Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 May 2023 · 1 min read

पुकार

पुकार
__________________

मैं तो हूं प्यार का नन्हा फूल
हो गई थी क्या मुझसे भूल।।
करने चले अलग टहनी से।
चुभ रहे बन कर तीखे शूल।।
अनचाहा कैसे हो सकती।
मत समझो पैरों की धूल।।
ना जाने कितनी मन्नत से आई,
खुशियों से भर देती दोनों कुल।।
सच बतलाना प्यारी मां!
तेरी क्या हो गई ऐसी मजबूरी ।।
ममता का गला घोंट दिया
क्यों कर रही जिगर से दूरी।।
नानी तो अबतक तुझ पर मरती
तू क्यों नहीं मुझको बचा सकी।।
ऐसा क्या किया था पाप मैंने
जिसकी माफी भी काम न आ सकी।।
पिता तुम भी बतलाना
इतना बेगैरत कैसे हो सकते।।
बच्चे तो हैं भगवान का रूप
उनसे कैसे तुम, छल कर सकते।।
कुछ तो डरो ए दुनिया वालो!
ऐसा करके सुखी नहीं तुम रह सकते।।
__ मनु वाशिष्ठ, कोटा जंक्शन

1 Like · 297 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Manu Vashistha
View all
You may also like:
ना होगी खता ऐसी फिर
ना होगी खता ऐसी फिर
gurudeenverma198
दर्द को उसके
दर्द को उसके
Dr fauzia Naseem shad
मौन तपधारी तपाधिन सा लगता है।
मौन तपधारी तपाधिन सा लगता है।
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
झोली मेरी प्रेम की
झोली मेरी प्रेम की
Sandeep Pande
*मेरे साथ तुम हो*
*मेरे साथ तुम हो*
Shashi kala vyas
*पाना दुर्लभ है सदा, सहस्त्रार का चक्र (कुंडलिया)*
*पाना दुर्लभ है सदा, सहस्त्रार का चक्र (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
#लानत_के_साथ...
#लानत_के_साथ...
*Author प्रणय प्रभात*
"मत पूछो"
Dr. Kishan tandon kranti
" मानस मायूस "
Dr Meenu Poonia
खूबसूरत है....
खूबसूरत है....
The_dk_poetry
घायल तुझे नींद आये न आये
घायल तुझे नींद आये न आये
Ravi Ghayal
सूरज नमी निचोड़े / (नवगीत)
सूरज नमी निचोड़े / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
“गुप्त रत्न”नहीं मिटेगी मृगतृष्णा कस्तूरी मन के अन्दर है,
“गुप्त रत्न”नहीं मिटेगी मृगतृष्णा कस्तूरी मन के अन्दर है,
गुप्तरत्न
इतनी खुबसुरत हो तुम
इतनी खुबसुरत हो तुम
Diwakar Mahto
सिलसिला
सिलसिला
Ramswaroop Dinkar
बुद्धिमान हर बात पर, पूछें कई सवाल
बुद्धिमान हर बात पर, पूछें कई सवाल
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
Kahi pass akar ,ek dusre ko hmesha ke liye jan kar, hum dono
Kahi pass akar ,ek dusre ko hmesha ke liye jan kar, hum dono
Sakshi Tripathi
तो क्या हुआ
तो क्या हुआ
Sûrëkhâ
पिता का साया
पिता का साया
Neeraj Agarwal
विजय हजारे
विजय हजारे
Dr. Pradeep Kumar Sharma
फितरत ना बदल सका
फितरत ना बदल सका
goutam shaw
Dr arun kumar शास्त्री
Dr arun kumar शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मैं आग नही फिर भी चिंगारी का आगाज हूं,
मैं आग नही फिर भी चिंगारी का आगाज हूं,
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
यही जीवन है
यही जीवन है
Otteri Selvakumar
जज़्बात - ए बया (कविता)
जज़्बात - ए बया (कविता)
Monika Yadav (Rachina)
कभी लगे  इस ओर है,
कभी लगे इस ओर है,
sushil sarna
एक महिला तब ज्यादा रोती है जब उसके परिवार में कोई बाधा या फि
एक महिला तब ज्यादा रोती है जब उसके परिवार में कोई बाधा या फि
Rj Anand Prajapati
कागज की कश्ती
कागज की कश्ती
Ritu Asooja
दिल में कुण्ठित होती नारी
दिल में कुण्ठित होती नारी
Pratibha Pandey
मुख अटल मधुरता, श्रेष्ठ सृजनता, मुदित मधुर मुस्कान।
मुख अटल मधुरता, श्रेष्ठ सृजनता, मुदित मधुर मुस्कान।
रेखा कापसे
Loading...