Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Apr 2024 · 1 min read

पहचाना सा एक चेहरा

वर्षों हुए
एक बार देखे उसको
तब वो पुरे श्रृंगार में होती थी
बात बहुत
करती थी अपनी गहरी आँखों से
शब्द कहने से उसे उलझने तमाम होती थी

इमली चटनी
आम की क्यारी
चटपट खाना बहुत पसंद था
सैर सपाटे
चकमक कपडे रंगों का खेल
गाना बजाना हरदम था

खेलना कूदना
पढ़ना लिखना सपने सजाना
सब उसके फेहरिस्त का हिस्सा थे
सावन, झूले
नहरों में नहाना, पसंद का खाना
कई तरह के किस्से थे

आज दिखी थी
नुक्कड़ के बाजार में अकेली
सादा सा लिवास ओढे हुए
चाल धीमी थी
कंधे पर कटे बाल झूलते
चेहरा बिल्कुल ही उदास था

काले पड़े थे
होंठ उनमे लाली न थी
कई दिनों से जैसे वो नहाई न थी
मैं ढूंढ रह था
उसकी गहरी आँखों को
वो सुख चुकी थी उसमे अब नमी ना थी

मैंने लोगों से पूछा
ये यहां कब से खड़ी है
वो बोले जबसे उसके पति का शव उठाया गया
लगा एक बार
बुलाऊँ लेकर मैं नाम उसका
मुझे नाम याद था पर मुझसे बुलाया ना गया

1 Like · 62 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
आओ थोड़ा जी लेते हैं
आओ थोड़ा जी लेते हैं
Dr. Pradeep Kumar Sharma
हमेशा गिरगिट माहौल देखकर रंग बदलता है
हमेशा गिरगिट माहौल देखकर रंग बदलता है
शेखर सिंह
सुख हो या दुख बस राम को ही याद रखो,
सुख हो या दुख बस राम को ही याद रखो,
सत्य कुमार प्रेमी
ख्वाहिशों की ना तमन्ना कर
ख्वाहिशों की ना तमन्ना कर
Harminder Kaur
"ଜୀବନ ସାର୍ଥକ କରିବା ପାଇଁ ସ୍ୱାଭାବିକ ହାର୍ଦିକ ସଂଘର୍ଷ ଅନିବାର୍ଯ।"
Sidhartha Mishra
उत्कर्ष
उत्कर्ष
Mrs PUSHPA SHARMA {पुष्पा शर्मा अपराजिता}
DR Arun Kumar shastri
DR Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
everyone run , live and associate life with perception that
everyone run , live and associate life with perception that
पूर्वार्थ
तुम्हारा एक दिन..…........एक सोच
तुम्हारा एक दिन..…........एक सोच
Neeraj Agarwal
और तुम कहते हो मुझसे
और तुम कहते हो मुझसे
gurudeenverma198
सब्र की मत छोड़ना पतवार।
सब्र की मत छोड़ना पतवार।
Anil Mishra Prahari
उज्जैन घटना
उज्जैन घटना
Rahul Singh
धार्मिकता और सांप्रदायिकता / MUSAFIR BAITHA
धार्मिकता और सांप्रदायिकता / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
बच्चों के साथ बच्चा बन जाना,
बच्चों के साथ बच्चा बन जाना,
लक्ष्मी सिंह
# 𑒫𑒱𑒔𑒰𑒩
# 𑒫𑒱𑒔𑒰𑒩
DrLakshman Jha Parimal
गुरु रामदास
गुरु रामदास
कवि रमेशराज
3164.*पूर्णिका*
3164.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
"गेंम-वर्ल्ड"
*प्रणय प्रभात*
इस धरा पर अगर कोई चीज आपको रुचिकर नहीं लगता है,तो इसका सीधा
इस धरा पर अगर कोई चीज आपको रुचिकर नहीं लगता है,तो इसका सीधा
Paras Nath Jha
चैन से जिंदगी
चैन से जिंदगी
Basant Bhagawan Roy
हिंसा
हिंसा
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
*सीमा की जो कर रहे, रक्षा उन्हें प्रणाम (कुंडलिया)*
*सीमा की जो कर रहे, रक्षा उन्हें प्रणाम (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
गाँव का दृश्य (गीत)
गाँव का दृश्य (गीत)
प्रीतम श्रावस्तवी
"अन्दर ही अन्दर"
Dr. Kishan tandon kranti
(20) सजर #
(20) सजर #
Kishore Nigam
-- लगन --
-- लगन --
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
दोहा
दोहा
गुमनाम 'बाबा'
नहीं मैं -गजल
नहीं मैं -गजल
Dr Mukesh 'Aseemit'
अभिव्यञ्जित तथ्य विशेष नहीं।।
अभिव्यञ्जित तथ्य विशेष नहीं।।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
नया साल
नया साल
विजय कुमार अग्रवाल
Loading...