Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Jul 2023 · 1 min read

पहाड़ पर बरसात

पहाड़ों में है वो सुंदर नज़ारे
जिनको देखने आते हैं पर्यटक
देखकर हरियाली यहां की
नज़र सबकी जाती है अटक

बारिश की बूँदें सुकून देती है गर्मी से
इस मौसम में आकर यहां पर
रहना पड़ता है संभलकर लेकिन
जब पड़ती है तेज़ बरसात यहां पर

हमने देखा है आजकल
प्राकृतिक छटा इन पहाड़ों की
कब बदलकर बन जाती है
गवाह बड़ी त्रासदियों की

सुंदर झरना भाता है हमको
अपने पास बुलाता है हमको
हो जाए अगर तेज़ बारिश, फिर
विकराल रूप दिखा जाता है हमको

चंद पलों में मौत का तांडव
हर कहीं नाले प्रकट होते हैं
फिर मच जाता है कोहराम
जब नाले नदी प्रतीत होते हैं

बहा जाते हैं जो भी आए राह में
इंसान, पशु और फिर क्या मकान
राह बना लेता है पानी बाज़ार से
छोड़ता नहीं कोई ढाबा या दुकान

देखकर पानी में बहती गाड़ियाँ
सहमकर रह जाता है हर कोई
चिंता में डूब जाता है हर परिवार
है बाहर जिसका अपना कोई

वेग देखकर पानी का हर कोई हैरान
सड़कों का मिट जाता है नामोनिशान
दिखता नहीं कुछ भी विनाश के सिवा
मेरे रब! क्यों लेता है ऐसे इम्तिहान।

9 Likes · 5 Comments · 1920 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
View all
You may also like:
दोहे- चरित्र
दोहे- चरित्र
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
हसीनाओं से कभी भूलकर भी दिल मत लगाना
हसीनाओं से कभी भूलकर भी दिल मत लगाना
gurudeenverma198
कुदरत
कुदरत
Neeraj Agarwal
दूर जा चुका है वो फिर ख्वाबों में आता है
दूर जा चुका है वो फिर ख्वाबों में आता है
Surya Barman
कबीरा यह मूर्दों का गांव
कबीरा यह मूर्दों का गांव
Shekhar Chandra Mitra
*आत्म-मंथन*
*आत्म-मंथन*
Dr. Priya Gupta
तुम्हारे जैसे थे तो हम भी प्यारे लगते थे
तुम्हारे जैसे थे तो हम भी प्यारे लगते थे
Keshav kishor Kumar
राम की आराधना
राम की आराधना
surenderpal vaidya
*घर की चौखट को लॉंघेगी, नारी दफ्तर जाएगी (हिंदी गजल)*
*घर की चौखट को लॉंघेगी, नारी दफ्तर जाएगी (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
एक तरफा दोस्ती की कीमत
एक तरफा दोस्ती की कीमत
SHAMA PARVEEN
इंतजार बाकी है
इंतजार बाकी है
शिवम राव मणि
महफिल में तनहा जले,
महफिल में तनहा जले,
sushil sarna
स्त्री चेतन
स्त्री चेतन
Astuti Kumari
नज़्म/गीत - वो मधुशाला, अब कहाँ
नज़्म/गीत - वो मधुशाला, अब कहाँ
अनिल कुमार
चाँद  भी  खूबसूरत
चाँद भी खूबसूरत
shabina. Naaz
निश्छल प्रेम
निश्छल प्रेम
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
।।आध्यात्मिक प्रेम।।
।।आध्यात्मिक प्रेम।।
Aryan Raj
Game of the time
Game of the time
Mangilal 713
पुष्प की व्यथा
पुष्प की व्यथा
Shyam Sundar Subramanian
-- दिव्यांग --
-- दिव्यांग --
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
3261.*पूर्णिका*
3261.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
दो शे'र
दो शे'र
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
साहित्य मेरा मन है
साहित्य मेरा मन है
Harminder Kaur
खिलेंगे फूल राहों में
खिलेंगे फूल राहों में
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
कुछ अपनी कुछ उनकी बातें।
कुछ अपनी कुछ उनकी बातें।
सत्य कुमार प्रेमी
गम की मुहर
गम की मुहर
हरवंश हृदय
ना जाने कौन सी डिग्रियाँ है तुम्हारे पास
ना जाने कौन सी डिग्रियाँ है तुम्हारे पास
Gouri tiwari
जिंदगी में इतना खुश रहो कि,
जिंदगी में इतना खुश रहो कि,
Ranjeet kumar patre
नवरात्रि के इस पावन मौके पर, मां दुर्गा के आगमन का खुशियों स
नवरात्रि के इस पावन मौके पर, मां दुर्गा के आगमन का खुशियों स
Sahil Ahmad
Loading...