Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Jul 2023 · 1 min read

*पशु- पक्षियों की आवाजें*

पशु- पक्षियों की आवाजें(बाल कविता)
मुर्गा बोले कुकड़ू कू।
कबूतर बोले गुटर गूं।
तोता बोले टैं टैं।
बकरी बोले मैं मैं।
चूहा बोले चरचर।
मेंढक बोले टर्र टर्र।
मक्खी करती भीं भीं।
टिटहरी बोले टीं टीं।
चिड़ियां बोले चीं चीं।
खरगोश बोले कि कि।
भालू रीछ हैं गुर्राते।
भैंस गाय बैल रंभाते।
तेंदुआ शेर चीता दहाड़ लगाते।
हाथी चिंघाड़े घोड़े हिनहिनाते।
सारे पक्षी हैं चहचहाते।
बत्तख बोले कां कां।
कौआ बोले कांव कांव।
बिल्ली बोले म्याऊं म्याऊं।
कुत्ता भौंके ऊंट बलबलाता।
बन्दर देखो को है चिल्लाता।
गिद्ध बाज चील चीखते।
गधा रेंगता गीदड़ रोता।
सारस देखो क्रें क्रें कहता।
कोयल कूके बुलबुल गाती।
दुष्यन्त कुमार की कविता हमको,
खूब सुहाती खूब सूहाती।।

6 Likes · 494 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dushyant Kumar
View all
You may also like:
■ एक मिसाल...
■ एक मिसाल...
*प्रणय प्रभात*
*सत्पथ पर सबको चलने की, दिशा बतातीं अम्मा जी🍃🍃🍃 (श्रीमती उषा
*सत्पथ पर सबको चलने की, दिशा बतातीं अम्मा जी🍃🍃🍃 (श्रीमती उषा
Ravi Prakash
*फिर तेरी याद आई दिल रोया है मेरा*
*फिर तेरी याद आई दिल रोया है मेरा*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
एक ख्वाब सजाया था मैंने तुमको सोचकर
एक ख्वाब सजाया था मैंने तुमको सोचकर
डॉ. दीपक मेवाती
फूल
फूल
Neeraj Agarwal
*
*"सरहदें पार रहता यार है**
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
इल्म
इल्म
Bodhisatva kastooriya
जो पड़ते हैं प्रेम में...
जो पड़ते हैं प्रेम में...
लक्ष्मी सिंह
दुआओं में जिनको मांगा था।
दुआओं में जिनको मांगा था।
Taj Mohammad
जिंदगी हवाई जहाज
जिंदगी हवाई जहाज
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
जीवन में कोई भी फैसला लें
जीवन में कोई भी फैसला लें
Dr fauzia Naseem shad
सुनता जा शरमाता जा - शिवकुमार बिलगरामी
सुनता जा शरमाता जा - शिवकुमार बिलगरामी
Shivkumar Bilagrami
राष्ट्र हित में मतदान
राष्ट्र हित में मतदान
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
3000.*पूर्णिका*
3000.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मौन मुसाफ़िर उड़ चला,
मौन मुसाफ़िर उड़ चला,
sushil sarna
सीखा दे ना सबक ऐ जिंदगी अब तो, लोग हमको सिर्फ मतलब के लिए या
सीखा दे ना सबक ऐ जिंदगी अब तो, लोग हमको सिर्फ मतलब के लिए या
Rekha khichi
प्यार का नाम मेरे दिल से मिटाया तूने।
प्यार का नाम मेरे दिल से मिटाया तूने।
Phool gufran
कोरा कागज और मेरे अहसास.....
कोरा कागज और मेरे अहसास.....
Santosh Soni
गुरु मांत है गुरु पिता है गुरु गुरु सर्वे गुरु
गुरु मांत है गुरु पिता है गुरु गुरु सर्वे गुरु
प्रेमदास वसु सुरेखा
पृष्ठों पर बांँध से बांँधी गई नारी सरिता
पृष्ठों पर बांँध से बांँधी गई नारी सरिता
Neelam Sharma
20)”“गणतंत्र दिवस”
20)”“गणतंत्र दिवस”
Sapna Arora
"लाभ का लोभ”
पंकज कुमार कर्ण
"बेखुदी "
Pushpraj Anant
//सुविचार//
//सुविचार//
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
प्रेम की डोर सदैव नैतिकता की डोर से बंधती है और नैतिकता सत्क
प्रेम की डोर सदैव नैतिकता की डोर से बंधती है और नैतिकता सत्क
Sanjay ' शून्य'
दुख ही दुख है -
दुख ही दुख है -
पूर्वार्थ
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी
फूलों सा महकना है
फूलों सा महकना है
Sonam Puneet Dubey
आओ थोड़ा जी लेते हैं
आओ थोड़ा जी लेते हैं
Dr. Pradeep Kumar Sharma
"लोकगीत" (छाई देसवा पे महंगाई ऐसी समया आई राम)
Slok maurya "umang"
Loading...