Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Dec 2023 · 1 min read

पुनर्जन्म का साथ

पुनर्जन्म का साथ

कभी-कभी कुछ रिश्ते होते बेनाम
बस मिलने पर दे जाते सुखद मीठा एहसास,
उनके होने ना होने का फर्क नहीं पड़ता खास
ना होकर भी लगते हैं वो हैं हमारे आस-पास
न होती है उन रिश्तों में कोई आस
हम चाह कर भी कर न पाते हैं इन्कार
न जाने क्यूं जुड़ा ही रहता इतना लगाव
उम्र भर नहीं कर पाते उनसे अलगाव
सब कुछ पाकर भी लगता वो भी है जीवन का मुकाम
वो एहसास ऐसा कि होगा शायद कोई पुनर्जन्म का साथ!!!!
खुद का खुद से होता है सवाल्ौ
सीमा गुप्ता, अलवर राजस्थान

175 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
जब तक ईश्वर की इच्छा शक्ति न हो तब तक कोई भी व्यक्ति अपनी पह
जब तक ईश्वर की इच्छा शक्ति न हो तब तक कोई भी व्यक्ति अपनी पह
Shashi kala vyas
*ड्राइंग-रूम में सजी सुंदर पुस्तकें (हास्य व्यंग्य)*
*ड्राइंग-रूम में सजी सुंदर पुस्तकें (हास्य व्यंग्य)*
Ravi Prakash
रूह को खुशबुओं सा महकाने वाले
रूह को खुशबुओं सा महकाने वाले
कवि दीपक बवेजा
कँहरवा
कँहरवा
प्रीतम श्रावस्तवी
#प्रभात_चिन्तन
#प्रभात_चिन्तन
*Author प्रणय प्रभात*
World Dance Day
World Dance Day
Tushar Jagawat
काजल
काजल
SHAMA PARVEEN
मतलबी किरदार
मतलबी किरदार
Aman Kumar Holy
फिर वसंत आया फिर वसंत आया
फिर वसंत आया फिर वसंत आया
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
पिया मोर बालक बनाम मिथिला समाज।
पिया मोर बालक बनाम मिथिला समाज।
Acharya Rama Nand Mandal
फितरत
फितरत
Akshay patel
“ लिफाफे का दर्द ”
“ लिफाफे का दर्द ”
DrLakshman Jha Parimal
ज़िन्दगी सोच सोच कर केवल इंतजार में बिता देने का नाम नहीं है
ज़िन्दगी सोच सोच कर केवल इंतजार में बिता देने का नाम नहीं है
Paras Nath Jha
दूर जाकर क्यों बना लीं दूरियां।
दूर जाकर क्यों बना लीं दूरियां।
सत्य कुमार प्रेमी
गज़ल क्या लिखूँ मैं तराना नहीं है
गज़ल क्या लिखूँ मैं तराना नहीं है
VINOD CHAUHAN
*****नियति*****
*****नियति*****
Kavita Chouhan
जरूरत के हिसाब से ही
जरूरत के हिसाब से ही
Dr Manju Saini
कँवल कहिए
कँवल कहिए
Dr. Sunita Singh
दोहा
दोहा
गुमनाम 'बाबा'
मुझे लगा कि तुम्हारे लिए मैं विशेष हूं ,
मुझे लगा कि तुम्हारे लिए मैं विशेष हूं ,
Manju sagar
चाटुकारिता
चाटुकारिता
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
बेमेल कथन, फिजूल बात
बेमेल कथन, फिजूल बात
Dr MusafiR BaithA
फितरत इंसान की....
फितरत इंसान की....
Tarun Singh Pawar
गंगा दशहरा मां गंगा का प़काट्य दिवस
गंगा दशहरा मां गंगा का प़काट्य दिवस
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
भोली बिटिया
भोली बिटिया
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
देश हमारा
देश हमारा
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
11) “कोरोना एक सबक़”
11) “कोरोना एक सबक़”
Sapna Arora
सोदा जब गुरू करते है तब बडे विध्वंस होते है
सोदा जब गुरू करते है तब बडे विध्वंस होते है
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
"आओ मिलकर दीप जलायें "
Chunnu Lal Gupta
अकेले आए हैं ,
अकेले आए हैं ,
Shutisha Rajput
Loading...