Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Oct 2022 · 1 min read

परिणय के बंधन से

प्राण प्रिये बँध जाएँ आओ
हम परिणय के बंधन में ।
जीवन की समरसता भर लूँ
आओ प्रिय आलिंगन में ।।

दूर गगन है रात अँधेरी
खाली मन का कोना है ।
अवसर दे दो अभिनंदन का
प्रीति दृगों में बोना है ।।

छवि मधुरिम मेरी चाहत की
देख सको जो कंगन में ।
प्राण प्रिये बँध जाएँ आओ
हम परिणय के बंधन में ।।

हृदय काव्य की शुचि कविता तुम
पढ़ लूँ अब अक्षर-अक्षर ।
वर्ण छंद लय की गरिमा से
भर दूँ तन की रस गागर ।।

तुम बन कर कोकिला सुरीली
भर जाओ स्वर व्यंजन में ।
प्राण प्रिये बँध जाएँ आओ
हम परिणय के बंधन में ।।

छू कर अधर-अधर से सजनी
पुष्प खिला दूँ तन -मन में
चाह कली की रस उमंग में
अर्पण कर दूँ जीवन में ।।

तुम्हें चूम कर मैं नयनों से
हृदय भंँवर के गुंजन में ।
प्राण प्रिये बँध जाएँ आओ
हम परिणय के बंधन में ।।

डा. सुनीता सिंह ‘सुधा’
3/10/2022
वाराणसी

Language: Hindi
1 Like · 1 Comment · 225 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
जय भवानी, जय शिवाजी!
जय भवानी, जय शिवाजी!
Kanchan Alok Malu
क़ाफ़िया तुकांत -आर
क़ाफ़िया तुकांत -आर
Yogmaya Sharma
मुखौटा!
मुखौटा!
कविता झा ‘गीत’
"सुखी हुई पत्ती"
Pushpraj Anant
*वीर सावरकर 【गीत 】*
*वीर सावरकर 【गीत 】*
Ravi Prakash
पघारे दिव्य रघुनंदन, चले आओ चले आओ।
पघारे दिव्य रघुनंदन, चले आओ चले आओ।
सत्यम प्रकाश 'ऋतुपर्ण'
दुनिया में सब ही की तरह
दुनिया में सब ही की तरह
डी. के. निवातिया
रिश्तों में बेबुनियाद दरार न आने दो कभी
रिश्तों में बेबुनियाद दरार न आने दो कभी
VINOD CHAUHAN
यशस्वी भव
यशस्वी भव
मनोज कर्ण
#drarunkumarshastri
#drarunkumarshastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
2545.पूर्णिका
2545.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
उसे पता है मुझे तैरना नहीं आता,
उसे पता है मुझे तैरना नहीं आता,
Vishal babu (vishu)
*मर्यादा*
*मर्यादा*
Harminder Kaur
कदम पीछे हटाना मत
कदम पीछे हटाना मत
surenderpal vaidya
मैं लिखता हूं..✍️
मैं लिखता हूं..✍️
Shubham Pandey (S P)
सोशल मीडिया का दौर
सोशल मीडिया का दौर
Shekhar Chandra Mitra
समंदर में नदी की तरह ये मिलने नहीं जाता
समंदर में नदी की तरह ये मिलने नहीं जाता
Johnny Ahmed 'क़ैस'
तेरी परवाह करते हुए ,
तेरी परवाह करते हुए ,
Buddha Prakash
चुभे  खार  सोना  गँवारा किया
चुभे खार सोना गँवारा किया
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
चंचल मन चित-चोर है , विचलित मन चंडाल।
चंचल मन चित-चोर है , विचलित मन चंडाल।
Manoj Mahato
मज़दूर
मज़दूर
Neelam Sharma
ज़िद
ज़िद
Dr. Seema Varma
भीड़ के साथ
भीड़ के साथ
Paras Nath Jha
दास्तां
दास्तां
umesh mehra
नई पीढ़ी पूछेगी, पापा ये धोती क्या होती है…
नई पीढ़ी पूछेगी, पापा ये धोती क्या होती है…
Anand Kumar
#लघुकविता
#लघुकविता
*Author प्रणय प्रभात*
जमाने से सुनते आये
जमाने से सुनते आये
ruby kumari
Shabdo ko adhro par rakh ke dekh
Shabdo ko adhro par rakh ke dekh
Sakshi Tripathi
"जियो जिन्दगी"
Dr. Kishan tandon kranti
कविता
कविता
Shiva Awasthi
Loading...