Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Oct 2023 · 1 min read

पलकों की

पलकों की
कोर से टपकतेआँसू
मद्धिम पड़ती साँसे
उलझती डोर सी तेरी यादें
लफ्ज़ हो रहे
धुआं धुआं
तन्हाइयों में भी तन्हा होना
जज्बातों का
बर्फ़ सा सुन्न हो जाना
किस क़दर मुश्किल
होता है तुम बिन जीना

हिमांशु Kulshreshtha

1 Like · 96 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मेरे तात !
मेरे तात !
Akash Yadav
ओ पथिक तू कहां चला ?
ओ पथिक तू कहां चला ?
Taj Mohammad
इक शाम दे दो. . . .
इक शाम दे दो. . . .
sushil sarna
सेंधी दोहे
सेंधी दोहे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
कविता(प्रेम,जीवन, मृत्यु)
कविता(प्रेम,जीवन, मृत्यु)
Shiva Awasthi
"बढ़"
Dr. Kishan tandon kranti
माँ की आँखों में पिता / मुसाफ़िर बैठा
माँ की आँखों में पिता / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
हो गई तो हो गई ,बात होनी तो हो गई
हो गई तो हो गई ,बात होनी तो हो गई
गुप्तरत्न
शुरुआत
शुरुआत
Er. Sanjay Shrivastava
भ्रूणहत्या
भ्रूणहत्या
Dr Parveen Thakur
ना कोई संत, न भक्त, ना कोई ज्ञानी हूँ,
ना कोई संत, न भक्त, ना कोई ज्ञानी हूँ,
डी. के. निवातिया
वर्ल्डकप-2023 सुर्खियां
वर्ल्डकप-2023 सुर्खियां
दुष्यन्त 'बाबा'
■ ब्रांच हर गांव, कस्बे, शहर में।
■ ब्रांच हर गांव, कस्बे, शहर में।
*Author प्रणय प्रभात*
मौत से किसकी यारी
मौत से किसकी यारी
Satish Srijan
॥ संकटमोचन हनुमानाष्टक ॥
॥ संकटमोचन हनुमानाष्टक ॥
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
अब क्या बताएँ छूटे हैं कितने कहाँ पर हम ग़ायब हुए हैं खुद ही
अब क्या बताएँ छूटे हैं कितने कहाँ पर हम ग़ायब हुए हैं खुद ही
Neelam Sharma
*जब तक दंश गुलामी के ,कैसे कह दूँ आजादी है 【गीत 】*
*जब तक दंश गुलामी के ,कैसे कह दूँ आजादी है 【गीत 】*
Ravi Prakash
अपने होने
अपने होने
Dr fauzia Naseem shad
पेड़ पौधे (ताटंक छन्द)
पेड़ पौधे (ताटंक छन्द)
नाथ सोनांचली
स्त्री चेतन
स्त्री चेतन
Astuti Kumari
"एक नज़्म लिख रहा हूँ"
Lohit Tamta
मुट्ठी में आकाश ले, चल सूरज की ओर।
मुट्ठी में आकाश ले, चल सूरज की ओर।
Suryakant Dwivedi
शासक सत्ता के भूखे हैं
शासक सत्ता के भूखे हैं
DrLakshman Jha Parimal
Dr Arun Kumar Shastri
Dr Arun Kumar Shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
* सत्य एक है *
* सत्य एक है *
surenderpal vaidya
यह सब कुछ
यह सब कुछ
gurudeenverma198
गौरवमय पल....
गौरवमय पल....
डॉ.सीमा अग्रवाल
साँवलें रंग में सादगी समेटे,
साँवलें रंग में सादगी समेटे,
ओसमणी साहू 'ओश'
बेटियाँ
बेटियाँ
Mamta Rani
नव्य उत्कर्ष
नव्य उत्कर्ष
Dr. Sunita Singh
Loading...