम धुन हिया को
लगी राम धुन हिया को
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
#ग़ज़ल
#ग़ज़ल
*Author प्रणय प्रभात*
दोहे-
दोहे-
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
गले लोकतंत्र के नंगे / मुसाफ़िर बैठा
गले लोकतंत्र के नंगे / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
अंधेरे का डर
अंधेरे का डर
ruby kumari
जागरूक हो हर इंसान
जागरूक हो हर इंसान
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
अभी दिल भरा नही
अभी दिल भरा नही
Ram Krishan Rastogi
इश्क़ और इंकलाब
इश्क़ और इंकलाब
Shekhar Chandra Mitra
भुला भुला कर के भी नहीं भूल पाओगे,
भुला भुला कर के भी नहीं भूल पाओगे,
Buddha Prakash
कोशिश करने वाले की हार नहीं होती। आज मैं CA बन गया। CA Amit
कोशिश करने वाले की हार नहीं होती। आज मैं CA बन गया। CA Amit
CA Amit Kumar
.......अधूरी........
.......अधूरी........
Naushaba Suriya
धुनी रमाई है तेरे नाम की
धुनी रमाई है तेरे नाम की
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
जिस भी समाज में भीष्म को निशस्त्र करने के लिए शकुनियों का प्
जिस भी समाज में भीष्म को निशस्त्र करने के लिए शकुनियों का प्
Sanjay ' शून्य'
कलेवा
कलेवा
Satish Srijan
"सन्त रविदास जयन्ती" 24/02/2024 पर विशेष ...
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
Loading...