Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
May 1, 2022 · 1 min read

पिता का साया हूँ

मै तो इस धरा पर माँ पिता से आया हूँ
हाँ जी मै हूबहू अपने पिता का साया हूँ

उम्मीद ,सपने ना टूटने देते ऐसे होते पिता
इसलिए मै पिता को ही, ईश्वर बनाया हूँ

दुनियादारी की बातों से, अवगत कराया
तब जाकर, लोगो को मै, समझ पाया हूँ

नज़रों से नजरे मिलाके, चलना सिखाते
इसलिए ईश,गुरु,सखा आपको बनाया हूँ

कालचक्र से ख़ुशी गयी तो दुःख आयेगा
पिता के साये में चल ख़ुशी से लहराया हूँ

हौसले बुलंद कर अग्र बढ़ने की प्रेरणा दे
मेरे पिता को अपनी कविता में दर्शाया हूँ

कड़ी परिश्रम करते देखा अपने पिता को
अब सुकूँ के दो पल देकर थोड़ा हर्षाया हूँ

जोड़ रखे है दोनों के नामो को कविता में
प्रेमयाद कुमार नवीन न्या नाम बनाया हूँ

औरो का नहीं पता हमे, हम अपने पिता
को इस कविता में पूरा हूबहू दर्शाया हूँ

स्वरचित/
©® प्रेमयाद कुमार नवीन
जिला – महासमुन्द (छःग)

11 Likes · 18 Comments · 274 Views
You may also like:
✍️✍️गुमराह✍️✍️
"अशांत" शेखर
रोज हम इम्तिहां दे सकेंगे नहीं
Dr Archana Gupta
गैरों की क्या बात करें
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
मौसम की तरह तुम बदल गए हो।
Taj Mohammad
यादों की भूलभुलैया में
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
नैतिकता और सेक्स संतुष्टि का रिलेशनशिप क्या है ?
Deepak Kohli
Oh dear... don't fear.
Taj Mohammad
उसूल
Ray's Gupta
वो कहना ही भूल गया
"अशांत" शेखर
अटल विश्वास दो
Saraswati Bajpai
स्वादिष्ट खीर
Buddha Prakash
सपना
AMRESH KUMAR VERMA
.✍️स्काई इज लिमिटच्या संकल्पना✍️
"अशांत" शेखर
उस रब का शुक्र🙏
Anjana Jain
💐💐प्रेम की राह पर-11💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
तमन्ना ए कल्ब।
Taj Mohammad
धूप कड़ी कर दी
सिद्धार्थ गोरखपुरी
मानव तू हाड़ मांस का।
Taj Mohammad
"विहग"
Ajit Kumar "Karn"
समय ।
Kanchan sarda Malu
दिल्ली की कहानी मेरी जुबानी [हास्य व्यंग्य! ]
Anamika Singh
पिता
Dr. Kishan Karigar
आइना हूं मैं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
The Buddha And His Path
Buddha Prakash
💐 गुजरती शाम के पैग़ाम💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
कुछ कर गुज़र।
Taj Mohammad
✍️लॉकडाउन✍️
"अशांत" शेखर
महाकवि नीरज के बहाने (संस्मरण)
Kanchan Khanna
मां से बिछड़ने की व्यथा
Dr. Alpa H. Amin
बचपन की यादें
AMRESH KUMAR VERMA
Loading...