Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#2 Trending Author
May 10, 2022 · 3 min read

पिता की सीख

एक कहानी सुनाती हूँ मै, अपने बचपन की।जो हर रोज सुना करती थी मैं अपने पापा के मुख से।
एक था पिता जो बुढ़ा होने को चला था। पढ़ा लिखा कर बेटे को बड़ा कर दिया था ।पर बेटा था, जो काम करने का नाम न ले रहा था। कैसे समझाएँ बेटे को वह सोच में पड़ा था। कभी प्यार से समझाता था, कभी वह डाँट लगाता था, पर बेटा जो था पिता के बातों को अनसुना कर देता था और दोस्तों के साथ वह पिता के रूपयें से गुलछड़े उड़ाने निकल जाता था। बेचरा पिता यह सब देख मन ही मन उदास हो जाता था। कैसे बेटे को सही राह पर लाए, वह सोच में पर जाता था। एक दिन बेटा जब घर को आया, पिता ने एक प्रस्ताव उसके सामने लाया। बेटा जिस दिन तुम अपनी मेहनत से एक रूपया मुझे कमा कर दोगे। उस दिन से मैं तुम्हें रोकना-टोकना बंद कर दूंगा।यह बात सुनकर बेटा बहुत खुश हो गया।बोला, “पिताजी कल ही मै आपको एक रूपया कमा कर देता हूँ।” कल होकर बेटा जब घर से निकला तो मन ही मन बहुत खुश था। सोच रहा था की आज मैं एक रूपया लाकर पिताजी को दे दूंगा और रोज-रोज की डाँट सुनने से मुक्ति पा लूँगा।वह पूरे दिन इधर-उधर घूम-घूम कर जब घर आया और पिता के हाथों में एक रूपया देते हुए कहा यह लिजिए पिताजी। पिता ने उस रुपये को ध्यान से देखा और उसे देखकर फेंक दिया और बोला, “बेटा यह तेरे मेहनत का कमाया हुआ नही।” यह सुनकर बेटा सोचा शायद पिताजी ने अपना वाला रूपया पहचान लिया है इसलिए वह वहाँ से चूपचाप निकल गया।अगले दिन वह घर से निकला और दोस्त से एक रूपया उधार लेकर घर आया और बोला यह लिजिए एक रूपया मै कमा कर लाया हूँ। पिता ने फिर उस रूपया को देखा और फिर उसे फेंक दिया।बेटा फिर बिना कुछ पूछे वहाँ से निकल गया। बेटे और पिता का यह क्रम चार- पाँच दिनों तक चलता रहा ।इन सब चीजों से परेशान एक दिन बेटा ने सोचा पता नही पिताजी को कैसे पता चल जाता है कि यह रूपया मेरा कमाया हुआ नही है। आज मै मेहनत से कमा कर रूपया लेकर जाता हूँ देखता हूँ पिताजी क्या करते है। उस दिन वह मेहनत करके एक रूपया कमा कर लाया और पिता के हाथों में देते हुए कहा ,”यह लिजिए रूपया इसे मैंने मेहनत से कमाया है।” पिता ने फिर से उस रूपया को देखा और फेंकने लगा। यह देख बेटे ने झट से पिता का हाथ पकड़कर कहा,” पिताजी इसे मत फेंको, इसे मैने मेहनत से कमाया है।” यह सुनकर बुढा पिता मुस्कुराने लगा और बोला,” आज तुम अपने मेहनत का एक रूपया मुझे फेंकने नही दे रहे हो और तुम जो मेरे द्वारा कमाए हुए सैकड़ो रूपया जो अपने दोस्तो के साथ बर्बाद करके आते हो, सोचों मुझे कितना बुरा लगता होगा।” यह सुनकर बेटा लज्जित हो गया।अगले दिन सुबह वह पिता के कामों मे हाथ बटाने लगा।पिता भी बेटे को मेहनत करते देख खुश रहने लगा।

~अनामिका

2 Likes · 120 Views
You may also like:
दिलदार आना बाकी है
Jatashankar Prajapati
【34】*!!* आग दबाये मत रखिये *!!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
कायनात के जर्रे जर्रे में।
Taj Mohammad
कभी कभी।
Taj Mohammad
“NEW ABORTION LAW IN AMERICA SNATCHES THE RIGHT OF WOMEN”
DrLakshman Jha Parimal
मुक्तक: युद्ध को विराम दो.!
Prabhudayal Raniwal
🌷मनोरथ🌷
पंकज कुमार "कर्ण"
संघर्ष
Arjun Chauhan
मां ने।
Taj Mohammad
थोड़ी मेहनत और कर लो
Nitu Sah
जलवा ए अफ़रोज़।
Taj Mohammad
क्या लिखूं मैं मां के बारे में
Krishan Singh
किसी से ना कोई मलाल है।
Taj Mohammad
सारी फिज़ाएं छुप सी गई हैं
VINOD KUMAR CHAUHAN
बेटी का पत्र माँ के नाम
Anamika Singh
【19】 मधुमक्खी
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
मातृभाषा हिंदी
AMRESH KUMAR VERMA
मां-बाप
Taj Mohammad
"बीते दिनों से कुछ खास हुआ है"
Lohit Tamta
ये कैसा बेटी बाप का रिश्ता है?
Taj Mohammad
इज्जत
Rj Anand Prajapati
वीर चंद्र सिंह गढ़वाली पर दोहे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
"दोस्त"
Lohit Tamta
आईनें में सूरत।
Taj Mohammad
[ कुण्डलिया]
शेख़ जाफ़र खान
और मैं .....
AJAY PRASAD
खामोशियाँ
अंजनीत निज्जर
आमाल।
Taj Mohammad
पुस्तैनी जमीन
आकाश महेशपुरी
बुंदेली दोहे
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
Loading...