Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#4 Trending Author
Jul 2, 2022 · 1 min read

पहले जैसे रिश्ते अब क्यों नहीं रहे

उसने पूछा,पहले जैसे रिश्ते अब क्यों नहीं रहे ?
मैने भी कहां,पहले जैसे आदमी अब कहां रहे।।

उसने पूछा,घरों में खिड़कियां बनना बंद क्यों हो गई ?
मैने कहां,अब पड़ोस में झांकने वाले कहां रह गए।।

उसने कहा,बहला न पाएंगे उसे अब मिट्टी के खिलौने।
मैने कहां,जनता हूं मै ,अब तुम बच्चे नही रह गए।।

उसने कहां,तेरी मोहब्बत के चिराग इतने अंधेरे में जले।
मैने कहां,मेरी मोहब्बत में अब कोई अंधेरे नही रहे।।

उसने कहां,ढूंढती रही मै तुम्हे अपने प्यार के खातिर सब जगह।
मैने कहां, जिन पर लगे थे निशान वे अब नक्शे नही रहे।।

उसने कहां,वादे पर वादे करते रहे मुझे तुम बहकाते रहे।
मैने कहां,मेरी जेब में झूठे सच्चे वादे अब कहां रहे।।

उसने कहां,बरसात होती रही मै प्यास से मरती रही।
मैने पूछा क्या तुम मेरी हर बूंद से प्यास बुझाती रही।।

आर के रस्तोगी गुरुग्राम

4 Likes · 7 Comments · 153 Views
You may also like:
सरकारी चिकित्सक
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
घातक शत्रु
AMRESH KUMAR VERMA
तेरी सुंदरता पर कोई कविता लिखते हैं।
Taj Mohammad
अमृत महोत्सव आजादी का
लक्ष्मी सिंह
रोज हम इम्तिहां दे सकेंगे नहीं
Dr Archana Gupta
संडे की व्यथा
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
चलो जिन्दगी को फिर से।
Taj Mohammad
वक्त दर्पण दिखा दे तो अच्छा ही है।
Renuka Chauhan
समय भी कुछ तो कहता है
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
कौन थाम लेता है ?
DESH RAJ
बँटवारे का दर्द
मनोज कर्ण
हर घड़ी यूँ सांस कम हो रही हैं
VINOD KUMAR CHAUHAN
मेरे बुद्ध महान !
मनोज कर्ण
गर बुरा लगता हूं।
Taj Mohammad
देवदूत डॉक्टर
Buddha Prakash
वो हमें दिन ब दिन आजमाते रहे।
सत्य कुमार प्रेमी
वैराग्य
Pt. Brajesh Kumar Nayak
वो चुप सी दीवारें
Kavita Chouhan
महँगाई
आकाश महेशपुरी
सावन के काले बादल औ'र बदलियां ग़ज़ल में।
सत्य कुमार प्रेमी
हर बच्चा कलाकार होता है।
लक्ष्मी सिंह
मां की पुण्यतिथि
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
कोरोना - इफेक्ट
Kanchan Khanna
चाह इंसानों की
AMRESH KUMAR VERMA
पारिवारिक बंधन
AMRESH KUMAR VERMA
भली बातें
Dr. Sunita Singh
ऊँच-नीच के कपाट ।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
✍️इंसान के पास अपना क्या था?✍️
'अशांत' शेखर
पितृ स्तुति
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
पिता के होते कितने ही रूप।
Taj Mohammad
Loading...