Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Oct 2016 · 1 min read

पाकपरस्ती चीन की….. : दोहे

जाति दिखा दी चीन ने, मिले कबूतर बाज.
पाकपरस्ती चीन की, जगजाहिर है आज..

‘शियाबुकी’ जल जो किया, है ‘लाल्हो’ के नाम.
तभी हुआ अपने लिए, चीनी माल हराम..

ब्रह्मपुत्र जल रोककर, चीन बनाता बंध.
सारे चीनी माल पर, लगे यहाँ प्रतिबन्ध..

संधि सिंधु जल भंग कर, पानी का रुख मोड़.
सारी नदियों को यहाँ, आपस में दें जोड़..

तड़पे पकिस्तान तब, दुश्मन को दें दाब.
ब्रह्मपुत्र तक जल बहे, सतलज सिन्धु चिनाब..

–इंजी० अम्बरीष श्रीवास्तव ‘अम्बर’

(शियाबुकी= ब्रह्मपुत्र की सहायक नदी|
लाल्हो= चीन की जल परियोजना )

Language: Hindi
213 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
समरथ को नही दोष गोसाई
समरथ को नही दोष गोसाई
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
हर ख्याल से तुम खुबसूरत हो
हर ख्याल से तुम खुबसूरत हो
Swami Ganganiya
सुनाऊँ प्यार की सरग़म सुनो तो चैन आ जाए
सुनाऊँ प्यार की सरग़म सुनो तो चैन आ जाए
आर.एस. 'प्रीतम'
प्रकाश परब
प्रकाश परब
Acharya Rama Nand Mandal
!! प्रेम बारिश !!
!! प्रेम बारिश !!
The_dk_poetry
*रिश्वत ( कुंडलिया )*
*रिश्वत ( कुंडलिया )*
Ravi Prakash
शरीक-ए-ग़म
शरीक-ए-ग़म
Shyam Sundar Subramanian
*** मुंह लटकाए क्यों खड़ा है ***
*** मुंह लटकाए क्यों खड़ा है ***
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
फ़ितरत को जब से
फ़ितरत को जब से
Dr fauzia Naseem shad
स्वागत है इस नूतन का यह वर्ष सदा सुखदायक हो।
स्वागत है इस नूतन का यह वर्ष सदा सुखदायक हो।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
यह धरती भी तो, हमारी एक माता है
यह धरती भी तो, हमारी एक माता है
gurudeenverma198
"प्रेम रोग"
Dr. Kishan tandon kranti
शोभा वरनि न जाए, अयोध्या धाम की
शोभा वरनि न जाए, अयोध्या धाम की
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मन चंगा तो कठौती में गंगा / MUSAFIR BAITHA
मन चंगा तो कठौती में गंगा / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
दृढ़ आत्मबल की दरकार
दृढ़ आत्मबल की दरकार
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
दीपावली
दीपावली
डॉ. शिव लहरी
गजल
गजल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
मेरा शरीर और मैं
मेरा शरीर और मैं
DR ARUN KUMAR SHASTRI
कौन सी खूबसूरती
कौन सी खूबसूरती
जय लगन कुमार हैप्पी
श्री राम अमृतधुन भजन
श्री राम अमृतधुन भजन
Khaimsingh Saini
यदि समुद्र का पानी खारा न होता।
यदि समुद्र का पानी खारा न होता।
Rj Anand Prajapati
हमसाया
हमसाया
Manisha Manjari
■ नैसर्गिक न्याय
■ नैसर्गिक न्याय
*Author प्रणय प्रभात*
3033.*पूर्णिका*
3033.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
किस क़दर आसान था
किस क़दर आसान था
हिमांशु Kulshrestha
वक़्त के वो निशाँ है
वक़्त के वो निशाँ है
Atul "Krishn"
स्त्री श्रृंगार
स्त्री श्रृंगार
विजय कुमार अग्रवाल
हम दो अंजाने
हम दो अंजाने
Kavita Chouhan
व्हाट्सएप युग का प्रेम
व्हाट्सएप युग का प्रेम
Shaily
सुकरात के शागिर्द
सुकरात के शागिर्द
Shekhar Chandra Mitra
Loading...