Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Feb 2024 · 1 min read

पापियों के हाथ

ज्यों एक शिशु ने भ्रूण बनकर, एक जननी के गर्भ में प्रवेश किया।
चिकित्सा और जाँच के नाम पर, परिवार ने हर दिन क्लेश किया।
डॉक्टर भी पेशे से गद्दारी कर, गर्भ के हर भ्रूण का लिंग भाँपते हैं।
कन्या भ्रूण हत्या करते समय, पापियों के हाथ भी नहीं काँपते हैं।

तुमने भी बहुत कोशिशें करी, किन्तु नियति कुछ और चाहती थी।
हुआ कन्या जन्म ऐसे घर में, जहाँ वधू तो केवल बेटा माँगती थी।
खाँके बदले व ढाॅंचे बदले, हम फिर भी लड़के का नाम जापते हैं।
कन्या भ्रूण हत्या करते समय, पापियों के हाथ भी नहीं काँपते हैं।

समाज को नया रूप मिल गया, रिश्ते को नया स्वरूप मिल गया।
लड़का-लड़की में भेद न मिटा, जाँचने का तरीका ख़ूब मिल गया!
कन्या होने पर ढोंगी लोग, भावी दहेज की उथल-पुथल नापते हैं।
कन्या भ्रूण हत्या करते समय, पापियों के हाथ भी नहीं काँपते हैं।

जो कन्या को मारा जायेगा, तो समाज की तस्वीर पूरी कैसे होगी?
जिस घर में लक्ष्मी जन्म लेगी, वहाँ की तक़दीर अधूरी कैसे होगी?
फिर क्यों संतान की चाह को लोग, ऑंसुओं की बूंदों से मापते हैं?
कन्या भ्रूण हत्या करते समय, पापियों के हाथ भी नहीं काँपते हैं।

आज की बेटियाँ तो हर क्षेत्र में, इस देश का परचम लहरा रही हैं।
जल, थल, वायु, पर्वतों पे, राष्ट्रीय ध्वज को शान से फहरा रही हैं।
कोई भी तथ्य मनगढ़ंत नहीं, इन्हें तो संपादक ख़बरों में छापते हैं।
कन्या भ्रूण हत्या करते समय, पापियों के हाथ भी नहीं काँपते हैं।

4 Likes · 53 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
हमारा देश
हमारा देश
Neeraj Agarwal
प्रथम गणेशोत्सव
प्रथम गणेशोत्सव
Raju Gajbhiye
एक काफ़िर की दुआ
एक काफ़िर की दुआ
Shekhar Chandra Mitra
हिंदी शायरी संग्रह
हिंदी शायरी संग्रह
श्याम सिंह बिष्ट
#बैठे_ठाले
#बैठे_ठाले
*Author प्रणय प्रभात*
#डॉ अरुण कुमार शास्त्री
#डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
तन्हाई बिछा के शबिस्तान में
तन्हाई बिछा के शबिस्तान में
सिद्धार्थ गोरखपुरी
सोशलमीडिया की दोस्ती
सोशलमीडिया की दोस्ती
लक्ष्मी सिंह
शुभ होली
शुभ होली
Dr Archana Gupta
पहला श्लोक ( भगवत गीता )
पहला श्लोक ( भगवत गीता )
Bhupendra Rawat
वक्त की जेबों को टटोलकर,
वक्त की जेबों को टटोलकर,
अनिल कुमार
बहुत
बहुत
sushil sarna
ले चल मुझे उस पार
ले चल मुझे उस पार
Satish Srijan
किस किस्से का जिक्र
किस किस्से का जिक्र
Bodhisatva kastooriya
भाई बहिन के त्यौहार का प्रतीक है भाईदूज
भाई बहिन के त्यौहार का प्रतीक है भाईदूज
gurudeenverma198
🌷ज़िंदगी के रंग🌷
🌷ज़िंदगी के रंग🌷
पंकज कुमार कर्ण
सवाल ये नहीं
सवाल ये नहीं
Dr fauzia Naseem shad
विधा:
विधा:"चन्द्रकान्ता वर्णवृत्त" मापनी:212-212-2 22-112-122
rekha mohan
देते फल हैं सर्वदा , जग में संचित कर्म (कुंडलिया)
देते फल हैं सर्वदा , जग में संचित कर्म (कुंडलिया)
Ravi Prakash
डॉ. ध्रुव की दृष्टि में कविता का अमृतस्वरूप
डॉ. ध्रुव की दृष्टि में कविता का अमृतस्वरूप
कवि रमेशराज
"आँखें"
Dr. Kishan tandon kranti
2923.*पूर्णिका*
2923.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
पानी जैसा बनो रे मानव
पानी जैसा बनो रे मानव
Neelam Sharma
नदिया के पार (सिनेमा) / MUSAFIR BAITHA
नदिया के पार (सिनेमा) / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
ग़ज़ल
ग़ज़ल
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
शायरी - संदीप ठाकुर
शायरी - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
“Your work is going to fill a large part of your life, and t
“Your work is going to fill a large part of your life, and t
पूर्वार्थ
पानीपुरी (व्यंग्य)
पानीपुरी (व्यंग्य)
सत्यम प्रकाश 'ऋतुपर्ण'
💐अज्ञात के प्रति-154💐(प्रेम कौतुक-154)
💐अज्ञात के प्रति-154💐(प्रेम कौतुक-154)
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
"एक शोर है"
Lohit Tamta
Loading...