Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Jun 2023 · 1 min read

पर्यावरण

प्रकृति में समाया परिवार
__________________
दादा नाना, बड़े बुजुर्ग!
हैं वो घर के कल्प वृक्ष,
जो चाहो सो वर पाओ
मजबूती देते, जैसे वट वृक्ष

नीम! पिता की अनुभूति जैसे
नर्म हवा सा सहलाते
पिता जैसे थोड़े कड़वे भी पर
सर्वांग उनका लाभ कराते

गिलोय,अमृता छप्पर पर चढ़ गई
जैसे हों मेरी चाची ताई
आंगन में लदे, आम के बौर से
कोयल ने फिर कूक सुनाई

रामा श्यामा तुलसा जी
मैया कहती, बड़ी बिटिया जी
सबका पूरा स्वास्थ्य सुधारे
कैसे उनको हम बिसारे

पर्यावरण और प्रकृति को बचाएं
इसमें पूरा परिवार समाया
तभी बचेगा सभी का जीवन
कोरोना से समझ में आया।

जीव जंतु भी रहें सुरक्षित
शपथ लें, ना काटें जंगल
पानी ना बर्बाद करेंगे
फिर होगा मंगल ही मंगल
____ मनु वाशिष्ठ

2 Likes · 401 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Manu Vashistha
View all
You may also like:
सच तो रंग होते हैं।
सच तो रंग होते हैं।
Neeraj Agarwal
♥️राधे कृष्णा ♥️
♥️राधे कृष्णा ♥️
Vandna thakur
पन्नें
पन्नें
Abhinay Krishna Prajapati-.-(kavyash)
कि दे दो हमें मोदी जी
कि दे दो हमें मोदी जी
Jatashankar Prajapati
फितरत
फितरत
Bodhisatva kastooriya
खंडहर
खंडहर
Tarkeshwari 'sudhi'
धीरे धीरे बदल रहा
धीरे धीरे बदल रहा
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
प्रेम-प्रेम रटते सभी,
प्रेम-प्रेम रटते सभी,
Arvind trivedi
एक सच ......
एक सच ......
sushil sarna
सजी कैसी अवध नगरी, सुसंगत दीप पाँतें हैं।
सजी कैसी अवध नगरी, सुसंगत दीप पाँतें हैं।
डॉ.सीमा अग्रवाल
💐 *दोहा निवेदन*💐
💐 *दोहा निवेदन*💐
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
"अक्षर"
Dr. Kishan tandon kranti
Happy new year 2024
Happy new year 2024
Ranjeet kumar patre
Live in Present
Live in Present
Satbir Singh Sidhu
मैं इन्सान हूँ यही तो बस मेरा गुनाह है
मैं इन्सान हूँ यही तो बस मेरा गुनाह है
VINOD CHAUHAN
धोखा
धोखा
Paras Nath Jha
जीभ/जिह्वा
जीभ/जिह्वा
लक्ष्मी सिंह
రామయ్య మా రామయ్య
రామయ్య మా రామయ్య
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
तुम्हें लिखना आसान है
तुम्हें लिखना आसान है
Manoj Mahato
रिश्तों में वक्त नहीं है
रिश्तों में वक्त नहीं है
पूर्वार्थ
🙏
🙏
Neelam Sharma
#अपनाएं_ये_हथकंडे...
#अपनाएं_ये_हथकंडे...
*Author प्रणय प्रभात*
याद रखेंगे सतत चेतना, बनकर राष्ट्र-विभाजन को (मुक्तक)
याद रखेंगे सतत चेतना, बनकर राष्ट्र-विभाजन को (मुक्तक)
Ravi Prakash
संवेदनहीन प्राणियों के लिए अपनी सफाई में कुछ कहने को होता है
संवेदनहीन प्राणियों के लिए अपनी सफाई में कुछ कहने को होता है
Shweta Soni
एक कहानी है, जो अधूरी है
एक कहानी है, जो अधूरी है
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
है तो है
है तो है
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
जन जन फिर से तैयार खड़ा कर रहा राम की पहुनाई।
जन जन फिर से तैयार खड़ा कर रहा राम की पहुनाई।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
बड़ी मछली सड़ी मछली
बड़ी मछली सड़ी मछली
Dr MusafiR BaithA
मजहब
मजहब
Dr. Pradeep Kumar Sharma
श्री रामचरितमानस में कुछ स्थानों पर घटना एकदम से घटित हो जाती है ऐसे ही एक स्थान पर मैंने यह
श्री रामचरितमानस में कुछ स्थानों पर घटना एकदम से घटित हो जाती है ऐसे ही एक स्थान पर मैंने यह "reading between the lines" लिखा है
SHAILESH MOHAN
Loading...