Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Aug 2023 · 2 min read

पहचान

पहचान

तीन हफ्ते की लॉकडाऊन के बाद जब लॉकडाऊन – 2 की घोषणा हुई, तो स्थिति असह्य लगने लगी। उन्होंने अपने 3-4 घनिष्ठ मित्रों से मोबाइल फोन पर ही चर्चा कर कार्यक्रम की अंतिम रूपरेखा तैयार कर ली।
वे जैसे ही अपने कक्ष से बाहर निकले, श्रीमती जी ने बाहर न जाने के लिए समझाने की कोशिश की, जिसे वे नजरअंदाज कर गए।
माँ ने भी समझाया, “बेटा, यदि जाना जरूरी ही है, तो कम से कम साथ में सेनिटाइजर तो रख ले और मास्क भी लगा ले।”
माँ की बात रखने के लिए उन्होंने साथ में सेनिटाइजर रख लिया और मास्क भी लिया, जिसे थोड़ी ही देर में निकाल कर साइड में रख दिया। मास्क लगाने से उन्हें घुटन जो महसूस होती है।
वे जैसे ही गली के मोड़ पर पहुँचे, दो पुलिस वालों ने रोका, तो उन्होंने बड़े रौब से कहा, “साइड में हट। जानता नहीं कौन हूँ मैं।”
एक सिपाही ने कहा, “सर, हम तो जानते हैं कि आप सांसद प्रतिनिधि हैं, परंतु कोरोना वायरस को इससे कोई मतलब नहीं होता। फिर सरकारी आदेश तो सबके लिए हैं न।”
उन्होंने धमकाया, “तुम पहचान गए न ? चलो, अब हटो। कोरोना से हम खुद ही निपट लेंगे।”
उनकी गाड़ी फर्राटे से आगे निकल गई।
शहर के बाहर स्थित फॉर्महाउस में उन्होंने अपने दोस्तों के साथ जबरदस्त पार्टी की।
तीन दिन बाद अचानक उनकी तबीयत खराब हुई। अस्पताल ले जाए गए। डॉक्टरों ने जाँच कर बताया कि उनका कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव है।
अब उनके सभी परिजन और मित्रों के अलावा उनके भी परिजन संदिग्ध होने के कारण अलग-अलग जगह कोरंटाइन में हैं।
वे स्वयं हॉस्पिटल के एक कोने में वेंटिलेटर पर पड़े-पड़े सोच रहे हैं कि उनकी जरा-सी लापरवाही ने कितने लोगों की जान सांसत में डाल दी है।
– डॉ. प्रदीप कुमार शर्मा
रायपुर, छत्तीसगढ़

296 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
फितरत आपकी जैसी भी हो
फितरत आपकी जैसी भी हो
Arjun Bhaskar
हाय वो बचपन कहाँ खो गया
हाय वो बचपन कहाँ खो गया
VINOD CHAUHAN
जैसे
जैसे
Dr.Rashmi Mishra
मेरी कलम से बिखरी स्याही कभी गुनगुनाएंगे,
मेरी कलम से बिखरी स्याही कभी गुनगुनाएंगे,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
सुध जरा इनकी भी ले लो ?
सुध जरा इनकी भी ले लो ?
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
*राजा राम सिंह : रामपुर और मुरादाबाद के पितामह*
*राजा राम सिंह : रामपुर और मुरादाबाद के पितामह*
Ravi Prakash
Kya kahun ki kahne ko ab kuchh na raha,
Kya kahun ki kahne ko ab kuchh na raha,
Irfan khan
डिगरी नाहीं देखाएंगे
डिगरी नाहीं देखाएंगे
Shekhar Chandra Mitra
इच्छा शक्ति अगर थोड़ी सी भी हो तो निश्चित
इच्छा शक्ति अगर थोड़ी सी भी हो तो निश्चित
Paras Nath Jha
डा. अम्बेडकर बुद्ध से बड़े थे / पुस्तक परिचय
डा. अम्बेडकर बुद्ध से बड़े थे / पुस्तक परिचय
Dr MusafiR BaithA
सहारा...
सहारा...
Naushaba Suriya
फितरत को पहचान कर भी
फितरत को पहचान कर भी
Seema gupta,Alwar
ग़ज़ल
ग़ज़ल
abhishek rajak
"गजब के नजारे"
Dr. Kishan tandon kranti
আমায় নূপুর করে পরাও কন্যা দুই চরণে তোমার
আমায় নূপুর করে পরাও কন্যা দুই চরণে তোমার
Arghyadeep Chakraborty
कई बार हम ऐसे रिश्ते में जुड़ जाते है की,
कई बार हम ऐसे रिश्ते में जुड़ जाते है की,
पूर्वार्थ
अनजान दीवार
अनजान दीवार
Mahender Singh
.तेरी यादें समेट ली हमने
.तेरी यादें समेट ली हमने
Dr fauzia Naseem shad
मानवीय संवेदना बनी रहे
मानवीय संवेदना बनी रहे
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
मतलबी किरदार
मतलबी किरदार
Aman Kumar Holy
🌙Chaand Aur Main✨
🌙Chaand Aur Main✨
Srishty Bansal
भाव तब होता प्रखर है
भाव तब होता प्रखर है
Dr. Meenakshi Sharma
आंसू
आंसू
नूरफातिमा खातून नूरी
*गलतफहमी*
*गलतफहमी*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
आवाज़ ज़रूरी नहीं,
आवाज़ ज़रूरी नहीं,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
जबरदस्त विचार~
जबरदस्त विचार~
दिनेश एल० "जैहिंद"
देख लेना चुप न बैठेगा, हार कर भी जीत जाएगा शहर…
देख लेना चुप न बैठेगा, हार कर भी जीत जाएगा शहर…
Anand Kumar
🥀*अज्ञानी की कलम*🥀
🥀*अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
2345.पूर्णिका
2345.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
वन्दे मातरम
वन्दे मातरम
Swami Ganganiya
Loading...