Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Aug 2016 · 1 min read

“पिता”

सदोका रचनायें

“पिता”
(१)
वट का वृक्ष
पिता की छत्रछाया
पालनकर्ता
नारियल समान
नर्म-कठोर ह्रदय

(२)
स्नेहिल माता
हरदिल अजीज
पिता की छवि
मुख पे कठोरता
ह्रदय कोमलता

(३)
सहते पिता
हर मुश्किल स्वयं
मुस्कान सदा
सजे सौम्य मुख पे
चाहे सबकी ख़ुशी

(४)
राह दिखाए
कान्धा बचपन में
नायक बन
हौंसला संघर्षों में
पिता की पहचान

“सन्दीप कुमार”

Language: Hindi
489 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
अलसाई आँखे
अलसाई आँखे
A🇨🇭maanush
राक्षसी कृत्य - दीपक नीलपदम्
राक्षसी कृत्य - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
सुनील गावस्कर
सुनील गावस्कर
Dr. Pradeep Kumar Sharma
सत्य की खोज
सत्य की खोज
dks.lhp
कोई गुरबत
कोई गुरबत
Dr fauzia Naseem shad
तू भी इसां कहलाएगा
तू भी इसां कहलाएगा
Dinesh Kumar Gangwar
2842.*पूर्णिका*
2842.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
हृदय में धड़कन सा बस जाये मित्र वही है
हृदय में धड़कन सा बस जाये मित्र वही है
Er. Sanjay Shrivastava
*थोड़ा-थोड़ा दाग लगा है, सब की चुनरी में (हिंदी गजल)
*थोड़ा-थोड़ा दाग लगा है, सब की चुनरी में (हिंदी गजल)
Ravi Prakash
रमेशराज की पेड़ विषयक मुक्तछंद कविताएँ
रमेशराज की पेड़ विषयक मुक्तछंद कविताएँ
कवि रमेशराज
तिरंगा
तिरंगा
Neeraj Agarwal
क्या गुजरती होगी उस दिल पर
क्या गुजरती होगी उस दिल पर
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
"नहीं तैरने आता था तो"
Dr. Kishan tandon kranti
अपने अच्छे कर्मों से अपने व्यक्तित्व को हम इतना निखार लें कि
अपने अच्छे कर्मों से अपने व्यक्तित्व को हम इतना निखार लें कि
Paras Nath Jha
कड़वा सच
कड़वा सच
Jogendar singh
सत्य की खोज
सत्य की खोज
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
सर्द हवाओं का मौसम
सर्द हवाओं का मौसम
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
पल
पल
Sangeeta Beniwal
गुज़िश्ता साल
गुज़िश्ता साल
Dr.Wasif Quazi
जिनके जानें से जाती थी जान भी मैंने उनका जाना भी देखा है अब
जिनके जानें से जाती थी जान भी मैंने उनका जाना भी देखा है अब
Vishvendra arya
👍👍👍
👍👍👍
*Author प्रणय प्रभात*
*फितरत*
*फितरत*
Dushyant Kumar
है वही, बस गुमराह हो गया है…
है वही, बस गुमराह हो गया है…
Anand Kumar
शिर ऊँचा कर
शिर ऊँचा कर
महेश चन्द्र त्रिपाठी
राह कठिन है राम महल की,
राह कठिन है राम महल की,
Satish Srijan
ग़ज़ल - फितरतों का ढेर
ग़ज़ल - फितरतों का ढेर
रोहताश वर्मा 'मुसाफिर'
फालतू की शान औ'र रुतबे में तू पागल न हो।
फालतू की शान औ'र रुतबे में तू पागल न हो।
सत्य कुमार प्रेमी
इंसान को इंसान से दुर करनेवाला केवल दो चीज ही है पहला नाम मे
इंसान को इंसान से दुर करनेवाला केवल दो चीज ही है पहला नाम मे
Dr. Man Mohan Krishna
जीवन
जीवन
नन्दलाल सुथार "राही"
मत खोलो मेरी जिंदगी की किताब
मत खोलो मेरी जिंदगी की किताब
Adarsh Awasthi
Loading...