Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Jun 2016 · 1 min read

पापा

तुम्हें ही ढूँढती रहती तुम्हारी लाडली पापा
तुम्हारे बिन हुई सूनी बहुत ये ज़िन्दगी पापा

अँधेरी रात हो कितनी उजाले ही भरे तुमने
बिछाकर नेह की अपनी हमेशा चाँदनी पापा

सिखाया था जहाँ चलना पकड़कर उँगलियाँ मेरी
गुजरती हूँ वहाँ से जब रुलाती वो गली पापा

मिले चाहें यहाँ कितने मुझे अनमोल से रिश्ते
मिला लेकिन जमाने में नहीं तुम सा कोई पापा

ख़ुशी चाहें मिले मुझको या गम की बात हो कोई
मुझे महसूस होती है तुम्हारी ही कमी पापा

मनाना ‘अर्चना’ उनका बहुत अब याद आता है
लड़ाते लाड़ थे कहकर कहाँ मेरी परी पापा

डॉ अर्चना गुप्ता

1 Like · 14 Comments · 1553 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr Archana Gupta
View all
You may also like:
विचारों की सुन्दरतम् प्रस्तुति का नाम कविता
विचारों की सुन्दरतम् प्रस्तुति का नाम कविता
कवि रमेशराज
Man has only one other option in their life....
Man has only one other option in their life....
सिद्धार्थ गोरखपुरी
ए कुदरत के बंदे ,तू जितना तन को सुंदर रखे।
ए कुदरत के बंदे ,तू जितना तन को सुंदर रखे।
Shutisha Rajput
बड़ी मुश्किल से लगा दिल
बड़ी मुश्किल से लगा दिल
कवि दीपक बवेजा
कोरी आँखों के ज़र्द एहसास, आकर्षण की धुरी बन जाते हैं।
कोरी आँखों के ज़र्द एहसास, आकर्षण की धुरी बन जाते हैं।
Manisha Manjari
वो ख्वाबों में अब भी चमन ढूंढते हैं ।
वो ख्वाबों में अब भी चमन ढूंढते हैं ।
Phool gufran
सावन भादों
सावन भादों
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
“मेरी कविता का सफरनामा ”
“मेरी कविता का सफरनामा ”
DrLakshman Jha Parimal
नैनों के अभिसार ने,
नैनों के अभिसार ने,
sushil sarna
*सेवानिवृत्ति*
*सेवानिवृत्ति*
पंकज कुमार कर्ण
अनकही दोस्ती
अनकही दोस्ती
राजेश बन्छोर
कौशल कविता का - कविता
कौशल कविता का - कविता
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
गीत
गीत
Shiva Awasthi
तुम्ही बताओ आज सभासद है ये प्रशन महान
तुम्ही बताओ आज सभासद है ये प्रशन महान
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
💐अज्ञात के प्रति-99💐
💐अज्ञात के प्रति-99💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
*चेतना-परक कुछ दोहे*
*चेतना-परक कुछ दोहे*
Ravi Prakash
जिंदगी के रंगमंच में हम सभी किरदार है
जिंदगी के रंगमंच में हम सभी किरदार है
Neeraj Agarwal
खुद पर विश्वास करें
खुद पर विश्वास करें
Dinesh Gupta
* हो जाओ तैयार *
* हो जाओ तैयार *
surenderpal vaidya
जिंदगी है बहुत अनमोल
जिंदगी है बहुत अनमोल
gurudeenverma198
बांध रखा हूं खुद को,
बांध रखा हूं खुद को,
Shubham Pandey (S P)
जन्नत का हरेक रास्ता, तेरा ही पता है
जन्नत का हरेक रास्ता, तेरा ही पता है
Dr. Rashmi Jha
महावीर उत्तरांचली आप सभी के प्रिय कवि
महावीर उत्तरांचली आप सभी के प्रिय कवि
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
* रेल हादसा *
* रेल हादसा *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मन बड़ा घबराता है
मन बड़ा घबराता है
Harminder Kaur
काशी में नहीं है वो,
काशी में नहीं है वो,
Satish Srijan
भ्रष्ट होने का कोई तय अथवा आब्जेक्टिव पैमाना नहीं है। एक नास
भ्रष्ट होने का कोई तय अथवा आब्जेक्टिव पैमाना नहीं है। एक नास
Dr MusafiR BaithA
सुविचार
सुविचार
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
जुग जुग बाढ़य यें हवात
जुग जुग बाढ़य यें हवात
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
इश्क वो गुनाह है
इश्क वो गुनाह है
Surinder blackpen
Loading...