Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Oct 2023 · 1 min read

” परदेशी पिया “

” परदेशी पिया ”

मन की गलियों में फिर से तुम घूमो,
दिल की धड़कनों को फिर से तुम सुनो।
मुझे तेरी जरूरत है ये जान लो,
विदेशी पिया तुम कब आओगे।

जब तुम मेरी बाहों में आओगे,
विदेश की धूप सब भूल जाओगे।
साथी तुम्हारे रंग बदल जायेंगे,
परदेशी पिया तुम कब आओगे ।।

9 Likes · 5 Comments · 271 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
उनका शौक़ हैं मोहब्बत के अल्फ़ाज़ पढ़ना !
उनका शौक़ हैं मोहब्बत के अल्फ़ाज़ पढ़ना !
शेखर सिंह
दोगलापन
दोगलापन
Mamta Singh Devaa
■ आज का शेर शुभ-रात्रि के साथ।
■ आज का शेर शुभ-रात्रि के साथ।
*Author प्रणय प्रभात*
पंचचामर छंद एवं चामर छंद (विधान सउदाहरण )
पंचचामर छंद एवं चामर छंद (विधान सउदाहरण )
Subhash Singhai
" तुम से नज़र मिलीं "
Aarti sirsat
"कामदा: जीवन की धारा" _____________.
Mukta Rashmi
कितना खाली खालीपन है !
कितना खाली खालीपन है !
Saraswati Bajpai
माँ
माँ
The_dk_poetry
उठ जाग मेरे मानस
उठ जाग मेरे मानस
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
यहाँ किसे , किसका ,कितना भला चाहिए ?
यहाँ किसे , किसका ,कितना भला चाहिए ?
_सुलेखा.
"फितरत"
Ekta chitrangini
प्रेम
प्रेम
Dr.Priya Soni Khare
नव संवत्सर आया
नव संवत्सर आया
Seema gupta,Alwar
आगाज़-ए-नववर्ष
आगाज़-ए-नववर्ष
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
छुपा सच
छुपा सच
Mahender Singh
रंगों की दुनिया में हम सभी रहते हैं
रंगों की दुनिया में हम सभी रहते हैं
Neeraj Agarwal
"तलाश"
Dr. Kishan tandon kranti
रक्षाबंधन
रक्षाबंधन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
विदाई गीत
विदाई गीत
Dr Archana Gupta
वसुत्व की असली परीक्षा सुरेखत्व है, विश्वास और प्रेम का आदर
वसुत्व की असली परीक्षा सुरेखत्व है, विश्वास और प्रेम का आदर
प्रेमदास वसु सुरेखा
कविता: माँ मुझको किताब मंगा दो, मैं भी पढ़ने जाऊंगा।
कविता: माँ मुझको किताब मंगा दो, मैं भी पढ़ने जाऊंगा।
Rajesh Kumar Arjun
क्षमा देव तुम धीर वरुण हो......
क्षमा देव तुम धीर वरुण हो......
Santosh Soni
ज़िंदगी ऐसी कि हर सांस में
ज़िंदगी ऐसी कि हर सांस में
Dr fauzia Naseem shad
"गाँव की सड़क"
Radhakishan R. Mundhra
23/70.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/70.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
एक उम्र बहानों में गुजरी,
एक उम्र बहानों में गुजरी,
पूर्वार्थ
एक ऐसी दुनिया बनाऊँगा ,
एक ऐसी दुनिया बनाऊँगा ,
Rohit yadav
एक किताब खोलो
एक किताब खोलो
Dheerja Sharma
|| तेवरी ||
|| तेवरी ||
कवि रमेशराज
हमने किस्मत से आँखें लड़ाई मगर
हमने किस्मत से आँखें लड़ाई मगर
VINOD CHAUHAN
Loading...