Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Feb 2024 · 1 min read

” पाती जो है प्रीत की “

गीत

कागज कहे कलम से लिख दो ,
पाती जो है प्रीत की !!

कहा सुना जो बचा शेष है ,
भेद वही है खोलना !
शब्द शब्द में वह कह डालें ,
जो स्याही से बोलना !
रात दिवस थिरके है तन मन ,
धुन अधरों पर गीत की !!

अधर अगर , खामोश रहे तो ,
नज़रें कुछ हैं बोलती !
जो संवाद मूक रहता है ,
उसका रस है घोलती !
दिल में रची बसी रहती जो ,
मुस्कानें हैं मीत की !!

खूब रचे ताने बाने हैं ,
संबंधों को जोड़ते !
राह बने जो बाधा अपने ,
उन मिथकों को तोड़ते !
चुनी डगर साहस से हमने ,
उम्मीदें हैं जीत की !!

स्वरचित /रचियता :
बृज व्यास
शाजापुर ( मध्यप्रदेश )

Language: Hindi
2 Likes · 1 Comment · 195 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
औरतें
औरतें
Neelam Sharma
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
शिवा कहे,
शिवा कहे, "शिव" की वाणी, जन, दुनिया थर्राए।
SPK Sachin Lodhi
आइये तर्क पर विचार करते है
आइये तर्क पर विचार करते है
शेखर सिंह
ईर्ष्या
ईर्ष्या
Sûrëkhâ
खूबसूरत है किसी की कहानी का मुख्य किरदार होना
खूबसूरत है किसी की कहानी का मुख्य किरदार होना
पूर्वार्थ
यादों का थैला लेकर चले है
यादों का थैला लेकर चले है
Harminder Kaur
सब्जी के दाम
सब्जी के दाम
Sushil Pandey
सृजन पथ पर
सृजन पथ पर
Dr. Meenakshi Sharma
मेरा वजूद क्या है
मेरा वजूद क्या है
भरत कुमार सोलंकी
मुझको मालूम है तुमको क्यों है मुझसे मोहब्बत
मुझको मालूम है तुमको क्यों है मुझसे मोहब्बत
gurudeenverma198
बड़ी मुश्किल है
बड़ी मुश्किल है
Basant Bhagawan Roy
🌷 सावन तभी सुहावन लागे 🌷
🌷 सावन तभी सुहावन लागे 🌷
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
कहानी
कहानी
कवि रमेशराज
तुम्हारे इंतिज़ार में ........
तुम्हारे इंतिज़ार में ........
sushil sarna
गांव की बात निराली
गांव की बात निराली
जगदीश लववंशी
खुद से बिछड़े बहुत वक्त बीता
खुद से बिछड़े बहुत वक्त बीता "अयन"
Mahesh Tiwari 'Ayan'
#अग्रिम_शुभकामनाएँ
#अग्रिम_शुभकामनाएँ
*Author प्रणय प्रभात*
वो तो है ही यहूद
वो तो है ही यहूद
shabina. Naaz
फुटपाथ
फुटपाथ
Prakash Chandra
शुरू करते हैं फिर से मोहब्बत,
शुरू करते हैं फिर से मोहब्बत,
Jitendra Chhonkar
लाइब्रेरी के कौने में, एक लड़का उदास बैठा हैं
लाइब्रेरी के कौने में, एक लड़का उदास बैठा हैं
The_dk_poetry
दिल के रिश्ते
दिल के रिश्ते
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
नारी के हर रूप को
नारी के हर रूप को
Dr fauzia Naseem shad
* शक्ति स्वरूपा *
* शक्ति स्वरूपा *
surenderpal vaidya
वायदे के बाद भी
वायदे के बाद भी
Atul "Krishn"
"गुणनफल का ज्ञान"
Dr. Kishan tandon kranti
उफ़,
उफ़,
Vishal babu (vishu)
मरासिम
मरासिम
Shyam Sundar Subramanian
*सीधे-सादे चलिए साहिब (हिंदी गजल)*
*सीधे-सादे चलिए साहिब (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
Loading...