Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Oct 2023 · 1 min read

“परीक्षा के भूत “

“परीक्षा के भूत ”
परीक्षा के भूत जब पास आवे ,
झाड़ फूक कुछु काम नही आवे ।
परीक्षा के डर में नींद भाग जावे ,
खान पान ठीक से नहीं हो पावे।

डर में सब थर थर कांपे,
जब परीक्षा के तैयारी नहीं हो पावे।
परीक्षा के भूत से कोई बच नहीं पावे ,
सब के जीवन में ये भूत जरूर आवे।
……✍️ योगेन्द्र चतुर्वेदी

1 Like · 1 Comment · 181 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
किताबों से ज्ञान मिलता है
किताबों से ज्ञान मिलता है
Bhupendra Rawat
2740. *पूर्णिका*
2740. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
घर छूटा तो बाकी के असबाब भी लेकर क्या करती
घर छूटा तो बाकी के असबाब भी लेकर क्या करती
Shweta Soni
रुकना हमारा काम नहीं...
रुकना हमारा काम नहीं...
AMRESH KUMAR VERMA
करनी होगी जंग
करनी होगी जंग
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
" आज़ का आदमी "
Chunnu Lal Gupta
ख़्बाब आंखों में बंद कर लेते - संदीप ठाकुर
ख़्बाब आंखों में बंद कर लेते - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
दरोगवा / MUSAFIR BAITHA
दरोगवा / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
ऐ बादल अब तो बरस जाओ ना
ऐ बादल अब तो बरस जाओ ना
नूरफातिमा खातून नूरी
माँ
माँ
Dr. Pradeep Kumar Sharma
13-छन्न पकैया छन्न पकैया
13-छन्न पकैया छन्न पकैया
Ajay Kumar Vimal
अधूरी ख्वाहिशें
अधूरी ख्वाहिशें
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
मूर्ख बनाने की ओर ।
मूर्ख बनाने की ओर ।
Buddha Prakash
मुझको अपनी शरण में ले लो हे मनमोहन हे गिरधारी
मुझको अपनी शरण में ले लो हे मनमोहन हे गिरधारी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
*राष्ट्रभाषा हिंदी और देशज शब्द*
*राष्ट्रभाषा हिंदी और देशज शब्द*
Subhash Singhai
बन नेक बन्दे रब के
बन नेक बन्दे रब के
Satish Srijan
🙅घनघोर विकास🙅
🙅घनघोर विकास🙅
*Author प्रणय प्रभात*
हो मेहनत सच्चे दिल से,अक्सर परिणाम बदल जाते हैं
हो मेहनत सच्चे दिल से,अक्सर परिणाम बदल जाते हैं
पूर्वार्थ
इशारों इशारों में मेरा दिल चुरा लेते हो
इशारों इशारों में मेरा दिल चुरा लेते हो
Ram Krishan Rastogi
जो कहा तूने नहीं
जो कहा तूने नहीं
Dr fauzia Naseem shad
आज की तारीख हमें सिखा कर जा रही है कि आने वाली भविष्य की तार
आज की तारीख हमें सिखा कर जा रही है कि आने वाली भविष्य की तार
Seema Verma
"बदलाव"
Dr. Kishan tandon kranti
सुखी होने में,
सुखी होने में,
Sangeeta Beniwal
*निर्धनता सबसे बड़ा, जग में है अभिशाप( कुंडलिया )*
*निर्धनता सबसे बड़ा, जग में है अभिशाप( कुंडलिया )*
Ravi Prakash
दोहे- दास
दोहे- दास
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
सुकून की चाबी
सुकून की चाबी
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
मिलना था तुमसे,
मिलना था तुमसे,
shambhavi Mishra
कोरा रंग
कोरा रंग
Manisha Manjari
मेरी हथेली पर, तुम्हारी उंगलियों के दस्तख़त
मेरी हथेली पर, तुम्हारी उंगलियों के दस्तख़त
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
खुदा को ढूँढा दैरो -हरम में
खुदा को ढूँढा दैरो -हरम में
shabina. Naaz
Loading...