Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Jun 2016 · 1 min read

पिपासा

न तृष्णा रही शेष ही आज कोई न है ब्रह्म को जानने की पिपासा
नहीं चाहता मोक्ष को भी सुनो मैं नहीं बन्ध कोई लगा है भला सा
नहीं चाहता सिद्धि विज्ञान वाली बुलाये भले ही मुझे आज नासा
सदा प्यास मैं झेलता ही रहा हूँ न जाने मुझे विश्व में कोई प्यासा
रचनाकार
डॉ आशुतोष वाजपेयी
ज्योतिषाचार्य
लखनऊ

Language: Hindi
Tag: कविता
1 Like · 401 Views
You may also like:
ए. और. ये , पंचमाक्षर , अनुस्वार / अनुनासिक ,...
Subhash Singhai
🇭🇺 झाँसी की क्षत्राणी /ब्राह्मण कुल की एवं भारतवर्ष की...
Pt. Brajesh Kumar Nayak
सुबह
AMRESH KUMAR VERMA
क्या ठहर जाना ठीक है
कवि दीपक बवेजा
दिल ने किया था
Dr fauzia Naseem shad
वो पहलू में आयें तभी बात होगी।
सत्य कुमार प्रेमी
गुरू
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
"अद्भुत हिंदुस्तान"
Dr Meenu Poonia
रेलगाड़ी- ट्रेनगाड़ी
Buddha Prakash
नहीं बचेगी जल विन मीन
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
पथरी का आयुर्वेदिक उपचार
लक्ष्मी सिंह
👀👁️🕶️मैंने तुम्हें देखा,कई बार देखा🕶️👁️👀
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
विपक्ष की राजनीति
Shekhar Chandra Mitra
कनुप्रिया
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
दुश्मन बना देता है।
Taj Mohammad
थक गये हैं कदम अब चलेंगे नहीं
Dr Archana Gupta
" दृष्टिकोण "
DrLakshman Jha Parimal
मचल रहा है दिल,इसे समझाओ
Ram Krishan Rastogi
★HAPPY FATHER'S DAY ★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
I got forever addicted.
Manisha Manjari
बेचारी ये जनता
शेख़ जाफ़र खान
गुरु महिमा
Vishnu Prasad 'panchotiya'
"पुष्प"एक आत्मकथा मेरी
Archana Shukla "Abhidha"
दिल लगाऊं कहां
Kavita Chouhan
*मौसम प्यारा लगे (वर्षा गीत )*
Ravi Prakash
प्रतीक्षित
Shiva Awasthi
✍️तुम्हे...!✍️
'अशांत' शेखर
उस पार
shabina. Naaz
भोरे
spshukla09179
शहीद भारत यदुवंशी को मेरा नमन
Surabhi bharati
Loading...