Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Dec 2022 · 1 min read

पिनाका

शिव धनु मोह प्रिय बहु,
जो तोड़े सो वध होए
विनम्र भाव से देखे रामा,
जब रामा ललकार रहोए

मुझसा पापी कोई ना होए,
जिसू कारण क्रोधित आप सो होए
दंड दीनू को दिजे प्रभु
जस निर्मल आप मन होए

सुनत राम की मधुर वाणी
परशु भए भाव विभोर
देखत जब शांत ह्रदय से
प्रत्यक्ष प्रकट कमलनयन होए।।

Language: Hindi
5 Likes · 2 Comments · 320 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
स्वदेशी कुंडल ( राय देवीप्रसाद 'पूर्ण' )
स्वदेशी कुंडल ( राय देवीप्रसाद 'पूर्ण' )
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
वो कहती हैं ग़ैर हों तुम अब! हम तुमसे प्यार नहीं करते
वो कहती हैं ग़ैर हों तुम अब! हम तुमसे प्यार नहीं करते
The_dk_poetry
चन्द्रयान अभियान
चन्द्रयान अभियान
surenderpal vaidya
आपकी सोच
आपकी सोच
Dr fauzia Naseem shad
जबसे उनको रकीब माना है।
जबसे उनको रकीब माना है।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
जीवन का कोई सार न हो
जीवन का कोई सार न हो
Shweta Soni
चंद्रयान-3 / (समकालीन कविता)
चंद्रयान-3 / (समकालीन कविता)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
काव्य में सहृदयता
काव्य में सहृदयता
कवि रमेशराज
#लघुकथा- चुनावी साल, वही बवाल
#लघुकथा- चुनावी साल, वही बवाल
*प्रणय प्रभात*
थक गये चौकीदार
थक गये चौकीदार
Shyamsingh Lodhi Rajput (Tejpuriya)
माँ
माँ
SHAMA PARVEEN
ग़ज़ल सगीर
ग़ज़ल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
*आता मौसम ठंड का, ज्यों गर्मी के बाद (कुंडलिया)*
*आता मौसम ठंड का, ज्यों गर्मी के बाद (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
तमाशा जिंदगी का हुआ,
तमाशा जिंदगी का हुआ,
शेखर सिंह
"उम्मीदों की जुबानी"
Dr. Kishan tandon kranti
जल जंगल जमीन
जल जंगल जमीन
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
संसार का स्वरूप (2)
संसार का स्वरूप (2)
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
2836. *पूर्णिका*
2836. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
ऐ ज़िंदगी
ऐ ज़िंदगी
Shekhar Chandra Mitra
नारी क्या है
नारी क्या है
Ram Krishan Rastogi
कदमों में बिखर जाए।
कदमों में बिखर जाए।
लक्ष्मी सिंह
गर्मी आई
गर्मी आई
Dr. Pradeep Kumar Sharma
बीज अंकुरित अवश्य होगा
बीज अंकुरित अवश्य होगा
VINOD CHAUHAN
अरुणोदय
अरुणोदय
Manju Singh
"" *आओ बनें प्रज्ञावान* ""
सुनीलानंद महंत
ज़रा सा पास बैठो तो तुम्हें सब कुछ बताएँगे
ज़रा सा पास बैठो तो तुम्हें सब कुछ बताएँगे
Meenakshi Masoom
ये धरती महान है
ये धरती महान है
Santosh kumar Miri
इतनी खुबसुरत हो तुम
इतनी खुबसुरत हो तुम
Diwakar Mahto
ये दुनिया गोल है
ये दुनिया गोल है
Megha saroj
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
Loading...