Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 May 2023 · 1 min read

पहले प्यार में

तब आई नव तरुणाई थी,
दिल जवांँ ने ली अंगड़ाई थी,
चांँदनी रात दिल को भाती थी,
प्रियतमा की छवि दिखलाती थी।

दसवें वर्ग में पढ़ता था तब,
पहले प्यार में डूबा था जब,
दिल धक्-धक् करता था तब,
कदम क्लास में रखता था जब।

सूर्ख गुलाब-सा बदन था उसका,
मृगनयनी चंचल सुंदर बाला थी,
घुंघराली काली जुल्फें उसकी,
दिखने में सुंदर मधुबाला-सी थी।

चंद्र सरीखा मुखड़ा था उसका,
गाल-लाल-गुलाल सजा हो,
कपोल कमल-पंखुड़ी जैसे,
स्मित छवि शीतल हवा हो।

काया उसकी पतली-सी थी,
वक्ष युगल नव उभार लिए,
खुली जुल्फों से ढंँके हुए वे,
ध्यानाकर्षण का भार लिए।

दिल में मची रहती थी हलचल,
उसकी झलक पाने को हरपल,
दसवीं पास कर बाहर आया जब,
उसकी एक खबर न पाया अब तक।

मौलिक व स्वरचित
©® श्री रमण ‘श्रीपद्’
बेगूसराय (बिहार)

2 Likes · 256 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from डॉ. श्री रमण 'श्रीपद्'
View all
You may also like:
मात्र नाम नहीं तुम
मात्र नाम नहीं तुम
Mamta Rani
हंसने के फायदे
हंसने के फायदे
Manoj Kushwaha PS
नृत्य किसी भी गीत और संस्कृति के बोल पर आधारित भावना से ओतप्
नृत्य किसी भी गीत और संस्कृति के बोल पर आधारित भावना से ओतप्
Rj Anand Prajapati
2757. *पूर्णिका*
2757. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
"फासला और फैसला"
Dr. Kishan tandon kranti
चंद किरणे चांद की चंचल कर गई
चंद किरणे चांद की चंचल कर गई
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
अद्वितीय संवाद
अद्वितीय संवाद
Monika Verma
*अदृश्य पंख बादल के* (10 of 25 )
*अदृश्य पंख बादल के* (10 of 25 )
Kshma Urmila
यह कैसा आया ज़माना !!( हास्य व्यंग्य गीत गजल)
यह कैसा आया ज़माना !!( हास्य व्यंग्य गीत गजल)
ओनिका सेतिया 'अनु '
दो किसान मित्र थे साथ रहते थे साथ खाते थे साथ पीते थे सुख दु
दो किसान मित्र थे साथ रहते थे साथ खाते थे साथ पीते थे सुख दु
कृष्णकांत गुर्जर
"ऊँची ऊँची परवाज़ - Flying High"
Sidhartha Mishra
बाल कविता: चूहा
बाल कविता: चूहा
Rajesh Kumar Arjun
जब भी आया,बे- मौसम आया
जब भी आया,बे- मौसम आया
मनोज कुमार
उफ़ तेरी ये अदायें सितम ढा रही है।
उफ़ तेरी ये अदायें सितम ढा रही है।
Phool gufran
तेरी उल्फत के वो नज़ारे हमने भी बहुत देखें हैं,
तेरी उल्फत के वो नज़ारे हमने भी बहुत देखें हैं,
manjula chauhan
जंगल की होली
जंगल की होली
Dr Archana Gupta
दिखावे के दान का
दिखावे के दान का
Dr fauzia Naseem shad
जरूरत से ज़ियादा जरूरी नहीं हैं हम
जरूरत से ज़ियादा जरूरी नहीं हैं हम
सिद्धार्थ गोरखपुरी
किस बात का गुरुर हैं,जनाब
किस बात का गुरुर हैं,जनाब
शेखर सिंह
जिन्हें बुज़ुर्गों की बात
जिन्हें बुज़ुर्गों की बात
*Author प्रणय प्रभात*
कई जीत बाकी है कई हार बाकी है, अभी तो जिंदगी का सार बाकी है।
कई जीत बाकी है कई हार बाकी है, अभी तो जिंदगी का सार बाकी है।
Vipin Singh
*जीवन में खुश रहने की वजह ढूँढना तो वाजिब बात लगती है पर खोद
*जीवन में खुश रहने की वजह ढूँढना तो वाजिब बात लगती है पर खोद
Seema Verma
चिराग को जला रोशनी में, हँसते हैं लोग यहाँ पर।
चिराग को जला रोशनी में, हँसते हैं लोग यहाँ पर।
आर.एस. 'प्रीतम'
हिय जुराने वाली मिताई पाना सुख का सागर पा जाना है!
हिय जुराने वाली मिताई पाना सुख का सागर पा जाना है!
Dr MusafiR BaithA
योग करते जाओ
योग करते जाओ
Sandeep Pande
कहीं दूर चले आए हैं घर से
कहीं दूर चले आए हैं घर से
पूर्वार्थ
*घट-घट वासी को को किया ,जिसने मन से याद (कुंडलिया)*
*घट-घट वासी को को किया ,जिसने मन से याद (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
बेवफा मैं कहूँ कैसे उसको बता,
बेवफा मैं कहूँ कैसे उसको बता,
Arvind trivedi
भगतसिंह
भगतसिंह
Shekhar Chandra Mitra
जज़्बा है, रौशनी है
जज़्बा है, रौशनी है
Dhriti Mishra
Loading...