Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Jun 2016 · 1 min read

पापा

तुम्हें ही ढूँढती रहती तुम्हारी लाडली पापा
तुम्हारे बिन हुई सूनी बहुत ये ज़िन्दगी पापा

अँधेरी रात हो कितनी उजाले ही भरे तुमने
बिछाकर नेह की अपनी हमेशा चाँदनी पापा

सिखाया था जहाँ चलना पकड़कर उँगलियाँ मेरी
गुजरती हूँ वहाँ से जब रुलाती वो गली पापा

मिले चाहें यहाँ कितने मुझे अनमोल से रिश्ते
मिला लेकिन जमाने में नहीं तुम सा कोई पापा

ख़ुशी चाहें मिले मुझको या गम की बात हो कोई
मुझे महसूस होती है तुम्हारी ही कमी पापा

मनाना ‘अर्चना’ उनका बहुत अब याद आता है
लड़ाते लाड़ थे कहकर कहाँ मेरी परी पापा

डॉ अर्चना गुप्ता

1 Like · 14 Comments · 1354 Views
You may also like:
मेरी अभिलाषा
Anamika Singh
अजब मुहब्बत
shabina. Naaz
हौसला जिद पर अड़ा है
कवि दीपक बवेजा
कण-कण तेरे रूप
श्री रमण 'श्रीपद्'
अपने नाम का भी एक पन्ना, ज़िन्दगी की सौग़ात कर...
Manisha Manjari
आँखों में आँसू क्यों
VINOD KUMAR CHAUHAN
कृष्ण भक्ति
लक्ष्मी सिंह
बंसी का स्वर दो (भक्ति गीतिका)
Ravi Prakash
यही हमारा है धर्म
gurudeenverma198
साल जो बदला है
Dr fauzia Naseem shad
■ कमाल है...!
*Author प्रणय प्रभात*
वक्त एक दिन हकीकत दिखा देता है।
Taj Mohammad
Feel The Love
Buddha Prakash
जितना सताना हो,सता लो हमे तुम
Ram Krishan Rastogi
माहौल का प्रभाव
AMRESH KUMAR VERMA
💐साधनस्य तात्पर्यं असाधनस्य नाश:💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
तेरी दहलीज पर झुकता हुआ सर लगता है
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
बेटी
Kanchan sarda Malu
है जी कोई खरीददार?
Shekhar Chandra Mitra
“ पुराने नये सौगात “
DrLakshman Jha Parimal
अदना
Shyam Sundar Subramanian
समझता है सबसे बड़ा हो गया।
सत्य कुमार प्रेमी
पंछी ने एक दिन उड़ जाना है
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
सरल हो बैठे
AADYA PRODUCTION
बुंदेली हाइकु- (राजीव नामदेव राना लिधौरी)
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
चंचल धूप "
Dr Meenu Poonia
सन २०२३ की मंगल कामनाएं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
भोजपुरी बिरह गीत
पाण्डेय चिदानन्द "चिद्रूप"
किस से पूछूं?
Kaur Surinder
//स्वागत है:२०२२//
Prabhudayal Raniwal
Loading...