Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Feb 2024 · 2 min read

पर्वत दे जाते हैं

दृढ़ता से सीधे खड़े एक पर्वत ने, भारतवासियों को संदेश दिया है।
इच्छा, सुरक्षा, साहस व प्रतीक्षा, पर्वत ने इन सबका भेष लिया है।
इनके अटूट साहस की कथा, चलो आज इस संसार को सुनाते हैं।
ये समय कैसे हो गया विलय, गति की सूचना भी पर्वत दे जाते हैं।

शैल, औषधि व मौसम से जुड़े, हर अध्ययन का आधार तुम्हीं हो।
भूमि व ऋतु का बदलाव तुम्हीं, स्वयं प्रकृति का विस्तार तुम्हीं हो।
पर्वत ही प्रकृति का निवास स्थल, ये बात भू-वैज्ञानिक बतलाते हैं।
ये समय कैसे हो गया विलय, गति की सूचना भी पर्वत दे जाते हैं।

ऊँचे पर्वत, जब लेते हैं करवट, ये हर प्रहरी को उत्साहित करते हैं।
शत्रु को ऊँचाई से नित डराते, पर्वत एक देश को सुरक्षित करते हैं।
सीमाओं की रक्षा करते हुए, सैन्य दल में नाम अपना लिखवाते हैं।
ये समय कैसे हो गया विलय, गति की सूचना भी पर्वत दे जाते हैं।

कभी साहसी खेलों का मंच, खिलाड़ियों का विश्वास बन जाता है।
कभी आस्था का केंद्र रहे, केदारनाथ संग में कैलाश बन जाता है।
असीम शक्ति व प्रगाढ़ भक्ति के अद्भुत दर्शन प्रतिदिन करवाते हैं।
ये समय कैसे हो गया विलय, गति की सूचना भी पर्वत दे जाते हैं।

यदि देखा जाए तो हर पहाड़, एक अनकही कहानी दबाए बैठा है।
सेवा, साधना व सुरक्षा के साथ, स्वयं में समय को मिलाए बैठा है।
निस्वार्थ भाव से सेवा करते हुए, ये अपना नाम अमर कर जाते हैं।
ये समय कैसे हो गया विलय, गति की सूचना भी पर्वत दे जाते हैं।

अब तो प्रगति की अंधीदौड़ में, सृजन की आड़ में विनाश हुआ है।
एक प्राणी ने कई प्राण छीनें, हर सम्भव स्तर का सर्वनाश हुआ है।
प्रदूषण की प्रताड़ना भी झेलें, जीवित शवों का बोझ भी उठाते हैं।
ये समय कैसे हो गया विलय, गति की सूचना भी पर्वत दे जाते हैं।

4 Likes · 59 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
चिंता
चिंता
RAKESH RAKESH
The World on a Crossroad: Analysing the Pros and Cons of a Potential Superpower Conflict
The World on a Crossroad: Analysing the Pros and Cons of a Potential Superpower Conflict
Shyam Sundar Subramanian
खाता काल मनुष्य को, बिछड़े मन के मीत (कुंडलिया)
खाता काल मनुष्य को, बिछड़े मन के मीत (कुंडलिया)
Ravi Prakash
तब जानोगे
तब जानोगे
विजय कुमार नामदेव
"दरपन"
Dr. Kishan tandon kranti
किसान और जवान
किसान और जवान
Sandeep Kumar
कर्मठ व्यक्ति की सहनशीलता ही धैर्य है, उसके द्वारा किया क्षम
कर्मठ व्यक्ति की सहनशीलता ही धैर्य है, उसके द्वारा किया क्षम
Sanjay ' शून्य'
जंगल, जल और ज़मीन
जंगल, जल और ज़मीन
Shekhar Chandra Mitra
कोहरा और कोहरा
कोहरा और कोहरा
Ghanshyam Poddar
एक ही निश्चित समय पर कोई भी प्राणी  किसी के साथ प्रेम ,  किस
एक ही निश्चित समय पर कोई भी प्राणी किसी के साथ प्रेम , किस
Seema Verma
हाथ माखन होठ बंशी से सजाया आपने।
हाथ माखन होठ बंशी से सजाया आपने।
लक्ष्मी सिंह
लिख लेते हैं थोड़ा-थोड़ा
लिख लेते हैं थोड़ा-थोड़ा
Suryakant Dwivedi
एक अबोध बालक
एक अबोध बालक
DR ARUN KUMAR SHASTRI
अहसास
अहसास
Dr Parveen Thakur
वो काल है - कपाल है,
वो काल है - कपाल है,
manjula chauhan
शुभ दिवाली
शुभ दिवाली
umesh mehra
अरमान
अरमान
Neeraj Agarwal
बाट का बटोही ?
बाट का बटोही ?
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
चाय की दुकान पर
चाय की दुकान पर
gurudeenverma198
पुस्तकें
पुस्तकें
डॉ. शिव लहरी
कौआ और बन्दर
कौआ और बन्दर
SHAMA PARVEEN
अंतरंग प्रेम
अंतरंग प्रेम
Paras Nath Jha
पंक्ति में व्यंग कहां से लाऊं ?
पंक्ति में व्यंग कहां से लाऊं ?
goutam shaw
तस्वीरों में मुस्कुराता वो वक़्त, सजा यादों की दे जाता है।
तस्वीरों में मुस्कुराता वो वक़्त, सजा यादों की दे जाता है।
Manisha Manjari
■ आज का शेर
■ आज का शेर
*Author प्रणय प्रभात*
एक चिडियाँ पिंजरे में 
एक चिडियाँ पिंजरे में 
Punam Pande
ख़ाक हुए अरमान सभी,
ख़ाक हुए अरमान सभी,
Arvind trivedi
इंसान हूं मैं आखिर ...
इंसान हूं मैं आखिर ...
ओनिका सेतिया 'अनु '
आदमी सा आदमी_ ये आदमी नही
आदमी सा आदमी_ ये आदमी नही
कृष्णकांत गुर्जर
मुक्तक-
मुक्तक-
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
Loading...