Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Jun 2016 · 1 min read

पर्यावरण

आज विश्व पर्यावरण दिवस पर प्रस्तुत मुक्तक….

दिन-दिन बढ़ता ताप धरा पर,मानव तू अबतक अंजान।
यह विकास है राह पतन की,अपनी त्रुटियों को पहचान।
जल-थल-वायु प्रमुख स्रोत सभी,किये प्रदूषित मानव ने,
अभी न रोका चक्र दोहन का,धरा न हो जाये वीरान।

अर्चना सिंह?

Language: Hindi
Tag: कविता
1 Like · 1 Comment · 403 Views
You may also like:
पूनम की रात में चांद व चांदनी
Ram Krishan Rastogi
मैल
Gaurav Sharma
किस अदा की बात करें
Mahesh Tiwari 'Ayen'
मेरा अन्तर्मन
Saraswati Bajpai
मेरी मातृभाषा हिन्दी है
gurudeenverma198
#हमसफ़र
Seema 'Tu hai na'
औरत, आज़ादी और ज़िंदगी
Shekhar Chandra Mitra
जुनू- जुनू ,जुनू चढा तेरे प्यार का
Swami Ganganiya
■ खुला दावा
*Author प्रणय प्रभात*
बाट जोहती इक दासी
Rashmi Sanjay
"शेर-ऐ-पंजाब महाराजा रणजीत सिंह की धर्मनिरपेक्षता"
Pravesh Shinde
आने वाले साल से, कहे पुराना साल।
डॉ.सीमा अग्रवाल
"शौर्यम..दक्षम..युध्धेय, बलिदान परम धर्मा" अर्थात- बहादुरी वह है जो आपको...
Lohit Tamta
अलाव
Kaur Surinder
प्रकृति पर्यावरण बचाना, नैतिक जिम्मेदारी है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
भ्रम
Shyam Sundar Subramanian
उम्मीद नही छोड़ते है ये बच्चे
Anamika Singh
दरख्तों से पूँछों।
Taj Mohammad
कैसे कहूँ....?
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
एहसास
Ashish Kumar
मैं छोटी नन्हीं सी गुड़िया ।
लक्ष्मी सिंह
प्यार:एक ख्वाब
Nishant prakhar
यथा_व्यथा
Anita Sharma
किसी के मेयार पर
Dr fauzia Naseem shad
कनुप्रिया
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
पंख कटे पांखी
सूर्यकांत द्विवेदी
बाल कविता- कौन क्या बोला?
आर.एस. 'प्रीतम'
*रिश्वत की दौलत जब आती, अच्छी लगती है (हिंदी गजल/...
Ravi Prakash
✍️आज जमी तो कल आसमाँ हूँ
'अशांत' शेखर
डिजिटल प्यार था हमरा
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
Loading...