Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Jun 2023 · 1 min read

पर्यावरण दिवस पर विशेष गीत

कितनें दिन हो गए,खुल कर हँसें हुए,याद नहीं
कितनें दिन हो गए,हवा में झूलें हुए,याद नहीं

कितनें दिन हो गए,दराज़ों में कैद हुए,याद नहीं
कितनें दिन हो गए,बहारों से मिलें हुए,याद नहीं

कितनें दिन हो गए,सहर का सूरज देखें हुए,याद नहीं
कितनें दिन हो गए,शज़र को छुए हुए,याद नहीं

कितनें दिन हो गए,कोई गीत गाये हुए,याद नहीं
कितने दिन हो गए,दरिया में नहाए हुए,याद नहीं

कितनें दिन हो गए,नींद से जागे हुए,याद नहीं
कितनें दिन हो गए,प्रेम में भींगे हुए,याद नहीं

हर बार सोचता हूँ खुल कर जीने के लिए फ़ज़ाओं में
मग़र कब निकला गुलों को देखनें के लिए,याद नहीं

ज़िंदगी खंडहर हो गईं,सजती इमारत में अपनी
कितनें दिन हो गए,इनसे निकलें हुए,याद नहीं ।।

©बिमल तिवारी “आत्मबोध”
यायावर लेखक अल्हड़ कवि
देवरिया उत्तर प्रदेश

1 Like · 291 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
देह माटी की 'नीलम' श्वासें सभी उधार हैं।
देह माटी की 'नीलम' श्वासें सभी उधार हैं।
Neelam Sharma
जिंदगी में पराया कोई नहीं होता,
जिंदगी में पराया कोई नहीं होता,
नेताम आर सी
रंगीला बचपन
रंगीला बचपन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
जिन्दगी की पाठशाला
जिन्दगी की पाठशाला
Ashokatv
मकर संक्रांति
मकर संक्रांति
Suryakant Dwivedi
कहानी-
कहानी- "हाजरा का बुर्क़ा ढीला है"
Dr Tabassum Jahan
*नाम है इनका, राजीव तरारा*
*नाम है इनका, राजीव तरारा*
Dushyant Kumar
छोड़ चली तू छोड़ चली
छोड़ चली तू छोड़ चली
gurudeenverma198
प्रेम!
प्रेम!
कविता झा ‘गीत’
संवेदना की आस
संवेदना की आस
Ritu Asooja
अच्छा अख़लाक़
अच्छा अख़लाक़
Dr fauzia Naseem shad
विलीन
विलीन
sushil sarna
माँ
माँ
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
देश में क्या हो रहा है?
देश में क्या हो रहा है?
Acharya Rama Nand Mandal
आँखों से भी मतांतर का एहसास होता है , पास रहकर भी विभेदों का
आँखों से भी मतांतर का एहसास होता है , पास रहकर भी विभेदों का
DrLakshman Jha Parimal
माता सति की विवशता
माता सति की विवशता
SHAILESH MOHAN
परिणति
परिणति
Shyam Sundar Subramanian
*भिन्नात्मक उत्कर्ष*
*भिन्नात्मक उत्कर्ष*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
तेरी चाहत का कैदी
तेरी चाहत का कैदी
N.ksahu0007@writer
कई वर्षों से ठीक से होली अब तक खेला नहीं हूं मैं /लवकुश यादव
कई वर्षों से ठीक से होली अब तक खेला नहीं हूं मैं /लवकुश यादव "अज़ल"
लवकुश यादव "अज़ल"
-- तभी तक याद करते हैं --
-- तभी तक याद करते हैं --
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
21-रूठ गई है क़िस्मत अपनी
21-रूठ गई है क़िस्मत अपनी
Ajay Kumar Vimal
*वरिष्ठ नागरिक (हास्य कुंडलिया)*
*वरिष्ठ नागरिक (हास्य कुंडलिया)*
Ravi Prakash
जिंदगी भी रेत का सच रहतीं हैं।
जिंदगी भी रेत का सच रहतीं हैं।
Neeraj Agarwal
मन भर बोझ हो मन पर
मन भर बोझ हो मन पर
Atul "Krishn"
"फासला और फैसला"
Dr. Kishan tandon kranti
हद्द - ए - आसमाँ की न पूछा करों,
हद्द - ए - आसमाँ की न पूछा करों,
manjula chauhan
भारत का चाँद…
भारत का चाँद…
Anand Kumar
लोककवि रामचरन गुप्त एक देशभक्त कवि - डॉ. रवीन्द्र भ्रमर
लोककवि रामचरन गुप्त एक देशभक्त कवि - डॉ. रवीन्द्र भ्रमर
कवि रमेशराज
फ्लाइंग किस और धूम्रपान
फ्लाइंग किस और धूम्रपान
Dr. Harvinder Singh Bakshi
Loading...