Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Jun 2023 · 1 min read

पहले कविता जीती है

पहले कविता जीती है
कवि के हृदय मे
फिर कविता,
जीवित रखती है
कवि को,
स्वयं मे…।
©निकीपुष्कर

3 Likes · 302 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*सब पर मकान-गाड़ी, की किस्त की उधारी (हिंदी गजल)*
*सब पर मकान-गाड़ी, की किस्त की उधारी (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
"रहमत"
Dr. Kishan tandon kranti
चार लाइनर विधा मुक्तक
चार लाइनर विधा मुक्तक
Mahender Singh
नया साल
नया साल
umesh mehra
“मेरे जीवन साथी”
“मेरे जीवन साथी”
DrLakshman Jha Parimal
लाल बहादुर शास्त्री
लाल बहादुर शास्त्री
Kavita Chouhan
वो क्या गिरा
वो क्या गिरा
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
जिसकी याद में हम दीवाने हो गए,
जिसकी याद में हम दीवाने हो गए,
Slok maurya "umang"
* सुहाती धूप *
* सुहाती धूप *
surenderpal vaidya
कृपा करें त्रिपुरारी
कृपा करें त्रिपुरारी
Satish Srijan
* आस्था *
* आस्था *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
*स्वच्छ मन (मुक्तक)*
*स्वच्छ मन (मुक्तक)*
Rituraj shivem verma
इशारों इशारों में ही, मेरा दिल चुरा लेते हो
इशारों इशारों में ही, मेरा दिल चुरा लेते हो
Ram Krishan Rastogi
दौलत नहीं, शोहरत नहीं
दौलत नहीं, शोहरत नहीं
Ranjeet kumar patre
कितनी सलाखें,
कितनी सलाखें,
Surinder blackpen
*नशा तेरे प्यार का है छाया अब तक*
*नशा तेरे प्यार का है छाया अब तक*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
जब मां भारत के सड़कों पर निकलता हूं और उस पर जो हमे भयानक गड
जब मां भारत के सड़कों पर निकलता हूं और उस पर जो हमे भयानक गड
Rj Anand Prajapati
मनुख
मनुख
श्रीहर्ष आचार्य
शुरुवात जरूरी है...!!
शुरुवात जरूरी है...!!
Shyam Pandey
तोंदू भाई, तोंदू भाई..!!
तोंदू भाई, तोंदू भाई..!!
Kanchan Khanna
हल्ला बोल
हल्ला बोल
Shekhar Chandra Mitra
हो देवों के देव तुम, नहीं आदि-अवसान।
हो देवों के देव तुम, नहीं आदि-अवसान।
डॉ.सीमा अग्रवाल
बदल देते हैं ये माहौल, पाकर चंद नोटों को,
बदल देते हैं ये माहौल, पाकर चंद नोटों को,
Jatashankar Prajapati
The blue sky !
The blue sky !
Buddha Prakash
दूसरों की आलोचना
दूसरों की आलोचना
Dr.Rashmi Mishra
■ त्रिवेणी धाम : हरि और हर का मिलन स्थल
■ त्रिवेणी धाम : हरि और हर का मिलन स्थल
*Author प्रणय प्रभात*
🥀 * गुरु चरणों की धूल*🥀
🥀 * गुरु चरणों की धूल*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
ह्रदय की स्थिति की
ह्रदय की स्थिति की
Dr fauzia Naseem shad
पाश्चात्य विद्वानों के कविता पर मत
पाश्चात्य विद्वानों के कविता पर मत
कवि रमेशराज
मुरली कि धुन,
मुरली कि धुन,
Anil chobisa
Loading...