Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 May 2023 · 1 min read

*पिता (सात दोहे )*

पिता (सात दोहे )
———————————————–
( 1 )
जेठ दुपहरी में मिली ,ज्यों पेड़ों की छाँव
चढ़े पिता की गोद में , नन्हे – से दो पाँव
( 2 )
घर में खुशियाँ मिल गईं ,सबको सौ-सौ बार
नीवों में बैठा पिता , खुशियों का आधार
( 3 )
थका हुआ लेकर खड़ा ,घर का पूरा भार
कभी पिता ने पर नहीं ,चाहा कुछ आभार
( 4 )
बन पाया जो खुद नहीं ,गढ़ता उसका रूप
रंक पिता तो क्या हुआ ,बच्चे तो हों भूप
( 5 )
घर को गिरवीं रख रची , बच्चों की तकदीर
छिपी पिता में झाँकती ,ईश्वर की तस्वीर
( 6 )
घर में सब की चाहतें , सबके कुछ अरमान
पूरा करता है पिता ,ज्यों सोने की खान
( 7 )
जोड़ा जो कुछ कर दिया ,सब बच्चों के नाम
जाने यह गलती हुई ,या फिर अच्छा काम
—————————————————
रचयिता : रवि प्रकाश ,बाजार सर्राफा
रामपुर (उत्तर प्रदेश)
मोबाइल 99976 15451

1 Like · 474 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
रास्ते पर कांटे बिछे हो चाहे, अपनी मंजिल का पता हम जानते है।
रास्ते पर कांटे बिछे हो चाहे, अपनी मंजिल का पता हम जानते है।
Yogi Yogendra Sharma : Motivational Speaker
हर मौहब्बत का एहसास तुझसे है।
हर मौहब्बत का एहसास तुझसे है।
Phool gufran
राजकुमारी कार्विका
राजकुमारी कार्विका
Anil chobisa
अनपढ़ व्यक्ति से ज़्यादा पढ़ा लिखा व्यक्ति जातिवाद करता है आ
अनपढ़ व्यक्ति से ज़्यादा पढ़ा लिखा व्यक्ति जातिवाद करता है आ
Anand Kumar
मातृदिवस
मातृदिवस
Satish Srijan
तुम्हारे दीदार की तमन्ना
तुम्हारे दीदार की तमन्ना
Anis Shah
प्राण-प्रतिष्ठा(अयोध्या राम मन्दिर)
प्राण-प्रतिष्ठा(अयोध्या राम मन्दिर)
लक्ष्मी सिंह
गाँधी जी की अंगूठी (काव्य)
गाँधी जी की अंगूठी (काव्य)
Ravi Prakash
बमुश्किल से मुश्किल तक पहुँची
बमुश्किल से मुश्किल तक पहुँची
सिद्धार्थ गोरखपुरी
" मेरा रत्न "
Dr Meenu Poonia
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी
भँवर में जब कभी भी सामना मझदार का होना
भँवर में जब कभी भी सामना मझदार का होना
अंसार एटवी
बहुत जरूरी है तो मुझे खुद को ढूंढना
बहुत जरूरी है तो मुझे खुद को ढूंढना
Ranjeet kumar patre
आज़ाद भारत एक ऐसा जुमला है
आज़ाद भारत एक ऐसा जुमला है
SURYA PRAKASH SHARMA
शेखर ✍️
शेखर ✍️
शेखर सिंह
क्या विरासत में
क्या विरासत में
Dr fauzia Naseem shad
सूरज आएगा Suraj Aayega
सूरज आएगा Suraj Aayega
Mohan Pandey
आग से जल कर
आग से जल कर
हिमांशु Kulshrestha
वीज़ा के लिए इंतज़ार
वीज़ा के लिए इंतज़ार
Shekhar Chandra Mitra
हाथ में उसके हाथ को लेना ऐसे था
हाथ में उसके हाथ को लेना ऐसे था
Shweta Soni
यूं हर हर क़दम-ओ-निशां पे है ज़िल्लतें
यूं हर हर क़दम-ओ-निशां पे है ज़िल्लतें
Aish Sirmour
कहाँ है!
कहाँ है!
Neelam Sharma
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
3136.*पूर्णिका*
3136.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मोहब्बत के लिए गुलकारियां दोनों तरफ से है। झगड़ने को मगर तैयारियां दोनों तरफ से। ❤️ नुमाइश के लिए अब गुफ्तगू होती है मिलने पर। मगर अंदर से तो बेजारियां दोनो तरफ से हैं। ❤️
मोहब्बत के लिए गुलकारियां दोनों तरफ से है। झगड़ने को मगर तैयारियां दोनों तरफ से। ❤️ नुमाइश के लिए अब गुफ्तगू होती है मिलने पर। मगर अंदर से तो बेजारियां दोनो तरफ से हैं। ❤️
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
■ आज का चिंतन...
■ आज का चिंतन...
*प्रणय प्रभात*
गरीब हैं लापरवाह नहीं
गरीब हैं लापरवाह नहीं
Dr. Pradeep Kumar Sharma
"चिन्हों में आम"
Dr. Kishan tandon kranti
जीतना अच्छा है,पर अपनों से हारने में ही मज़ा है।
जीतना अच्छा है,पर अपनों से हारने में ही मज़ा है।
अनिल कुमार निश्छल
ज़िंदगी  ने  अब  मुस्कुराना  छोड़  दिया  है
ज़िंदगी ने अब मुस्कुराना छोड़ दिया है
Bhupendra Rawat
Loading...