Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings
Jun 5, 2016 · 1 min read

पर्यावरण

आज विश्व पर्यावरण दिवस पर प्रस्तुत मुक्तक….

दिन-दिन बढ़ता ताप धरा पर,मानव तू अबतक अंजान।
यह विकास है राह पतन की,अपनी त्रुटियों को पहचान।
जल-थल-वायु प्रमुख स्रोत सभी,किये प्रदूषित मानव ने,
अभी न रोका चक्र दोहन का,धरा न हो जाये वीरान।

अर्चना सिंह?

1 Like · 1 Comment · 357 Views
You may also like:
चराग़ों को जलाने से
Shivkumar Bilagrami
बिछड़ कर किसने
Dr fauzia Naseem shad
मुझे तुम भूल सकते हो
Dr fauzia Naseem shad
उनकी यादें
Ram Krishan Rastogi
जिन्दगी का जमूरा
Anamika Singh
वक़्त किसे कहते हैं
Dr fauzia Naseem shad
* सत्य,"मीठा या कड़वा" *
मनोज कर्ण
जीवन एक कारखाना है /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
हम भूल तो नहीं सकते
Dr fauzia Naseem shad
"कुछ तुम बदलो कुछ हम बदलें"
Ajit Kumar "Karn"
"भोर"
Ajit Kumar "Karn"
रोटी संग मरते देखा
शेख़ जाफ़र खान
मां की ममता
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
✍️स्कूल टाइम ✍️
Vaishnavi Gupta
✍️बदल गए है ✍️
Vaishnavi Gupta
संकुचित हूं स्वयं में
Dr fauzia Naseem shad
आंसूओं की नमी का क्या करते
Dr fauzia Naseem shad
प्रकृति के चंचल नयन
मनोज कर्ण
बरसात आई झूम के...
Buddha Prakash
एक पनिहारिन की वेदना
Ram Krishan Rastogi
"रक्षाबंधन पर्व"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
रंग हरा सावन का
श्री रमण 'श्रीपद्'
बुद्ध भगवान की शिक्षाएं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
जाने कैसा दिन लेकर यह आया है परिवर्तन
आकाश महेशपुरी
राष्ट्रवाद का रंग
मनोज कर्ण
एक कतरा मोहब्बत
श्री रमण 'श्रीपद्'
गुमनाम ही सही....
DEVSHREE PAREEK 'ARPITA'
Life through the window during lockdown
ASHISH KUMAR SINGH
जितनी मीठी ज़ुबान रक्खेंगे
Dr fauzia Naseem shad
किसी का होके रह जाना
Dr fauzia Naseem shad
Loading...