Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Dec 2023 · 1 min read

परिसर खेल का हो या दिल का,

परिसर खेल का हो या दिल का,
आजमाइश तो जरूर होती है,
कुछ टूट जाते है इस भाग दौड़ में,
किसी एक की मेहनत सफल होती है,
कठिनाइयां हर क्षेत्र में आती है,
सफलता वो ही तो लाती है,
निर्भीकता से जो डटा रहा मैदान में,
उसी को बस पुरुस्कार दे जाती है,
खेल कोई भी हो भावना हो सच्ची,
उसी को मिलती एक दिन मंजिल अच्छी,
जो खेल खेल भावना से नही खेलता,
उसका कोई भी परिसर अपना नही होता,
हर परिसर से प्रेम, मेहनत पर दे जोर,
सफलता कदम चूमेगी हर ओर.

182 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
সিগারেট নেশা ছিল না
সিগারেট নেশা ছিল না
Sakhawat Jisan
*20वे पुण्य-स्मृति दिवस पर पूज्य पिता जी के श्रीचरणों में श्
*20वे पुण्य-स्मृति दिवस पर पूज्य पिता जी के श्रीचरणों में श्
*Author प्रणय प्रभात*
💐प्रेम कौतुक-548💐
💐प्रेम कौतुक-548💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
3060.*पूर्णिका*
3060.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मन मुकुर
मन मुकुर
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
एक आज़ाद परिंदा
एक आज़ाद परिंदा
Shekhar Chandra Mitra
के जब तक दिल जवां होता नहीं है।
के जब तक दिल जवां होता नहीं है।
सत्य कुमार प्रेमी
तुम जो कहते हो प्यार लिखूं मैं,
तुम जो कहते हो प्यार लिखूं मैं,
Manoj Mahato
चोरबत्ति (मैथिली हायकू)
चोरबत्ति (मैथिली हायकू)
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
ग़ज़ल/नज़्म - आज़ मेरे हाथों और पैरों में ये कम्पन सा क्यूँ है
ग़ज़ल/नज़्म - आज़ मेरे हाथों और पैरों में ये कम्पन सा क्यूँ है
अनिल कुमार
जिन्होंने भारत को लूटा फैलाकर जाल
जिन्होंने भारत को लूटा फैलाकर जाल
Rakesh Panwar
Dont loose your hope without doing nothing.
Dont loose your hope without doing nothing.
Sakshi Tripathi
बेपरवाह खुशमिज़ाज़ पंछी
बेपरवाह खुशमिज़ाज़ पंछी
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
बहुत सी बातें है, जो लड़के अपने घरवालों को स्पष्ट रूप से कभी
बहुत सी बातें है, जो लड़के अपने घरवालों को स्पष्ट रूप से कभी
पूर्वार्थ
जिंदगी बस एक सोच है।
जिंदगी बस एक सोच है।
Neeraj Agarwal
*तू ही  पूजा  तू ही खुदा*
*तू ही पूजा तू ही खुदा*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
मेरी निजी जुबान है, हिन्दी ही दोस्तों
मेरी निजी जुबान है, हिन्दी ही दोस्तों
SHAMA PARVEEN
"मुद्रा"
Dr. Kishan tandon kranti
*लिफाफा भोजन शादी( कुंडलिया)*
*लिफाफा भोजन शादी( कुंडलिया)*
Ravi Prakash
बनावटी दुनिया मोबाईल की
बनावटी दुनिया मोबाईल की"
Dr Meenu Poonia
21 उम्र ढ़ल गई
21 उम्र ढ़ल गई
Dr Shweta sood
जब कभी  मिलने आओगे
जब कभी मिलने आओगे
Dr Manju Saini
Maine Dekha Hai Apne Bachpan Ko!
Maine Dekha Hai Apne Bachpan Ko!
Srishty Bansal
ज़िंदगी में वो भी इम्तिहान आता है,
ज़िंदगी में वो भी इम्तिहान आता है,
Vandna Thakur
आज इस सूने हृदय में....
आज इस सूने हृदय में....
डॉ.सीमा अग्रवाल
मैं हूँ ना
मैं हूँ ना
gurudeenverma198
निर्माण विध्वंस तुम्हारे हाथ
निर्माण विध्वंस तुम्हारे हाथ
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
थाल सजाकर दीप जलाकर रोली तिलक करूँ अभिनंदन ‌।
थाल सजाकर दीप जलाकर रोली तिलक करूँ अभिनंदन ‌।
Neelam Sharma
घर की रानी
घर की रानी
Kanchan Khanna
*लम्हे* ( 24 of 25)
*लम्हे* ( 24 of 25)
Kshma Urmila
Loading...