Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 May 2022 · 3 min read

पिता की सीख

एक कहानी सुनाती हूँ मै, अपने बचपन की।जो हर रोज सुना करती थी मैं अपने पापा के मुख से।
एक था पिता जो बुढ़ा होने को चला था। पढ़ा लिखा कर बेटे को बड़ा कर दिया था ।पर बेटा था, जो काम करने का नाम न ले रहा था। कैसे समझाएँ बेटे को वह सोच में पड़ा था। कभी प्यार से समझाता था, कभी वह डाँट लगाता था, पर बेटा जो था पिता के बातों को अनसुना कर देता था और दोस्तों के साथ वह पिता के रूपयें से गुलछड़े उड़ाने निकल जाता था। बेचरा पिता यह सब देख मन ही मन उदास हो जाता था। कैसे बेटे को सही राह पर लाए, वह सोच में पर जाता था। एक दिन बेटा जब घर को आया, पिता ने एक प्रस्ताव उसके सामने लाया। बेटा जिस दिन तुम अपनी मेहनत से एक रूपया मुझे कमा कर दोगे। उस दिन से मैं तुम्हें रोकना-टोकना बंद कर दूंगा।यह बात सुनकर बेटा बहुत खुश हो गया।बोला, “पिताजी कल ही मै आपको एक रूपया कमा कर देता हूँ।” कल होकर बेटा जब घर से निकला तो मन ही मन बहुत खुश था। सोच रहा था की आज मैं एक रूपया लाकर पिताजी को दे दूंगा और रोज-रोज की डाँट सुनने से मुक्ति पा लूँगा।वह पूरे दिन इधर-उधर घूम-घूम कर जब घर आया और पिता के हाथों में एक रूपया देते हुए कहा यह लिजिए पिताजी। पिता ने उस रुपये को ध्यान से देखा और उसे देखकर फेंक दिया और बोला, “बेटा यह तेरे मेहनत का कमाया हुआ नही।” यह सुनकर बेटा सोचा शायद पिताजी ने अपना वाला रूपया पहचान लिया है इसलिए वह वहाँ से चूपचाप निकल गया।अगले दिन वह घर से निकला और दोस्त से एक रूपया उधार लेकर घर आया और बोला यह लिजिए एक रूपया मै कमा कर लाया हूँ। पिता ने फिर उस रूपया को देखा और फिर उसे फेंक दिया।बेटा फिर बिना कुछ पूछे वहाँ से निकल गया। बेटे और पिता का यह क्रम चार- पाँच दिनों तक चलता रहा ।इन सब चीजों से परेशान एक दिन बेटा ने सोचा पता नही पिताजी को कैसे पता चल जाता है कि यह रूपया मेरा कमाया हुआ नही है। आज मै मेहनत से कमा कर रूपया लेकर जाता हूँ देखता हूँ पिताजी क्या करते है। उस दिन वह मेहनत करके एक रूपया कमा कर लाया और पिता के हाथों में देते हुए कहा ,”यह लिजिए रूपया इसे मैंने मेहनत से कमाया है।” पिता ने फिर से उस रूपया को देखा और फेंकने लगा। यह देख बेटे ने झट से पिता का हाथ पकड़कर कहा,” पिताजी इसे मत फेंको, इसे मैने मेहनत से कमाया है।” यह सुनकर बुढा पिता मुस्कुराने लगा और बोला,” आज तुम अपने मेहनत का एक रूपया मुझे फेंकने नही दे रहे हो और तुम जो मेरे द्वारा कमाए हुए सैकड़ो रूपया जो अपने दोस्तो के साथ बर्बाद करके आते हो, सोचों मुझे कितना बुरा लगता होगा।” यह सुनकर बेटा लज्जित हो गया।अगले दिन सुबह वह पिता के कामों मे हाथ बटाने लगा।पिता भी बेटे को मेहनत करते देख खुश रहने लगा।

~अनामिका

Language: Hindi
3 Likes · 1 Comment · 2372 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
चुका न पाएगा कभी,
चुका न पाएगा कभी,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
दोहा त्रयी. . . .
दोहा त्रयी. . . .
sushil sarna
पढ़े साहित्य, रचें साहित्य
पढ़े साहित्य, रचें साहित्य
संजय कुमार संजू
जीवन का जीवन पर
जीवन का जीवन पर
Dr fauzia Naseem shad
अनकही दोस्ती
अनकही दोस्ती
राजेश बन्छोर
मुझे याद आता है मेरा गांव
मुझे याद आता है मेरा गांव
Adarsh Awasthi
Price less मोहब्बत 💔
Price less मोहब्बत 💔
Rohit yadav
Being quiet not always shows you're wise but sometimes it sh
Being quiet not always shows you're wise but sometimes it sh
नव लेखिका
इतनी महंगी हो गई है रिश्तो की चुंबक
इतनी महंगी हो गई है रिश्तो की चुंबक
कवि दीपक बवेजा
पहले सा मौसम ना रहा
पहले सा मौसम ना रहा
Sushil chauhan
*समीक्षकों के चक्कर में( हास्य व्यंग्य)*
*समीक्षकों के चक्कर में( हास्य व्यंग्य)*
Ravi Prakash
23/219. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/219. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
वो पास आने लगी थी
वो पास आने लगी थी
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
विधवा
विधवा
Acharya Rama Nand Mandal
■ जैसी करनी, वैसी भरनी।।
■ जैसी करनी, वैसी भरनी।।
*Author प्रणय प्रभात*
वक्त की नज़ाकत और सामने वाले की शराफ़त,
वक्त की नज़ाकत और सामने वाले की शराफ़त,
ओसमणी साहू 'ओश'
अहद
अहद
Pratibha Kumari
कितनी भी हो खत्म हो
कितनी भी हो खत्म हो
Taj Mohammad
नया
नया
Neeraj Agarwal
श्री राम
श्री राम
Kavita Chouhan
फ़र्ज़ पर अधिकार तेरा,
फ़र्ज़ पर अधिकार तेरा,
Satish Srijan
Forget and Forgive Solve Many Problems
Forget and Forgive Solve Many Problems
PRATIBHA ARYA (प्रतिभा आर्य )
मन को भाये इमली. खट्टा मीठा डकार आये
मन को भाये इमली. खट्टा मीठा डकार आये
Ranjeet kumar patre
किसी की तारीफ़ करनी है तो..
किसी की तारीफ़ करनी है तो..
Brijpal Singh
जहां पर जन्म पाया है वो मां के गोद जैसा है।
जहां पर जन्म पाया है वो मां के गोद जैसा है।
सत्य कुमार प्रेमी
आशा
आशा
Sanjay ' शून्य'
कल बहुत कुछ सीखा गए
कल बहुत कुछ सीखा गए
Dushyant Kumar Patel
शुभ प्रभात मित्रो !
शुभ प्रभात मित्रो !
Mahesh Jain 'Jyoti'
मेरा सुकून....
मेरा सुकून....
Srishty Bansal
विश्व कप-2023 फाइनल
विश्व कप-2023 फाइनल
दुष्यन्त 'बाबा'
Loading...