Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jun 17, 2016 · 1 min read

पिपासा

न तृष्णा रही शेष ही आज कोई न है ब्रह्म को जानने की पिपासा
नहीं चाहता मोक्ष को भी सुनो मैं नहीं बन्ध कोई लगा है भला सा
नहीं चाहता सिद्धि विज्ञान वाली बुलाये भले ही मुझे आज नासा
सदा प्यास मैं झेलता ही रहा हूँ न जाने मुझे विश्व में कोई प्यासा
रचनाकार
डॉ आशुतोष वाजपेयी
ज्योतिषाचार्य
लखनऊ

1 Like · 227 Views
You may also like:
इश्क में बेचैनियाँ बेताबियाँ बहुत हैं।
Taj Mohammad
योग क्या है और इसकी महत्ता
Ram Krishan Rastogi
आपस में तुम मिलकर रहना
Krishan Singh
कविता " बोध "
vishwambhar pandey vyagra
कबीर साहेब की शिक्षाएं
vikash Kumar Nidan
देश के हालात
Shekhar Chandra Mitra
आपके जाने के बाद
pradeep nagarwal
मेरे सनम
DESH RAJ
जादूगर......
Vaishnavi Gupta
युद्ध सिर्फ प्रश्न खड़ा करता है [भाग३]
Anamika Singh
"एक नज़्म लिख रहा हूँ"
Lohit Tamta
कांटों पर उगना सीखो
VINOD KUMAR CHAUHAN
महापंडित ठाकुर टीकाराम 18वीं सदीमे वैद्यनाथ मंदिर के प्रधान पुरोहित
श्रीहर्ष आचार्य
【31】{~} बच्चों का वरदान निंदिया {~}
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
वक्त सा गुजर गया है।
Taj Mohammad
जबसे मुहब्बतों के तरफ़दार......
अश्क चिरैयाकोटी
GOD YOU are merciful.
Taj Mohammad
$प्रीतम के दोहे
आर.एस. 'प्रीतम'
'माँ मुझे बहुत याद आती हैं'
Rashmi Sanjay
शेर
dks.lhp
सच
अंजनीत निज्जर
संकरण हो गया
सिद्धार्थ गोरखपुरी
ये दिल धड़कता नही अब तुम्हारे बिना
Ram Krishan Rastogi
रिश्ते
कुलदीप दहिया "मरजाणा दीप"
पिता की व्यथा
मनोज कर्ण
पापा मेरे पापा ॥
सुनीता महेन्द्रू
दिनांक 10 जून 2019 से 19 जून 2019 तक अग्रवाल...
Ravi Prakash
हमारे शुभेक्षु पिता
Aditya Prakash
माहौल
AMRESH KUMAR VERMA
वोट भी तो दिल है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
Loading...