Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Sep 2022 · 1 min read

पितृपक्ष_विशेष

नमन
पूजनीय पितृ हमारा आपका हम सभी का सर्वथा कल्याण करें।
#पितृपक्ष_विशेष
____________________________________________
दे गये हमको धरा पर जन्म जीवन मान प्यारे।
व्यक्त कर निष्ठा तू अपनी दे उन्हें सम्मान प्यारे।।

है यही अवलंब बाकी क्या उन्हें हम दे रहे हैं।
बंध का अनुबंध ऐसा सब उन्हीं से ले रहे हैं।
जो हमें सब दे गये थे वंश की वो आन प्यारे।
व्यक्त कर निष्ठा तू अपनी दे उन्हें सम्मान प्यारे।।

दान देकर तू बड़ा कैसे हुआ हमको बता दे।
जो मिला उनसे मिला यदि है गलत हमको जता दे।
धन्यवादी बन अभी तू मान ले अहसान प्यारे।
व्यक्त कर निष्ठा तू अपनी दे उन्हें सम्मान प्यारे।।

भेंट हमको दे गये जो इस जगत में नाम अपना।
छोड़ कर कबके गये तेरे लिए निज धाम अपना।
पक्ष यह उनके लिए करले तनिक गुणगान प्यारे।
व्यक्त कर निष्ठा तू अपनी दे उन्हें सम्मान प्यारे।।

श्राद्ध यह श्रद्धा समर्पित सत्य है स्वीकार कर ले।
पूज्य-पूज्या मान ले उनके हृदय अधिकार कर ले।
आज उनके नाम पर ही दीन को दे दान प्यारे।
व्यक्त कर निष्ठा तू अपनी दे उन्हें सम्मान प्यारे।।

दिग दिगंतर से सनातन धर्म का पर्याय सुन्दर।
आचरण का सार सुन्दर कर्म का अध्याय सुन्दर।
कह रहा हम से सनातन है यही शुभ ज्ञान प्यारे।
व्यक्त कर निष्ठा तू अपनी दे उन्हें सम्मान प्यारे।।

✍️ संजीव शुक्ल ‘सचिन’

Language: Hindi
Tag: गीत
1 Like · 181 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from संजीव शुक्ल 'सचिन'
View all
You may also like:
कथित साझा विपक्ष
कथित साझा विपक्ष
*Author प्रणय प्रभात*
"ऐसा मंजर होगा"
पंकज कुमार कर्ण
*पानी बरसा हो गई, आफत में अब जान (कुंडलिया)*
*पानी बरसा हो गई, आफत में अब जान (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
"गिरना, हारना नहीं है"
Dr. Kishan tandon kranti
नवगीत
नवगीत
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
The jaurney of our life begins inside the depth of our mothe
The jaurney of our life begins inside the depth of our mothe
Sakshi Tripathi
// प्रसन्नता //
// प्रसन्नता //
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
सबरी के जूठे बेर चखे प्रभु ने उनका उद्धार किया।
सबरी के जूठे बेर चखे प्रभु ने उनका उद्धार किया।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
गैंगवार में हो गया, टिल्लू जी का खेल
गैंगवार में हो गया, टिल्लू जी का खेल
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
सावनी श्यामल घटाएं
सावनी श्यामल घटाएं
surenderpal vaidya
💐अज्ञात के प्रति-28💐
💐अज्ञात के प्रति-28💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
If you ever need to choose between Love & Career
If you ever need to choose between Love & Career
पूर्वार्थ
रिश्तों से अब स्वार्थ की गंध आने लगी है
रिश्तों से अब स्वार्थ की गंध आने लगी है
Bhupendra Rawat
अन्नदाता किसान
अन्नदाता किसान
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
दुखांत जीवन की कहानी में सुखांत तलाशना बेमानी है
दुखांत जीवन की कहानी में सुखांत तलाशना बेमानी है
Guru Mishra
यहां कश्मीर है केदार है गंगा की माया है।
यहां कश्मीर है केदार है गंगा की माया है।
सत्य कुमार प्रेमी
!! घड़ी समर की !!
!! घड़ी समर की !!
Chunnu Lal Gupta
अज्ञानी की कलम
अज्ञानी की कलम
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
भीड़ के साथ
भीड़ के साथ
Paras Nath Jha
इंसान स्वार्थी इसलिए है क्योंकि वह बिना स्वार्थ के किसी भी क
इंसान स्वार्थी इसलिए है क्योंकि वह बिना स्वार्थ के किसी भी क
Rj Anand Prajapati
व्यक्ति और विचार में यदि चुनना पड़े तो विचार चुनिए। पर यदि व
व्यक्ति और विचार में यदि चुनना पड़े तो विचार चुनिए। पर यदि व
Sanjay ' शून्य'
बेपरवाह खुशमिज़ाज़ पंछी
बेपरवाह खुशमिज़ाज़ पंछी
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
बंटते हिन्दू बंटता देश
बंटते हिन्दू बंटता देश
विजय कुमार अग्रवाल
चैन से जिंदगी
चैन से जिंदगी
Basant Bhagawan Roy
Ranjeet Shukla
Ranjeet Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
फौजी जवान
फौजी जवान
Satish Srijan
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
तेरा साथ है तो मुझे क्या कमी है
तेरा साथ है तो मुझे क्या कमी है
DR ARUN KUMAR SHASTRI
2624.पूर्णिका
2624.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
गीत... (आ गया जो भी यहाँ )
गीत... (आ गया जो भी यहाँ )
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
Loading...