Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 May 2023 · 1 min read

पसरी यों तनहाई है

गीत

मैं हूँ या फिर मेरी पागल पीड़ा की परछाई है ।
मेरे चारों ओर रात-दिन, पसरी यों तनहाई है ।।

दीवारों से बातें करता,सूना मन आहें भरता ।
लिखा तुम्हारा नाम मिटाता,दृग-कोरों में दिन ढलता।।
विरह व्यथा की कानों में नित,गूँज रही शहनाई है।
मैं हूँ या फिर मेरी पागल, पीड़ा की परछाई है ।।

तज कर सपने अपने मैंने, तुमको निज से मुक्त किया ।
झरती पुरवा-सी यादों को,अभ्यंतर से युक्त किया ।।
बाँध न पाया अंतर् ढाढ़स, ऐसी प्रीति पराई है ।
मैं हूँ या फिर मेरी पागल, पीड़ा की परछाई है ।।

अनमन-अनमन देखो आकर, संध्या बैठी आँगन में।
टूटे सारे सपने कुंठित, बरस रहे ज्यों सावन में।।
युग बदला फिर भी आँखों से,छलक रही रुसवाई है।
मैं हूँ या फिर मेरी पागल,पीड़ा की परछाई है ।।

घेर रहे यादों के बादल,फैलाकर बाँहें मंडित ।
सोती है सीने पर पीड़ा,शोणित लथपथ-सी कंपित।।
देखी नहीं कभी दुनिया ने,बढ़ी व्यथा-गहराई है।
मैं हूँ या फिर मेरी पागल, पीड़ा की परछाई है।।

डा. सुनीता सिंंह ‘सुधा’
वाराणसी ,©®

Language: Hindi
273 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मेरा भी कुछ लिखने का मन करता है,
मेरा भी कुछ लिखने का मन करता है,
डॉ. दीपक मेवाती
हिंदू धर्म की यात्रा
हिंदू धर्म की यात्रा
Shekhar Chandra Mitra
तुम ही कहती हो न,
तुम ही कहती हो न,
पूर्वार्थ
माँ मुझे विश्राम दे
माँ मुझे विश्राम दे
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
"जब मानव कवि बन जाता हैं "
Slok maurya "umang"
बचपन और पचपन
बचपन और पचपन
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
महाभारत एक अलग पहलू
महाभारत एक अलग पहलू
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
महामहिम राष्ट्रपति द्रोपदी मुर्मू जी
महामहिम राष्ट्रपति द्रोपदी मुर्मू जी
Seema gupta,Alwar
समान आचार संहिता
समान आचार संहिता
Bodhisatva kastooriya
अभी अभी तो इक मिसरा बना था,
अभी अभी तो इक मिसरा बना था,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
* इस तरह महंगाई को काबू में लाना चाहिए【हिंदी गजल/ गीति
* इस तरह महंगाई को काबू में लाना चाहिए【हिंदी गजल/ गीति
Ravi Prakash
थे कितने ख़ास मेरे,
थे कितने ख़ास मेरे,
Ashwini Jha
सुनी चेतना की नहीं,
सुनी चेतना की नहीं,
सत्यम प्रकाश 'ऋतुपर्ण'
श्रद्धावान बनें हम लेकिन, रहें अंधश्रद्धा से दूर।
श्रद्धावान बनें हम लेकिन, रहें अंधश्रद्धा से दूर।
महेश चन्द्र त्रिपाठी
कोई पागल हो गया,
कोई पागल हो गया,
sushil sarna
हो नजरों में हया नहीं,
हो नजरों में हया नहीं,
Sanjay ' शून्य'
इक बार वही फिर बारिश हो
इक बार वही फिर बारिश हो
Mrs PUSHPA SHARMA {पुष्पा शर्मा अपराजिता}
चली गई है क्यों अंजू , तू पाकिस्तान
चली गई है क्यों अंजू , तू पाकिस्तान
gurudeenverma198
#जयहिंद
#जयहिंद
Rashmi Ranjan
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Dr. Sunita Singh
भीड़ पहचान छीन लेती है
भीड़ पहचान छीन लेती है
Dr fauzia Naseem shad
खुल जाये यदि भेद तो,
खुल जाये यदि भेद तो,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
2704.*पूर्णिका*
2704.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
जब कोई बात समझ में ना आए तो वक्त हालात पर ही छोड़ दो ,कुछ सम
जब कोई बात समझ में ना आए तो वक्त हालात पर ही छोड़ दो ,कुछ सम
Shashi kala vyas
माता पिता के श्री चरणों में बारंबार प्रणाम है
माता पिता के श्री चरणों में बारंबार प्रणाम है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
प्यार जताना नहीं आता ...
प्यार जताना नहीं आता ...
MEENU
यूं तो मेरे जीवन में हंसी रंग बहुत हैं
यूं तो मेरे जीवन में हंसी रंग बहुत हैं
हरवंश हृदय
* शक्ति है सत्य में *
* शक्ति है सत्य में *
surenderpal vaidya
"अकेला"
Dr. Kishan tandon kranti
*”ममता”* पार्ट-1
*”ममता”* पार्ट-1
Radhakishan R. Mundhra
Loading...