Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Jun 2018 · 1 min read

“पीली सी धूप”

पीली सी धूप
पहनकर जो इठलाई थी
मन के आँगन में
वो तुम ही थी न?
मेरे कानों में गूँजते
तुम्हारी झाँझर के स्वरों
ने देखो कितने ही गीत
गड डालें हैं प्रीत के…
मेरी धड़कनों की ताल पर
जो ,मचले थिरके और
मौहब्बत का फूल बन कर
बिखर गए..
.मेरे बेजार से जीवन में …
हर सूँ फैल गई खुशबू मधुर प्रेम की…
भूल गया मैं सुधबुध अपनी…
तुम्हारा समर्पण. .
मुझे मूक कर गया
बस दरम्याँ रह गई
आँखों से तरलती वो,
अबूझ सी बातें
शर्म से लरजते सुर्ख लब…
प्रेम की वो तमाम हदें
लाँघ गए और हम
कभी न टूटने वाले एक
पावन पवित्र ऐसे पाश में बँध गए
जिसमें लाड़ था दुलार था
मान था सम्मान था ।
निधि मुकेश भार्गव

Language: Hindi
1 Like · 647 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कविता
कविता
Shiva Awasthi
चलती है जिंदगी
चलती है जिंदगी
डॉ. शिव लहरी
अगर प्यार करना गुनाह है,
अगर प्यार करना गुनाह है,
Dr. Man Mohan Krishna
न्याय होता है
न्याय होता है
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
संत का अपमान स्वप्न में भी न करें, चाहे स्वयं देवऋषि नारद आप
संत का अपमान स्वप्न में भी न करें, चाहे स्वयं देवऋषि नारद आप
Sanjay ' शून्य'
क्यों मुश्किलों का
क्यों मुश्किलों का
Dr fauzia Naseem shad
स्त्री
स्त्री
Dinesh Kumar Gangwar
धक धक धड़की धड़कनें,
धक धक धड़की धड़कनें,
sushil sarna
World Dance Day
World Dance Day
Tushar Jagawat
सराब -ए -आप में खो गया हूं ,
सराब -ए -आप में खो गया हूं ,
Shyam Sundar Subramanian
ये जिंदगी है साहब.
ये जिंदगी है साहब.
शेखर सिंह
2689.*पूर्णिका*
2689.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
रंगों का कोई धर्म नहीं होता होली हमें यही सिखाती है ..
रंगों का कोई धर्म नहीं होता होली हमें यही सिखाती है ..
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
*सीता-स्वयंवर : कुछ दोहे*
*सीता-स्वयंवर : कुछ दोहे*
Ravi Prakash
कहमुकरी (मुकरिया) छंद विधान (सउदाहरण)
कहमुकरी (मुकरिया) छंद विधान (सउदाहरण)
Subhash Singhai
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
రామ భజే శ్రీ కృష్ణ భజే
రామ భజే శ్రీ కృష్ణ భజే
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
कुछ ऐसे भी लोग कमाए हैं मैंने ,
कुछ ऐसे भी लोग कमाए हैं मैंने ,
Ashish Morya
रंग बिरंगी दुनिया में हम सभी जीते हैं।
रंग बिरंगी दुनिया में हम सभी जीते हैं।
Neeraj Agarwal
बढ़ना चाहते है हम भी आगे ,
बढ़ना चाहते है हम भी आगे ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
दिव्य दर्शन है कान्हा तेरा
दिव्य दर्शन है कान्हा तेरा
Neelam Sharma
जिसे सपने में देखा था
जिसे सपने में देखा था
Sunny kumar kabira
तुझसे यूं बिछड़ने की सज़ा, सज़ा-ए-मौत ही सही,
तुझसे यूं बिछड़ने की सज़ा, सज़ा-ए-मौत ही सही,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
#क़तआ (मुक्तक)
#क़तआ (मुक्तक)
*प्रणय प्रभात*
सफ़ेद चमड़ी और सफेद कुर्ते से
सफ़ेद चमड़ी और सफेद कुर्ते से
Harminder Kaur
सागर-मंथन की तरह, मथो स्वयं को रोज
सागर-मंथन की तरह, मथो स्वयं को रोज
डॉ.सीमा अग्रवाल
पितृ दिवस की शुभकामनाएं
पितृ दिवस की शुभकामनाएं
दीपक नील पदम् { Deepak Kumar Srivastava "Neel Padam" }
ओ मेरी सोलमेट जन्मों से - संदीप ठाकुर
ओ मेरी सोलमेट जन्मों से - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
साथ है मेरे सफर में, ये काँटें तो अभी तक
साथ है मेरे सफर में, ये काँटें तो अभी तक
gurudeenverma198
#प्रेम_वियोग_एकस्वप्न
#प्रेम_वियोग_एकस्वप्न
शालिनी राय 'डिम्पल'✍️
Loading...