Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jul 25, 2016 · 1 min read

पावस बहुत रुलाती हो

पावस बहुत रुलाती हो
तरसा तरसा कर आती हो

पीली चमड़ी वाली गर्मी
हो जाती जब बहुत अधर्मी
उमस से भीगा है आँचल
थमी हवा मन करे विकल

पावस हडकाओ सूरज को
रोके मद जो आग उगलता
कहे मेघदूतों से जाकर
करो शीघ्र गर्मी को चलता

इधर उधर बदल पागल से
बिना वस्त्र घूमें घायल से
रुण्ड-मुंड वृक्ष लतिकाएँ
खड़े निरीह से मुख लटकाए

खरी जल के बैरी बादल
बरसाओ ठंडा मीठा जल
तेरा आना टलता जितना
सूखे का भय पलता उतना

पावस बहुत रुलाती हो
तरसा तरसा कर आती हो

1 Comment · 189 Views
You may also like:
ठाकरे को ठोकर
Rj Anand Prajapati
ना कर गुरुर जिंदगी पर इतना भी
VINOD KUMAR CHAUHAN
महंगाई के दोहे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
प्रतिष्ठित मनुष्य
AMRESH KUMAR VERMA
होली का संदेश
अनामिका सिंह
" IDENTITY "
DrLakshman Jha Parimal
जानें कैसा धोखा है।
Taj Mohammad
आशाओं की बस्ती
सूर्यकांत द्विवेदी
दुर्योधन कब मिट पाया:भाग:35
AJAY AMITABH SUMAN
पिता, पिता बने आकाश
indu parashar
महान गुरु श्री रामकृष्ण परमहंस की काव्यमय जीवनी (पुस्तक-समीक्षा)
Ravi Prakash
बंदर मामा गए ससुराल
Manu Vashistha
सत्य छिपता नहीं...
मनोज कर्ण
इश्क का गम।
Taj Mohammad
✍️मैं और वो..(??)✍️
"अशांत" शेखर
सालो लग जाती है रूठे को मानने में
Anuj yadav
✍️मुझे कातिब बनाया✍️
"अशांत" शेखर
जो बीत गई।
Taj Mohammad
जमीं से आसमान तक।
Taj Mohammad
सरस्वती कविता
Ankit Halke jha Official's
कोई खामोशियां नहीं सुनता
Dr fauzia Naseem shad
बादल को पाती लिखी
अटल मुरादाबादी, ओज व व्यंग कवि
कितना मुश्किल है पिता होना
Ashish Kumar
मेरे दिल का दर्द
Ram Krishan Rastogi
कृतिकार पं बृजेश कुमार नायक की कृति /खंड काव्य/शोधपरक ग्रंथ...
Pt. Brajesh Kumar Nayak
💐भगवतः स्मृति: च सेवा च महत्ववान्💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
✍️बुलडोझर✍️
"अशांत" शेखर
श्रीराम धरा पर आए थे
सिद्धार्थ गोरखपुरी
इन्द्रवज्रा छंद (शिवेंद्रवज्रा स्तुति)
बासुदेव अग्रवाल 'नमन'
✍️कुछ राज थे✍️
"अशांत" शेखर
Loading...