Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Dec 2023 · 1 min read

पहले क्यों तुमने, हमको अपने दिल से लगाया

पहले क्यों तुमने, हमको अपने दिल से लगाया।
लगाकर दिल से तुमने, क्यों हमें अपना बनाया।।
अब क्यों हमसे तुम, हो गए हो जुदा ऐसे।
क्यों किसी को तुमने अब, अपने दिल से लगाया।।
पहले क्यों तुमने, हमको ————————-।।

वफ़ा की थी तुमने तो, जुदा कभी हम नहीं होंगे।
जिंदगी की हर राह में, हमेशा साथ हम होंगे।।
अब क्यों तुमने हमारा, साथ यूं छोड़ दिया है।
क्यों किसी को तुमने अब, साथी अपना बनाया।।
पहले क्यों तुमने, हमको ————————-।।

हंसती थी कल तुम बहुत, मेरी बाँहों में आकर।
करती थी छाँव मुझ पर, जुल्फें अपनी फैलाकर।।
अब क्यों हमसे तुम, करती हो इतनी नफ़रत।
क्यों किसी को तुमने अब, ख्वाब अपना बनाया।।
पहले क्यों तुमने, हमको ————————-।।

हमसे क्या नहीं मिला है, ऐसा अब तक भी तुमको।
पहुंची है चोट कब हमसे, आखिर कैसे क्यों तुमको।।
तुमने क्यों आखिर हमको, समझा सिर्फ़ एक खिलौना।
क्यों किसी को तुमने अब, नसीब अपना बनाया।।
पहले क्यों तुमने, हमको ————————-।।

शिक्षक एवं साहित्यकार
गुरुदीन वर्मा उर्फ जी.आज़ाद
तहसील एवं जिला- बारां(राजस्थान)

Language: Hindi
Tag: गीत
121 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
पापा , तुम बिन जीवन रीता है
पापा , तुम बिन जीवन रीता है
Dilip Kumar
अपने सुख के लिए, दूसरों को कष्ट देना,सही मनुष्य पर दोषारोपण
अपने सुख के लिए, दूसरों को कष्ट देना,सही मनुष्य पर दोषारोपण
विमला महरिया मौज
बचपन के वो दिन कितने सुहाने लगते है
बचपन के वो दिन कितने सुहाने लगते है
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
धरती का बेटा
धरती का बेटा
Prakash Chandra
कभी मायूस मत होना दोस्तों,
कभी मायूस मत होना दोस्तों,
Ranjeet kumar patre
संत गोस्वामी तुलसीदास
संत गोस्वामी तुलसीदास
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
जिंदगी कंही ठहरी सी
जिंदगी कंही ठहरी सी
A🇨🇭maanush
आखिर मैंने भी कवि बनने की ठानी MUSAFIR BAITHA
आखिर मैंने भी कवि बनने की ठानी MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
कोई तो डगर मिले।
कोई तो डगर मिले।
Taj Mohammad
*सेब का बंटवारा*
*सेब का बंटवारा*
Dushyant Kumar
मातृभाषा हिन्दी
मातृभाषा हिन्दी
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
जिन्हें रोते-रोते
जिन्हें रोते-रोते
*Author प्रणय प्रभात*
एक दिन का बचपन
एक दिन का बचपन
Kanchan Khanna
राम-राज्य
राम-राज्य
Bodhisatva kastooriya
प्रेम उतना ही करो
प्रेम उतना ही करो
पूर्वार्थ
आँखों में ख्व़ाब होना , होता बुरा नहीं।।
आँखों में ख्व़ाब होना , होता बुरा नहीं।।
Godambari Negi
कोई तो रोशनी का संदेशा दे,
कोई तो रोशनी का संदेशा दे,
manjula chauhan
बिना पंख फैलाये पंछी को दाना नहीं मिलता
बिना पंख फैलाये पंछी को दाना नहीं मिलता
Anil Mishra Prahari
आकलन करने को चाहिए सही तंत्र
आकलन करने को चाहिए सही तंत्र
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
23/20.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/20.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
* नव जागरण *
* नव जागरण *
surenderpal vaidya
*दही सदा से है सही, रखता ठीक दिमाग (कुंडलिया)*
*दही सदा से है सही, रखता ठीक दिमाग (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
रेत और जीवन एक समान हैं
रेत और जीवन एक समान हैं
राजेंद्र तिवारी
दोहा -स्वागत
दोहा -स्वागत
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
मंज़िल का पता है न ज़माने की खबर है।
मंज़िल का पता है न ज़माने की खबर है।
Phool gufran
तेरा बना दिया है मुझे
तेरा बना दिया है मुझे
gurudeenverma198
चाय सिर्फ चीनी और चायपत्ती का मेल नहीं
चाय सिर्फ चीनी और चायपत्ती का मेल नहीं
Charu Mitra
ज़िंदगी आईने के
ज़िंदगी आईने के
Dr fauzia Naseem shad
#dr Arun Kumar shastri
#dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
**तीखी नजरें आर-पार कर बैठे**
**तीखी नजरें आर-पार कर बैठे**
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
Loading...