Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Jun 2016 · 1 min read

पिपासा

न तृष्णा रही शेष ही आज कोई न है ब्रह्म को जानने की पिपासा
नहीं चाहता मोक्ष को भी सुनो मैं नहीं बन्ध कोई लगा है भला सा
नहीं चाहता सिद्धि विज्ञान वाली बुलाये भले ही मुझे आज नासा
सदा प्यास मैं झेलता ही रहा हूँ न जाने मुझे विश्व में कोई प्यासा
रचनाकार
डॉ आशुतोष वाजपेयी
ज्योतिषाचार्य
लखनऊ

Language: Hindi
1 Like · 568 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*पिचकारी लेने गया, जंगल में जब शेर (कुंडलिया)*
*पिचकारी लेने गया, जंगल में जब शेर (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
धिक्कार
धिक्कार
Shekhar Chandra Mitra
करनी का फल
करनी का फल
Dr. Pradeep Kumar Sharma
इश्क में  हम वफ़ा हैं बताए हो तुम।
इश्क में हम वफ़ा हैं बताए हो तुम।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
नजरे मिली धड़कता दिल
नजरे मिली धड़कता दिल
Khaimsingh Saini
लेके फिर अवतार ,आओ प्रिय गिरिधर।
लेके फिर अवतार ,आओ प्रिय गिरिधर।
Neelam Sharma
दिल में भी इत्मिनान
दिल में भी इत्मिनान
Dr fauzia Naseem shad
23/30.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/30.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
అతి బలవంత హనుమంత
అతి బలవంత హనుమంత
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
केशों से मुक्ता गिरे,
केशों से मुक्ता गिरे,
sushil sarna
प्रिय के प्रयास पर झूठ मूठ सी रूठी हुई सी, लाजवंती के गालों
प्रिय के प्रयास पर झूठ मूठ सी रूठी हुई सी, लाजवंती के गालों
kaustubh Anand chandola
करने दो इजहार मुझे भी
करने दो इजहार मुझे भी
gurudeenverma198
दोहे- चरित्र
दोहे- चरित्र
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
फितरते फतह
फितरते फतह
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
जिसकी बहन प्रियंका है, उसका बजता डंका है।
जिसकी बहन प्रियंका है, उसका बजता डंका है।
Sanjay ' शून्य'
"कष्ट"
Dr. Kishan tandon kranti
यहाँ तो मात -पिता
यहाँ तो मात -पिता
DrLakshman Jha Parimal
दर्द देकर मौहब्बत में मुस्कुराता है कोई।
दर्द देकर मौहब्बत में मुस्कुराता है कोई।
Phool gufran
तिरंगा
तिरंगा
Dr Archana Gupta
लोग हमसे ख़फा खफ़ा रहे
लोग हमसे ख़फा खफ़ा रहे
Surinder blackpen
गए वे खद्दर धारी आंसू सदा बहाने वाले।
गए वे खद्दर धारी आंसू सदा बहाने वाले।
कुंवर तुफान सिंह निकुम्भ
कविता : याद
कविता : याद
Rajesh Kumar Arjun
हिज़्र
हिज़्र
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
तुम अभी आना नहीं।
तुम अभी आना नहीं।
Taj Mohammad
आप को मरने से सिर्फ आप बचा सकते हैं
आप को मरने से सिर्फ आप बचा सकते हैं
पूर्वार्थ
■ आज का विचार।।
■ आज का विचार।।
*Author प्रणय प्रभात*
🐾🐾अपने नक़्शे पा पर तुम्हें खोज रहा हूँ🐾🐾
🐾🐾अपने नक़्शे पा पर तुम्हें खोज रहा हूँ🐾🐾
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
एक पंछी
एक पंछी
Shiv kumar Barman
बेजुबान और कसाई
बेजुबान और कसाई
मनोज कर्ण
सेंगोल की जुबानी आपबिती कहानी ?🌅🇮🇳🕊️💙
सेंगोल की जुबानी आपबिती कहानी ?🌅🇮🇳🕊️💙
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
Loading...