Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Aug 2017 · 1 min read

पर्वराज पर्यूषण

पर्वराज पर्यूषण

आयो रे पर्वराज पर्यूषण
नित प्रति करें जिनदर्शन
पूजा पाठ रचाएं भविजन
हों धार्मिक आयोजन
आयो रे पर्वराज पर्यूषण
सात्विक शुद्ध करें भोजन
शुद्ध हो तन शांत हो मन
त्याग दें सप्त व्यसन
आयो रे पर्वराज पर्यूषण
दशलक्षण व्रत पालन करें
जीव दिया चित लाएं हम
सबको क्षमा सबसे क्षमा
‘क्षमा वीरस्य भूषणम्’
महा पर्व ये जैन धर्म में
शुद्धता लाये मन और कर्म में
हर्षित है जन-जन का मन
आयो रे पर्वराज पर्यूषण

– नवीन कुमार जैन
बड़ामलहरा

Language: Hindi
1 Comment · 698 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
जिंदगी
जिंदगी
Neeraj Agarwal
मैं क्या लिखूँ
मैं क्या लिखूँ
Aman Sinha
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
खामोश अवशेष ....
खामोश अवशेष ....
sushil sarna
माज़ी में जनाब ग़ालिब नज़र आएगा
माज़ी में जनाब ग़ालिब नज़र आएगा
Atul "Krishn"
नया सवेरा
नया सवेरा
AMRESH KUMAR VERMA
हे मानव! प्रकृति
हे मानव! प्रकृति
साहित्य गौरव
किसान भैया
किसान भैया
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
शौक करने की उम्र मे
शौक करने की उम्र मे
KAJAL NAGAR
आजा आजा रे कारी बदरिया
आजा आजा रे कारी बदरिया
Indu Singh
मृतशेष
मृतशेष
AJAY AMITABH SUMAN
जन्म से मरन तक का सफर
जन्म से मरन तक का सफर
Vandna Thakur
#दोहा
#दोहा
*प्रणय प्रभात*
*वरद हस्त सिर पर धरो*..सरस्वती वंदना
*वरद हस्त सिर पर धरो*..सरस्वती वंदना
Poonam Matia
पावस में करती प्रकृति,
पावस में करती प्रकृति,
Mahendra Narayan
माटी के रंग
माटी के रंग
Dr. Kishan tandon kranti
*छह माह (बाल कविता)*
*छह माह (बाल कविता)*
Ravi Prakash
अंगदान
अंगदान
Dr. Pradeep Kumar Sharma
यूएफओ के रहस्य का अनावरण एवं उन्नत परालोक सभ्यता की संभावनाओं की खोज
यूएफओ के रहस्य का अनावरण एवं उन्नत परालोक सभ्यता की संभावनाओं की खोज
Shyam Sundar Subramanian
Game of the time
Game of the time
Mangilal 713
जो लम्हें प्यार से जिया जाए,
जो लम्हें प्यार से जिया जाए,
Buddha Prakash
मधुर व्यवहार
मधुर व्यवहार
Paras Nath Jha
समय ही अहंकार को पैदा करता है और समय ही अहंकार को खत्म करता
समय ही अहंकार को पैदा करता है और समय ही अहंकार को खत्म करता
Rj Anand Prajapati
कैसी ये पीर है
कैसी ये पीर है
Dr fauzia Naseem shad
होली आने वाली है
होली आने वाली है
नेताम आर सी
हर दिन माँ के लिए
हर दिन माँ के लिए
Sandhya Chaturvedi(काव्यसंध्या)
23/175.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/175.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
भावुक हुए बहुत दिन हो गए
भावुक हुए बहुत दिन हो गए
Suryakant Dwivedi
चार दिन गायब होकर देख लीजिए,
चार दिन गायब होकर देख लीजिए,
पूर्वार्थ
*.....मै भी उड़ना चाहती.....*
*.....मै भी उड़ना चाहती.....*
Naushaba Suriya
Loading...