Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Jun 2018 · 1 min read

पापा

पापा तुम स्वरूप दाता
पापा तुम माते सिंदूर हो
पापा तुम जीवन दाताऔं
मेरे भाग्य विधाता हो।

पापा ने पाकर मुझे खोया
अपने को ,
बीज की तरह हर पल सींचा मुझको।
भुला अपने को मार्ग नेकी
का दिखाया
बड़ा कर एक सुखद सा
अहसास दिलाया

पापा तुम देख सुखी बेटी
सुख अभिव्यक्ति
बन जाते
पापा तुम देख मुझको
दुःख की व्यथा हो,
सच कहू तो मेरे मन की
विकलता हो।

छोटी थी सत्यता सदाचार
का पाठ पढ़ा
इन्साफ से जीना सिखाया।
आज वो दुलार
याद बरबस याद आ जाता
वो स्नेहमयी
छायामयी साया साथ चल
पलकें भिगोता

Language: Hindi
74 Likes · 477 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from DR.MDHU TRIVEDI
View all
You may also like:
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
चारों तरफ मीडिया की फौज, बेकाबू तमाशबीनों की भीड़ और हो-हल्ले
चारों तरफ मीडिया की फौज, बेकाबू तमाशबीनों की भीड़ और हो-हल्ले
*प्रणय प्रभात*
दिलरुबा जे रहे
दिलरुबा जे रहे
Shekhar Chandra Mitra
यह मत
यह मत
Santosh Shrivastava
एक ताज़ा कलाम _ नज़्म _ आएगा जो आएगा....
एक ताज़ा कलाम _ नज़्म _ आएगा जो आएगा....
Neelofar Khan
जिंदगी रूठ गयी
जिंदगी रूठ गयी
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
पढ़िए ! पुस्तक : कब तक मारे जाओगे पर चर्चित साहित्यकार श्री सूरजपाल चौहान जी के विचार।
पढ़िए ! पुस्तक : कब तक मारे जाओगे पर चर्चित साहित्यकार श्री सूरजपाल चौहान जी के विचार।
Dr. Narendra Valmiki
गले लगा लेना
गले लगा लेना
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
रमेशराज की चिड़िया विषयक मुक्तछंद कविताएँ
रमेशराज की चिड़िया विषयक मुक्तछंद कविताएँ
कवि रमेशराज
*सहकारी युग (हिंदी साप्ताहिक), रामपुर, उत्तर प्रदेश का प्रथम
*सहकारी युग (हिंदी साप्ताहिक), रामपुर, उत्तर प्रदेश का प्रथम
Ravi Prakash
मां
मां
Sanjay ' शून्य'
आहट
आहट
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
खुशियों का दौर गया , चाहतों का दौर गया
खुशियों का दौर गया , चाहतों का दौर गया
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
-- आगे बढ़ना है न ?--
-- आगे बढ़ना है न ?--
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
किसी और से इश्क़ दुबारा नहीं होगा
किसी और से इश्क़ दुबारा नहीं होगा
Madhuyanka Raj
3427⚘ *पूर्णिका* ⚘
3427⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
चंचल मन***चंचल मन***
चंचल मन***चंचल मन***
Dinesh Kumar Gangwar
जो बरसे न जमकर, वो सावन कैसा
जो बरसे न जमकर, वो सावन कैसा
Suryakant Dwivedi
"तासीर"
Dr. Kishan tandon kranti
दिन तो खैर निकल ही जाते है, बस एक रात है जो कटती नहीं
दिन तो खैर निकल ही जाते है, बस एक रात है जो कटती नहीं
पूर्वार्थ
कैसे निभाऍं उस से, कैसे करें गुज़ारा।
कैसे निभाऍं उस से, कैसे करें गुज़ारा।
सत्य कुमार प्रेमी
।।जन्मदिन की बधाइयाँ ।।
।।जन्मदिन की बधाइयाँ ।।
Shashi kala vyas
The Legend Of Puri Jagannath
The Legend Of Puri Jagannath
Otteri Selvakumar
"फेसबूक के मूक दोस्त"
DrLakshman Jha Parimal
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
बिहार से एक महत्वपूर्ण दलित आत्मकथा का प्रकाशन / MUSAFIR BAITHA
बिहार से एक महत्वपूर्ण दलित आत्मकथा का प्रकाशन / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
शहर की गर्मी में वो छांव याद आता है, मस्ती में बीता जहाँ बचप
शहर की गर्मी में वो छांव याद आता है, मस्ती में बीता जहाँ बचप
Shubham Pandey (S P)
बहुत
बहुत
sushil sarna
क्या मिला मुझको उनसे
क्या मिला मुझको उनसे
gurudeenverma198
दरवाज़े
दरवाज़े
Bodhisatva kastooriya
Loading...