Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Oct 6, 2016 · 1 min read

पाकपरस्ती चीन की….. : दोहे

जाति दिखा दी चीन ने, मिले कबूतर बाज.
पाकपरस्ती चीन की, जगजाहिर है आज..

‘शियाबुकी’ जल जो किया, है ‘लाल्हो’ के नाम.
तभी हुआ अपने लिए, चीनी माल हराम..

ब्रह्मपुत्र जल रोककर, चीन बनाता बंध.
सारे चीनी माल पर, लगे यहाँ प्रतिबन्ध..

संधि सिंधु जल भंग कर, पानी का रुख मोड़.
सारी नदियों को यहाँ, आपस में दें जोड़..

तड़पे पकिस्तान तब, दुश्मन को दें दाब.
ब्रह्मपुत्र तक जल बहे, सतलज सिन्धु चिनाब..

–इंजी० अम्बरीष श्रीवास्तव ‘अम्बर’

(शियाबुकी= ब्रह्मपुत्र की सहायक नदी|
लाल्हो= चीन की जल परियोजना )

118 Views
You may also like:
उड़ चले नीले गगन में।
Taj Mohammad
चलो जिन्दगी को।
Taj Mohammad
नर्सिंग दिवस पर नमन
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
नील छंद "विरहणी"
बासुदेव अग्रवाल 'नमन'
परिवर्तन की राह पकड़ो ।
Buddha Prakash
ना चीज़ हो गया हूँ
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
रात चांदनी का महताब लगता है।
Taj Mohammad
कहाँ चले गए
Taran Verma
क्या तुम आजादी के नाम से, कुछ भी कर सकते...
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
आओ मिलके पेड़ लगाए !
Naveen Kumar
बख्स मुझको रहमत वो अंदाज़ मिल जाए
VINOD KUMAR CHAUHAN
चतुर्मास अध्यात्म
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मां
हरीश सुवासिया
वैराग्य
Pt. Brajesh Kumar Nayak
सर्वप्रिय श्री अख्तर अली खाँ
Ravi Prakash
मां
Umender kumar
हिन्दी थिएटर के प्रमुख हस्ताक्षर श्री पंकज एस. दयाल जी...
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
हे प्रभु श्री राम...
Taj Mohammad
कुछ हंसी पल खुशी के।
Taj Mohammad
बदलती दुनिया
AMRESH KUMAR VERMA
"ज़ुबान हिल न पाई"
अमित मिश्र
पाकीज़ा इश्क़
VINOD KUMAR CHAUHAN
'बेटियाॅं! किस दुनिया से आती हैं'
Rashmi Sanjay
ना वो हवा ना वो पानी है अब
VINOD KUMAR CHAUHAN
मन के गाँव
अनामिका सिंह
खुशियों भरे पल
surenderpal vaidya
बूंद बूंद में जीवन है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
कमियाँ
अनामिका सिंह
If we could be together again...
Abhineet Mittal
यह दुनियाँ
अनामिका सिंह
Loading...