Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Jan 2017 · 2 min read

पलायन

आज के भारत में रोजगार की तलाश में पलायन आम बात हैं, चाहे वो पढ़ा लिखा अभिजात्य वर्ग का हो या अनपढ़ गरीब नागरिक | गाँव से शहर कि ओर बदस्तूर जारी हैं, ऐसे ही एक सख्स हैं, जिनका नाम बिजेन्द्र मंडल हैं, जो पश्चिम बंगाल का मुर्शिदाबाद जिले का रहने वाला हैं , बेहतर अजिवीका की तलाश में अपने गाँव इकबाल नगर से धनबाद आये| हिरापुर में बनती गगनचुंबी इमारतों में मजदुर का काम करते थे,ऐसे हा सैंकङो मजदूर धनबाद आते हैं |

बिजेन्द्र की कहानी कुछ अलग हैं, वो मांसिक रोग से पिङित हैं, परिवार की माली स्थीती अच्छी नही हैं, उनका गाँव भारत बांग्लादेश की सिमावर्ती क्षेत्र का दलदलीय इलाके में हैं , हुगली भागिरथी , की धारा किसान की घान कि फसलों को तहस नहस कर देती हैं| ऊपर से साहुकारों का कर्ज जो जिंदगी को कर्ज की दल दल में ढकेल देती हैं , मौजूदा पश्चिम बंगाल की की बिगङती स्थिती वहां के हिंदू परिवारों को बेहतरी के लिए पलायन के लिए मजबूर होना पङ रहा हैं, माँ, माटी , मानुष के नाम पर राजनिति करने वाली ममता के राज में मजदूरों की हालत दयनीय हैं|

वह दिन 25 जनवरी की हैं, जब बिजय मंडल अपने दोशतो के साथ ईट की सुलगती आग में खाना खाया, फिर घुमने के लिये निकला , तब से उसका कोई अता – पता ठिकाना नहीं हैं, उसका फोन भी पहुँच से बाहर बंद हैं, दोशतो और सगे संबंधीयों की हालत चिंताजनक हैं| मंडल कहाँ गया, अच्छे से हिंदी ना बोल पाने वाले, परिवार की बिगड़ी हालत को उनकी टुटी फुटी हिंदी सब बयान कर देती हैं, चिंता तो हैं, इस पुलिस की निष्ठुर व्यवहार की आखिर इन अकिदतमंदो को कितने दिन थाने दौड़ाये गी.

अवधेश कुमार राय

Language: Hindi
Tag: लेख
1 Comment · 625 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
जब अन्तस में घिरी हो, दुख की घटा अटूट,
जब अन्तस में घिरी हो, दुख की घटा अटूट,
महेश चन्द्र त्रिपाठी
सत्य की खोज
सत्य की खोज
Sidhartha Mishra
दोहे - झटपट
दोहे - झटपट
Mahender Singh
बाहर जो दिखती है, वो झूठी शान होती है,
बाहर जो दिखती है, वो झूठी शान होती है,
लोकनाथ ताण्डेय ''मधुर''
भूमि भव्य यह भारत है!
भूमि भव्य यह भारत है!
सत्यम प्रकाश 'ऋतुपर्ण'
■समयोचित_संशोधन😊😊
■समयोचित_संशोधन😊😊
*Author प्रणय प्रभात*
किया आप Tea लवर हो?
किया आप Tea लवर हो?
Urmil Suman(श्री)
जब कभी मन हारकर के,या व्यथित हो टूट जाए
जब कभी मन हारकर के,या व्यथित हो टूट जाए
Yogini kajol Pathak
मौत का रंग लाल है,
मौत का रंग लाल है,
पूर्वार्थ
रंगमंच कलाकार तुलेंद्र यादव जीवन परिचय
रंगमंच कलाकार तुलेंद्र यादव जीवन परिचय
Tulendra Yadav
नमामि राम की नगरी, नमामि राम की महिमा।
नमामि राम की नगरी, नमामि राम की महिमा।
डॉ.सीमा अग्रवाल
*जिंदगी  जीने  का नाम है*
*जिंदगी जीने का नाम है*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
हमें लगा  कि वो, गए-गुजरे निकले
हमें लगा कि वो, गए-गुजरे निकले
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
गुजारे गए कुछ खुशी के पल,
गुजारे गए कुछ खुशी के पल,
Arun B Jain
Biography Sauhard Shiromani Sant Shri Dr Saurabh
Biography Sauhard Shiromani Sant Shri Dr Saurabh
World News
says wrong to wrong
says wrong to wrong
Satish Srijan
ज़िंदगी का सवाल
ज़िंदगी का सवाल
Dr fauzia Naseem shad
मेरा नौकरी से निलंबन?
मेरा नौकरी से निलंबन?
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
माहिया छंद विधान (पंजाबी ) सउदाहरण
माहिया छंद विधान (पंजाबी ) सउदाहरण
Subhash Singhai
लोग खुश होते हैं तब
लोग खुश होते हैं तब
gurudeenverma198
मेघों का मेला लगा,
मेघों का मेला लगा,
sushil sarna
राह नहीं मंजिल नहीं बस अनजाना सफर है
राह नहीं मंजिल नहीं बस अनजाना सफर है
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
घर से बेघर
घर से बेघर
Punam Pande
"जब शोहरत मिली तो"
Dr. Kishan tandon kranti
प्राण vs प्रण
प्राण vs प्रण
Rj Anand Prajapati
*नयी पीढ़ियों को दें उपहार*
*नयी पीढ़ियों को दें उपहार*
Poonam Matia
हमारी राष्ट्रभाषा हिन्दी
हमारी राष्ट्रभाषा हिन्दी
Mukesh Kumar Sonkar
रमेशराज के कहमुकरी संरचना में चार मुक्तक
रमेशराज के कहमुकरी संरचना में चार मुक्तक
कवि रमेशराज
जीवन मर्म
जीवन मर्म
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
*नारी तुम गृह स्वामिनी, तुम जीवन-आधार (कुंडलिया)*
*नारी तुम गृह स्वामिनी, तुम जीवन-आधार (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
Loading...