Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Nov 2022 · 1 min read

परिवार

समझता है सबसे बड़ा हो गया।
कि इंसान खुद में खुदा हो गया।

बड़ा सबसे होने की चाहत में ही,
वो अपनों से ही अब जुदा हो गया।

हॅंसी छोड़ खुशियों के पीछे पड़ा,
नहीं कुछ मिला तो गमजदा हो गया।

किया प्यार परिवार से जिसने कभी,
उसे प्यार का सिलसिला हो गया।

अभिषेक पाण्डेय अभि
१४/११/२२

34 Likes · 1 Comment · 509 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
तुम मुझे बना लो
तुम मुझे बना लो
श्याम सिंह बिष्ट
" दिल गया है हाथ से "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
मोबाईल नहीं
मोबाईल नहीं
Harish Chandra Pande
The Moon!
The Moon!
Buddha Prakash
एहसास
एहसास
Er.Navaneet R Shandily
बालचंद झां (हल्के दाऊ)
बालचंद झां (हल्के दाऊ)
Ms.Ankit Halke jha
हुआ क्या तोड़ आयी प्रीत को जो  एक  है  नारी
हुआ क्या तोड़ आयी प्रीत को जो एक है नारी
Anil Mishra Prahari
कोई दौलत पे, कोई शौहरत पे मर गए
कोई दौलत पे, कोई शौहरत पे मर गए
The_dk_poetry
चाल, चरित्र और चेहरा, सबको अपना अच्छा लगता है…
चाल, चरित्र और चेहरा, सबको अपना अच्छा लगता है…
Anand Kumar
*दही सदा से है सही, रखता ठीक दिमाग (कुंडलिया)*
*दही सदा से है सही, रखता ठीक दिमाग (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
मुश्किलों पास आओ
मुश्किलों पास आओ
Dr. Meenakshi Sharma
■ हंसी-ठट्ठे और घिसे-पिटे भाषणों से तो भला होगा नहीं।
■ हंसी-ठट्ठे और घिसे-पिटे भाषणों से तो भला होगा नहीं।
*Author प्रणय प्रभात*
पानी में हीं चाँद बुला
पानी में हीं चाँद बुला
Shweta Soni
मुक्तक
मुक्तक
Rajesh Tiwari
बड़ा भोला बड़ा सज्जन हूँ दीवाना मगर ऐसा
बड़ा भोला बड़ा सज्जन हूँ दीवाना मगर ऐसा
आर.एस. 'प्रीतम'
2456.पूर्णिका
2456.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
::बेवफा::
::बेवफा::
MSW Sunil SainiCENA
अच्छे दामों बिक रहे,
अच्छे दामों बिक रहे,
sushil sarna
ईश्वर से साक्षात्कार कराता है संगीत
ईश्वर से साक्षात्कार कराता है संगीत
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
जैसे को तैसा
जैसे को तैसा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
जब हम गरीब थे तो दिल अमीर था
जब हम गरीब थे तो दिल अमीर था "कश्यप"।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
खुद को मसखरा बनाया जिसने,
खुद को मसखरा बनाया जिसने,
Satish Srijan
জপ জপ কালী নাম জপ জপ দুর্গা নাম
জপ জপ কালী নাম জপ জপ দুর্গা নাম
Arghyadeep Chakraborty
*माँ*
*माँ*
Naushaba Suriya
आपको देखते ही मेरे निगाहें आप पर आके थम जाते हैं
आपको देखते ही मेरे निगाहें आप पर आके थम जाते हैं
Sukoon
ये शास्वत है कि हम सभी ईश्वर अंश है। परंतु सबकी परिस्थितियां
ये शास्वत है कि हम सभी ईश्वर अंश है। परंतु सबकी परिस्थितियां
Sanjay ' शून्य'
सपने तेरे है तो संघर्ष करना होगा
सपने तेरे है तो संघर्ष करना होगा
पूर्वार्थ
ऐसा कभी नही होगा
ऐसा कभी नही होगा
gurudeenverma198
सपने
सपने
Santosh Shrivastava
देश और जनता~
देश और जनता~
दिनेश एल० "जैहिंद"
Loading...