Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Oct 2023 · 1 min read

परिवर्तन

परिवर्तन

हर नया परिवर्तन
कर देता है असहज
पुरानी लीक पर
चलते पांवों को
पांव नहीं हैं कसूरवार
आदि हैं वे
पुरानी राहों के
लगेंगे चंद रोज
असहज पांव को
सहज होने में।

-विनोद सिल्ला

Language: Hindi
2 Likes · 121 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
बेदम हुए है हम।
बेदम हुए है हम।
Taj Mohammad
ले आओ बरसात
ले आओ बरसात
Santosh Barmaiya #jay
जो मौका रहनुमाई का मिला है
जो मौका रहनुमाई का मिला है
Anis Shah
ये मानसिकता हा गलत आये के मोर ददा बबा मन‌ साग भाजी बेचत रहिन
ये मानसिकता हा गलत आये के मोर ददा बबा मन‌ साग भाजी बेचत रहिन
PK Pappu Patel
*हूँ कौन मैं*
*हूँ कौन मैं*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
■ हाल-बेहाल...
■ हाल-बेहाल...
*Author प्रणय प्रभात*
अगर आप
अगर आप
Dr fauzia Naseem shad
लेखनी
लेखनी
Prakash Chandra
मंत्र  :  दधाना करपधाभ्याम,
मंत्र : दधाना करपधाभ्याम,
Harminder Kaur
हमारे दोस्त
हमारे दोस्त
Shivkumar Bilagrami
2329.पूर्णिका
2329.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
इन आँखों में इतनी सी नमी रह गई।
इन आँखों में इतनी सी नमी रह गई।
लक्ष्मी सिंह
वक्त
वक्त
Astuti Kumari
मन
मन
Dr.Priya Soni Khare
Writing Challenge- भूख (Hunger)
Writing Challenge- भूख (Hunger)
Sahityapedia
अदब
अदब
Dr Parveen Thakur
ग़ज़ल सगीर
ग़ज़ल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
दस्तूर ए जिंदगी
दस्तूर ए जिंदगी
AMRESH KUMAR VERMA
प्रेम और घृणा दोनों ऐसे
प्रेम और घृणा दोनों ऐसे
Neelam Sharma
बेटी परायो धन बताये, पिहर सु ससुराल मे पति थम्माये।
बेटी परायो धन बताये, पिहर सु ससुराल मे पति थम्माये।
Anil chobisa
ज़िन्दगी की तरकश में खुद मरता है आदमी…
ज़िन्दगी की तरकश में खुद मरता है आदमी…
Anand Kumar
डूबें अक्सर जो करें,
डूबें अक्सर जो करें,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
ये भावनाओं का भंवर है डुबो देंगी
ये भावनाओं का भंवर है डुबो देंगी
ruby kumari
💐अज्ञात के प्रति-65💐
💐अज्ञात के प्रति-65💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
हमारी संस्कृति में दशरथ तभी बूढ़े हो जाते हैं जब राम योग्य ह
हमारी संस्कृति में दशरथ तभी बूढ़े हो जाते हैं जब राम योग्य ह
Sanjay ' शून्य'
*गाता गाथा राम की, तीर्थ अयोध्या धाम (कुंडलिया)*
*गाता गाथा राम की, तीर्थ अयोध्या धाम (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
ऐसा कहते हैं सब मुझसे
ऐसा कहते हैं सब मुझसे
gurudeenverma198
कितने पन्ने
कितने पन्ने
Satish Srijan
विजेता
विजेता
Paras Nath Jha
किसी की किस्मत संवार के देखो
किसी की किस्मत संवार के देखो
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
Loading...